संदेश

नवंबर, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वाराणसी में बोले पीएम मोदी- कृषि कानूनों पर भ्रम फैला कर विरोध का खेल चल रहा है,

चित्र
 वाराणसी।  पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत के कृषि उत्पाद पूरी दुनियां में मशहूर हैं. क्या किसान की इस बड़े मार्केट और ज्यादा दाम तक पहुंच नहीं होनी चाहिए? अगर कोई पुराने सिस्टम से ही लेनदेन ही ठीक समझता है तो, उस पर भी कहां रोक लगाई गई है? पहले मंडी के बाहर हुए लेनदेन ही गैरकानूनी थे. ऐसे में छोटे किसानों के साथ धोखा होता था, विवाद होता था. अब छोटा किसान भी, मंडी से बाहर हुए हर सौदे को लेकर कानूनी कार्यवाही कर सकता है. किसान को अब नए विकल्प भी मिले हैं और धोखे से कानूनी संरक्षण भी मिला है. सरकारें नीतियां बनाती हैं, कानून-कायदे बनाती हैं. नीतियों और कानूनों को समर्थन भी मिलता है तो कुछ सवाल भी स्वभाविक ही है. ये लोकतंत्र का हिस्सा है और भारत में ये जीवंत परंपरा रही है. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले होता ये था कि सरकार का कोई फैसला अगर किसी को पसंद नहीं आता था तो उसका विरोध होता था, लेकिन बीते कुछ समय से हम देख रहे हैं कि अब विरोध का आधार फैसला नहीं बल्कि भ्रम फैलाकर आशंकाओं को बनाया जा रहा है. अपप्रचार किया जाता है कि फैसला तो ठीक है लेकिन इससे आगे चलकर ऐसा हो सकता है.

कथित पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर हत्या करने का पुलिस ने किया खुलासा

चित्र
अंबेडकर नगर में जनपद न्यायालय के अमीन आशीष शुक्ला की हत्या काण्ड का खुलासा पुलिस ने करते हुए बताया कि उसकी ही कथित पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर हत्या  कराई थी। हत्या के बाद कथित पत्नी को नौकरी की आस थी और उसके बाद वह प्रेमी से सात फेरे लेना चाहती थी। पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए कथित पत्नी के साथ ही उसके प्रेमी व हत्याकांड में शामिल एक अन्य सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया है। घटना में शामिल अभी एक अन्य व्यक्ति फरार चल रहा है। पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के बड़ागांव निवासी सोनू तिवारी पुत्री स्व विजय कुमार तिवारी के साथ आशीष शुक्ला के संबंध थे। आशीष की पत्नी की नामौजूदगी में सोनू उसकी पत्नी के तौर पर ही उसके घर पर रहती थी। सोनू खुद को सोनू शुक्ला पत्नी आशीष शुक्ला के रूप में प्रदर्शित करती थी। अकबरपुर थाना क्षेत्र के सीहमयी कारीरात गांव निवासी आनंद तिवारी पुत्र रमेश तिवारी से भी आशीष शुक्ला के निकट संबंध थे। आनंद, आशीष से मिलने उनके मुरादाबाद स्थित आवास पर अक्सर जाया करता था। इसी दौरान आनंद के संबंध सोनू

देव दीपावली पर चन्द्रग्रहण का जाने क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

चित्र
जौनपुर।  30 नवंबर को इस साल का अंतिम चंद्रगहण लगेगा। ज्योतिष शास्त्र अनुसार चंद्रग्रहण बहुत अधिक प्रभावपूर्ण माना जाता है। 30 नवंबर को परम पावन कार्तिक पूर्णिमा के दिन देव दीपावली भी मनाई जाती है। कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को लगने वाला है यह चंद्रगहण। यह चंद्रग्रहण उपछाया ग्रहण होगा। उपछाया होने के कारण यह चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, क्योंकि 82 फीसदी हिस्से पर पृथ्वी की छाया सूर्य की रोशनी रोकेगी, इस वजह उपच्छाया ग्रहण होगा। इस चंद्रग्रहण को अन्य कई देशों में ऑनलाइन देख सकेंगे। यह चंद्रग्रहण इस साल का चौथा चंद्रग्रहण और आखिरी चंद्रग्रहण है। साल का पहला चंद्रग्रहण 10 जनवरी, दूसरा चंद्रग्रहण 5 जून, तीसरा चंद्रग्रहण 5 जुलाई और आखरी चंद्रग्रहण 30 नवंबर को देखा जायेगा। यह चंद्रग्रहण कुल 04 घंटे 18 मिनट 11 सेकंड तक रहेगा 1.04 बजे से शुरू होकर शाम 5.22 बजे तक रहेगा। 3:13 मिनट पर यह अपने चरम पर होगा। इस चंद्र ग्रहण को भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और एशिया में देखा जा सकता है। कई देशो में इस चंद्रग्रहण बीवर चंद्रग्रहण भी कहा जाता है। तो व

कोरोना संक्रमण से अब तक जनपद में 91 मौतें हो चुकी है

चित्र
जौनपुर। कोरोना का कहर रूकने का नाम ही नहीं ले रहा है नहीं अभी तक बचाव के लिए कोई वैक्सीन ही अस्पतालो में पहुंच सकी है। सरकारी आंकड़े के अनुसार अब जनपद जौनपुर में कोरोना संक्रमण से 91लोगों की मौत हो चुकी है । आज भी जांच,रिपोर्ट आने से पता चला है कि 19 लोग कोरोना संक्रमण से संक्रमित पाये गये हैं।  यहाँ बतादे कि आम जन मानस कोरोना के भय से अब कत्तई भयभीत नहीं है प्रशासन के भी लोग अब कागजी बाजी गरी का खेल करने तक सीमित हो गये है। कोरोना संक्रमण के शुरुआती दौर में जो जनता की सहायता करने का दावा करते हुए फोटो वायरल करते रहे अब ऐसे लोग भी विलुप्त नजर आ रहे है।  कुल मिलाकर अब आवाम को कोरोना के बीच जीना पड़ रहा है। हलांकि की लगातार संक्रमण से संक्रमित मरीज मिल रहें है जो संकेत करता है संक्रमण अभी,रूका नहीं है। 

कोतवाली पुलिस को सफलता: मुठभेड़ में असलहा सहित दो बदमाश गिरफ्तार

चित्र
जौनपुर । थाना कोतवाली पुलिस ने बीती रात को एक मुठभेड़ के दौरान दो कुख्यात बदमाशो को पिस्टल मय कारतूस के साथ गिरफ्तार कर लिया है। दोनों बदमाशो के खिलाफ मु.अ.सं. 494/ 20 धारा 307 भादवि के तहत पंजीकृत करके जेल रवाना कर दिया गया है। इस सन्दर्भ में पुलिस ने बताया कि पकड़े गये बदमाशो के पास से अल्ट्रो कार जिसका नम्बर UP 62 BH 0426 है उसे भी सीज कर दिया गया है। कोतवाली प्रभारी संजीव मिश्रा के अनुसार बीती रात को भन्डारी स्टेशन के पास तिराहा पर पुलिस गस्त कर रही थी रात्रि में मुखबिर से बदमाशो को आने की सूचना मिली पुलिस ने रोका तो बदमाशो ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दिया जबाबी कार्यवाही करते हुए पुलिस ने दोनों को दबोच लिया। पकड़े गये बदमाशो ने अपना नाम सचिन यादव एवं राजेश सोनकर  बताया इसके अलावां दोनों के खिलाफ  धारा 3/25 आर्म्स का पंजीकृत किया गया है। इसमें सचिन यादव देवगांव आजमगढ़ का निवासी हैं तो राजेश सोनकर हैदरपुर सरायख्वाजा जौनपुर का निवासी हैं।        

अब हिन्दू इन्टर कालेज प्रबन्ध समिति के विवाद में कूदा भारतीय किसान युनियन

चित्र
जौनपुर।जनपद मुख्यालय से लगभग 50 किमी दूर स्थित मुंगराबादशाहपुर के हिन्दू इंटर कालेज  प्रबंध समिति के विवाद को लेकर अब भारतीय किसान युनियन मैदान में आ गया है। आरोप है कि चुनाव अधिकारी मंजूलता वर्मा द्वारा फर्जीवाड़ा करके हिन्दू इन्टर कालेज के प्रबन्ध समिति का चुनाव सम्पन्न करा दिया है।  इस मुद्दे को लेकर भारतीय किसान यूनियन डीएम से मिला। उन्हें आठ सूत्रीय मांग पत्र सौंपा और गैर शिक्षा विभाग से निष्पक्ष जांच कराकर संलिप्त दोषियों के खिलाफ विधिक कार्रवाई की मांग किया है। मांग पत्र में चेतावनी दिया है कि कार्रवाई नही हुई तो 21 दिसंबर को जिला मुख्यालय पर व्यापक पैमाने पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा।  जिला अध्यक्ष राजनाथ यादव की अगुवाई में आर पार की लड़ाई लड़ने को संकल्पित किसान यूनियन के नेताओं ने अवैध सूची से कराएं गए चुनाव को रद्द करो और दोषी भ्रस्टाचारियों को जेल भेजो के जम कर नारे लगाए। मांग पत्र में चुनाव अधिकारी मंजूलता वर्मा ने बिना सोसायटी कार्यालय से साधारण सभा के सदस्यों की वैध सूची प्राप्त किए ही षड़यंत्रकारियों से सांठगांठ कर अमान्य सूची से चुनाव करा दिया है

शिक्षा के बगैर समाज की तरक्की नहीं श्री मां फाउंडेश का कार्य सराहनीय - विद्यासागर सोनकर

चित्र
जरुरतमंदों का सहयोग करने से मिलती है सुख और शांती - अंजुला राय   जौनपुर।  मुफ्तीगंज विकासखंड के निशान गांव में श्री मां फाउण्डेशन के तत्वाधान में फाउंण्डेशन की चेयरमैन अंजुला राय की तरफ से अपने जन्मदिन को सामाजिक सहयोग दिवस के रुप में मनाते हुए सैकड़ो छात्र - छात्राओं के बीच नोटबुक व पेन वितरित कर शिक्षा के प्रति जागरुक किया गया।   बातौर मुख्य अतिथि भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रदेश महामंत्री व एमएलसी   विद्यासागर सोनकर ने कहा कि कोई भी समाज बगैर शिक्षित हुए तरक्की नहीं कर सकता है।  फाउंडेशन की चेयरमैन अंजुला राय की सोच और कार्य पद्धति से जहां आर्थिक रुप से कमजोर बच्चों को मदद मिल रही है वहीं शिक्षा के प्रति जागरुकता भी बढ़ेगी।  क्योकि शिक्षित व्यक्ति ही देश व समाज के विकास में अपनी भागीदारी सुनिश्चत कर सकता है । चेयरमैन मंजुला राय ने कहा कि  श्री मां फाउंडेशन सामाजिक कार्यो के लिए सदैव समर्पित रहता है।  कमजोर तबके के लोगों का सहयोग कर खुशी मिलती है । इसलिए अपने जन्मदिन को आज  आर्थिक रुप से गरीब छात्र छात्राओं के मनाया। इस मौके पर प्रोफेसर वीरेन्द्र प्रताप सिंह,  वरि

कानून के भय से बेखौफ दबंगो ने पत्रकार को जिन्दा किया आग के हवाले, हो गयी मौत

चित्र
मीडिया देश के चौथे स्तम्भ है और आज के समय में इसी चौथे स्तम्भ पर वार पर वार हो रहा है। सरकार केवल फर्जी दावे प्रस्तुत कर सरकार चला रही है। उत्तर प्रदेश में वर्तमान समय में पत्रकार कुछ ज्यादा असुरक्षित हो गये है। ताजा मामला जनपद बलरामपुर का है, जहां पर दबंगों ने पत्रकार के घर में घुसकर उसके साथी समेत जिंदा जला दिया। पत्रकार का नाम राकेश सिंह और साथी का नाम पिंटू साहू था। इस घटना के दौरान पत्रकार के साथी का मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पत्रकार गम्भीर रूप से झुलसे होने के कारण अस्पताल में दम तोड़ दिया। मामला बलरामपुर के कलवारी गांव का है, जहां पत्रकार राकेश सिंह अपने परिवार के साथ रहते थे। कुछ दिन पहले ही पत्रकार की पत्नी बच्चों को लेकर अपनी ननद के घर चली गई थी, जिसके बाद बीते शुक्रवार को पत्रकार राकेश अपने दोस्त पिंटू साहू के साथ अपने घर पर था।  शुक्रवार को करीह आधी रात को अचानक ही कमरे में आग लग गई। भीषण आग होने के कारण पत्रकार के साथी की मौके पर ही मृत्यु हो गई। इसी दौरान घर के कमरे की एक दीवार भी धमाके के साथ टूट गई। मौके पर पहुंची दमकल की टीमें आग पर काबू पाया और घायल प

यूपी में लव जिहाद नये कानून के तहत पहला मुकदमा इस जनपद में हुआ दर्ज

चित्र
प्रदेश में   आज की बड़ी खबर यह है कि उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से आयी है। सूबे में गैर कानूनी धर्म परिवर्तन अध्यादेश को राज्यपाल की मंजूरी मिलने के बाद इसके तहत पहला केस बरेली में दर्ज किया गया है। साफ –साफ शब्दों में कहे तो बरेली में ‘लव जिहाद’ के आरोप में नए कानून के तहत पहली एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार लव जिहाद के आरोप में बरेली के थाना देवरनिया में उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम 3/5 की धारा में केस दर्ज किया गया है। आरोपी पर जबरन धर्म परिवर्तन करने का दबाव बनाने का आरोप लगाया गया है। हालांकि आरोपी अभी फरार बताया जा रहा है।उसका नाम उबैस है। उस पर आरोप है कि उसने लड़की को बहला फुसला कर उसका धर्म परिवर्तन कराया है। केस दर्ज होने के बाद से अब पुलिस भी हरकत में आ गई है। आरोपी की धर पकड़ के लिए जगह-जगह दबिश दी जा रही है। अभी तक उसके बारें में पुलिस को कोई सुराग नहीं मिल पाया है। बता दें कि शनिवार को यूपी सरकार की ओर से पारित अध्यादेश को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंजूरी दी थी, जिसके साथ यह कानून यूपी में

सरकार से सवालःआखिर कब तक बेटियों की अस्मत लूट कर हत्या करते रहेंगे दरिन्दे

चित्र
प्रदेश की योगी सरकार बेटियों के सुरक्षार्थ लगातार कड़े कानून बनाने का दावाकर रही है तरह तरह की योजनाएं लांच कर रही है इसी कड़ी में एक योजना मिशन शक्ति भी है ताकि बेटियों को सुरक्षित रखा जाये लेकिन बहसी दरिन्दों पर किसी भी कड़ाई का कोई असर नहीं है। जब चाहते हैं बेटी की अस्मत को तार तार कर दे रहे हैं। ताजा मामला मुख्यमंत्री के गृह जनपद वाले मंडल के जनपद कुशीनगर का है। खबर मिली है कि कुशीनगर में तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र के गुरवलिया बाजार में 11 वर्षीय नाबालिग बच्ची से साथ दरिंदगी के बाद गला रेतकर हत्या से सनसनी फैल गई है। खेत से लौटते समय बालिका का अपहरण कर रेप की पुष्टि हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रेप की पुष्टि होने के बाद पुलिस की सक्रियता बढ़ गई है। पुलिस गांव की महिला समेत तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस शनिवार को पूरे दिन गन्ने के खेत में आरोपी की तलाश में जुटी रही। इस मामले में देर शाम को गांव के ही 30 वर्षीय माइगर मद्धेशिया को पुलिस ने मुख्य आरोपी के रूप में चिह्नित किया। वह रात में घर से अपने दो साल के बेटे को लेकर फरार है। गुरवलिया बाजार क

आर पी कुशवाहा बने उप्र सहकारी आवास संघ के प्रदेश सभापति

चित्र
  जौनपुर। भाजपा के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी ने पार्टी के लिये सतत सेवा करने वाले आर पी कुशवाहा को उनकी निष्ठा और पार्टी के प्रति इमानदारी का इनाम दे दिया है। आर पी कुशवाहा को उप्र सहकारी आवाम संघ का प्रदेश सभापति बनाया गया है।  श्री कुशवाहा से इस संस्था के बिषय में बात चीत करने पर उन्होंने बताया कि संघ प्रदेश में कारदायी संस्था के रूप में कार्य करेंगी। इसके अलावां प्रदेश के शहरी एवं अर्थ शहरी क्षेत्रों में जमीन खरीद कर उसमें आवास बनाने का काम करेगी आवास बनने के पश्चात संघ के सदस्यों को आवंटित किया जायेगा। साथ ही बताया कि संघ सहकारिता के विकास में सहयोगी बनेगी।  श्री कुशवाहा ने अपने नियुक्ति पर सहकारिता मंत्री के प्रति आभार ज्ञापित किया है। श्री कुशवाहा को संघ का सभापति बनाये जाने पर जौनपुर मौर्य समाज सहित भाजपा के लोगों ने बधाई ज्ञापित किया है। 

केन्द्र की सरकार अन्नदाता के दमन में जुटी हुई है कांग्रेस किसानों के साथ है खड़ी

चित्र
 जौनपुर। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर जिला एवं शहर कांग्रेस व फ्रन्टल कांग्रेस संगठन के पदाधिकारियों के द्वारा देश में चल रहे किसान आंदोलन को अपना समर्थन देते हुए जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष फैसल हसन तबरेज ने कहा कि कि देश के अन्नदाता आज सड़कों पर ठंड के मौसम पर अपनी मांग के लिए दिल्ली कूच कर रहे हैं लेकिन केंद्र की तानाशाह सरकार गलत तरीके से उनके आंदोलन को दमन करने के लिए वाटर कैनन व बैरीकेटिंग करके उनको रोकने का प्रयास कर रही है जैसे कि वह देश के अन्नदाता नहीं कोई राष्ट्र के दुश्मन है हम कांग्रेस के लोग यह मांग करते हैं कि केंद्र की सरकार किसान विरोधी लायी 3 काले कानून तत्काल वापस ले। किसान विरोधी इस कानून को तत्काल प्रभाव से वापस न  लिया गया तो इसका परिणाम भयानक हो सकता है। कांग्रेसियों ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन कर जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा इस मौके पर युवा कांग्रेस के अध्यक्ष सत्यवीर सिंह इंद्रमणि दुबे, पंकज सोनकर, आज़म ज़ैदी,राकेश सिंह डब्बू, शिखर द्विवेदी, राजकुमार गुप्ता, तौकीर खान

पिछड़े, दलित समाज के सुधारक ज्योतिराव फूले की पुण्यतिथि पर विशेष

चित्र
कपिल देव मौर्य ज्योतिराव गोविंदराव फुले की आज पुण्यतिथि है। वे एक महान समाजसुधारक, विचारक, समाजसेवी, लेखक, दार्शनिक और क्रान्तिकारी कार्यकर्ता थे। इन्हें महात्मा फुले और ज्योतिबा फुले के नाम से भी जाना जाता है। उन्‍होंने विधवाओं और महिलाओं के कल्याण के लिए बहुत काम किया, इसके साथ ही किसानों की हालत सुधारने और उनके कल्याण के लिए भी काफी प्रयास किये। महिलाओं को शिक्षा प्रदान कराने के महान कार्य के लिए उन्हें 1883 में तत्कालीन ब्रिटिश सरकार द्वारा ‘स्त्री शिक्षण के आद्यजनक’ कहा गया था। जिस समय में दलितों और महिलाओं की सामाजिक स्थिति शोचनीय थी और उनको बहुत निचला दर्जा प्राप्त था उस समय में ज्योतिराव फुले ने दलितों और महिलाओं के अधिकारों की अलख जगाई। उन्होंने सितम्बर 1873 में महाराष्ट्र में ‘सत्य शोधक समाज’ नामक संस्था का गठन किया। जिसके जरिये महिलाओं और दलितों के उत्थान के लिए क्रांतिकारी काम किये। ज्योतिराव समाज के सभी वर्गों को शिक्षा प्रदान करने के प्रबल समर्थक होने के अलावा भारतीय समाज में प्रचलित जाति पर आधारित विभाजन और भेदभाव के विरुद्ध थे। ज्योतिराव फु

सपा अधिवक्ता सभा ने पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में किया मतदान की अपील

चित्र
जौनपुर  । स्नातक विधान परिषद सदस्य का चुनाव लड़ रहे सपा के अधिकृत प्रत्याशी आशुतोष सिन्हा के पक्ष में आज सपा अधिवक्ता सभा के जिलाध्यक्ष समर बहादुर यादव के नेतृत्व में अधिवक्ताओं ने कलेक्ट्रेट एवं दीवानी बार एसोसिएशन के सदस्यों से मिल कर सपा के पक्ष मे मतदान करने की अपील किया है।  इस अवसर पर सपा अधिवक्ता सभा के जिलाध्यक्ष समर बहादुर यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी हमेशा युवाओं के हितों की लड़ाई लड़ रही है। बेरोजगारी दूर करने की दिशा में सपा के शासन काल में कई पहल किया है। स्नातक एवं अधिवक्ता समाज से अपील है कि सपा को विधान परिषद के लिए चुनें ताकि वहां पर उनके हितों की लड़ाई लड़ी जा सके।  इस अवसर पर उनके साथ अधिवक्ता गण सुहेल,  मृदुल यादव,  अखिलेश यादव, जेपी पाल आदि प्रचार मे लगे हुए थे। 

कोरोना काल में पेरोल पर रिहा 24 बन्दी कहां छिपे हैं,अभी जेल वापसी क्यों नहीं

चित्र
जौनपुर। कोरोना संक्रमण काल में संक्रमण से बचाव के चलते जेल से पेरोल पर रिहा किये गये 40 बन्दीयों में से अभी 24 बन्दी पेरोल का समय पूरा हो जाने के बाद भी जेल में वापसी नहीं किया है। अब ऐसे सभी बन्दीयो के खिलाफ जेल प्रशासन विधिक कार्यवाही करने जा रहा है। सभी बन्दी बजरिये पुलिस गिरफ्तार करके फिर जेल की सलाखों के पीछे पहुंचायें जायेंगे। साथ ही साथ ही कानून के उल्लंघन का एक नया मुकदमा झेलना पड़ेगा।  यहाँ बतादे कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान जेल खचाखच भरी हुई थी संक्रमण तेजी से पांव पसार रहा था चौतरफा हाहाकार मचा हुआ था ऐसे में जेल प्रशासन के समक्ष कैदियों, बन्दीयों को सुरक्षित रखने की गम्भीर समस्या थी। शासन के निर्णय के तहत कोरोना संक्रमण से बचने के लिए बन्दीयों को पेरोल पर कुछ समय के लिये रिहा करने का निर्णय लिया गया। शासन के इस निर्णय के तहत जौनपुर की जेल से 40बन्दी दो बार में पेरोल पर रिहा किये गये। सभी को आदेश था कि 14 नवम्बर तक पुनः जेल में अपनी आमद करा ले।  इस आदेश के तहत 15 बन्दी तो पेरोल की तिथि खत्म होने पर जेल वापसी कर लिए और एक बन्दी पेरोल की तिथि से पहले

आखिर गरीब का कसूर क्या था जो सीओ ने उसे पीटा और गलियों से नवाजा

चित्र
  प्रदेश सरकार की उदासीनता एवं पुलिस प्रशासन को दी गयी मनमानी छूटों के कारण पुलिस जनों के हौसले इतने बुलन्द है कि किसी भी व्यक्ति को कहीं भी बेइज्जत करना अथवा बल का प्रयोग करना उनका तो सगल बन गया है। ऐसे मामले लगभग प्रतिदिन प्रदेश में देखने को मिल रहे है जो खबरों की सुर्खियों में रहते हैं।  जिससे सरकार बार-बार विपक्ष के निशाने पर आ रही और सरकार को जवाब नही बन रहा। अब मित्र पुलिस के कारनामों का ताजा मामला डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के प्रभार वाले जिले रायबरेली का है। यहां आईजी एसएन साबत जिले के दौरे पर आने वाले थे, ठीक पहले ट्रैफिक की जिम्मेदारी संभाल रहे सीओ सिटी डॉ. अंजनी चतुर्वेदी ने वर्दी की खुलेआम धौंस दिखाई। उन्होंने रायबरेली-लखनऊ एनच-30 के रतापुर चौराहे पर गरीब ई-रिक्शा चालक को न सिर्फ बेरहमी के साथ जमकर पीटा बल्कि चौराहे पर ही जमकर मां-बहन की भद्दी-भद्दी गालियां भी दी। गरीब ई रिक्शा चालक की पिटाई करते हुए सीओ सिटी डॉ अंजनी चतुर्वेदी कैमरे में कैद हो गए और उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। कोरोना काल में गरीबों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों ने स्वनि

हक के लिये लड़ रहे हजारों किसानों के खिलाफ मुकदमा हुआ दर्ज

चित्र
केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों का आन्दोलन जारी है। कृषि विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को दिल्ली जाने की इजाजत भी मिल गई है। लेकिन हरियाणा सरकार ने हजारों किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है।  फिलहाल सिंधु बॉर्डर पर पंजाब के किसानों संगठनों की मीटिंग जारी है। हालांकि अब तक आंदोलित किसानों की आगे की रणनीति क्या होगा, ये अब तक साफ नहीं हो पाया है। लेकिन ज्यादातर का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं की जाएंगी, वो यहां से नहीं हटेंगे। इस बीच हरियाणा के कुरुक्षेत्र में दिल्ली की ओर कूच करने वाले किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। इन किसानों पर कुरुक्षेत्र पेहवा के साथ-साथ शाहाबाद में भी केस दर्ज किया गया है। बता दें कि पंजाब के किसानों के खिलाफ यह मुकदमा ट्यूकर बॉर्डर पर बैरिकेड तोड़ने पर दर्ज किया गया है। उनके खिलाफ डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट की धारा के तहत मामला दर्ज है। इसके अलावा पुलिस से भिड़ने, बैरिकेड तोड़ने और हत्या की कोशिश करने के लिए 11 किसान नेता को नामजद किया गया है। पेहवा में छह किसान ने

आज तय होगा किसानों के आन्दोलन की रूपरेखा जाने कैसे आगे बढ़ेगा प्रदर्शन

चित्र
केंद्र सरकार द्वारा लाये गए कृषि विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत मिल गई है। लेकिन अभी भी सिंघु बॉर्डर पर डटे हैं। आंदोलन कर रहे किसानों में गुटबाजी हो रही है। कुछ किसान संगठन बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड में जाने से इनकार कर रहे हैं, तो कुछ जाने के लिए कह रहे हैं। किसानों का आंदोलन सिंघु बॉर्डर पर जारी रहेगा या वे बुराड़ी जाएंगे, इसका फैसला मीटिंग में होगा। किसान संगठनों की मीटिंग अभी जारी है। दरअसल, शनिवार यानी आज सुबह की बैठक में तय होगा कि आंदोलन को कैसे आगे बढ़ाना है। किसान यूनियन के पंजाब के अध्यक्ष जगजीत सिंह का कहना है सरकार जब तक हमारी मांगें नहीं मानती, काले कानून वापस नहीं लेती, एमएसपी को लेकर चीजें साफ नहीं करती तब तक हमारा आंदोलन जारी रहेगा। वहीं किसानों का एक गुट इस बात पर अड़ गया है कि सरकार का कोई नुमाइंदा उनसे बॉर्डर पर आकर बात करें। आगे जगजीत सिंह ने कहा कि अगर सरकार हमसे बात करना चाहती है तो हम सरकार से बात करने को तैयार हैं, लेकिन जो डेथ वारंट किसान का लिखा गया है उसको वापस करना पड़ेगा। रही बात आंदोलन की तो वो सु

पंडित दीनदयाल के विचारों आत्मसात करने से आएगी रचनात्मकता -प्रो निर्मला एस मौर्य कुलपति

चित्र
जौनपुर। "पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की दृष्टि में आत्मनिर्भर भारत" विषय पर एक वेबिनार का आयोजन विश्वविद्यालय में स्थित दीनदयाल उपाध्याय शोध पीठ द्वारा किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर निर्मला एस मौर्य ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि हमारी नई शिक्षा नीति 2020 पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के एकात्म मानव दर्शन पर आधारित है। एकात्म मानव दर्शन शरीर, आत्मा, बुद्धि और मन में एक समन्वय स्थापित करता है। पंडित जी के एकात्म मानववाद के दर्शन में ही आत्मनिर्भर भारत का रहस्य छुपा हुआ है। पंडित जी ने स्वतंत्र भारत के लिए भारतीय वैदिक संस्कृत के मूल तत्व सर्वे भवन्तु सुखिन:, वसुधैव कुटुंबकम्, त्येन त्यक्तेन भुंजीथा:, सहनाववतु सहनौभुनक्तु से अनुप्राणित एकात्म मानववाद का दर्शन प्रस्तुत किया। पंडित जी की मान्यता थी कि व्यक्ति परिवार से परिवार समाज से समाज देश से देश दुनिया से और दुनिया ब्रह्मांड से जुड़ा है और सब परस्पर निर्भर हैं। यदि हम भारतीय समाज को पंडित जी के एकात्म मानव दर्शन पर आधारित वैचारिकी की कसौटी पर लाने में सफल हो गए तो समाज का हर व्यक्ति बिना एक दूसरे क

पुलिस को बड़ी सफलता: मुठभेड़ में तीन लाख का इनामी बदमाश मारा गया

चित्र
जनपद आजमगढ़ जिले के थाना सरायमीर क्षेत्र में बीते गुरुवार को देर रात पुलिस मुठभेड़ में तीन लाख का इनामी बदमाश सूर्याशं दूबे मारा गया, जबकि मुठभेड़ के दौरान दो पुलिसकर्मी जख्मी हो गए। एसओजी और सरायमीर पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में पुलिस को सफलता मिली है । आज़मगढ़ में बदमाशों को ढेर करने वाली पुलिस टीम को दो लाख ईनाम की घोषणा शासन की ओर से की गई। सरायमीर थाना क्षेत्र में शेरवा गांव की बस्ती नहर की पुलिया के पास बीती रात को 11 बजे के बाद पुलिस से इनामी बदमाश सुर्यांश की मुठभेड़ हुई जिसमें सूर्यांश दूबे पुलिस की गोली से घायल हो गया। अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई। मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से एसओजी का एसआई श्रीप्रकाश शुक्ला, कांस्टेबल प्रदीप पांडेय घायल हो गए। पुलिस को कई मामलों में सूर्यांश की तलाश थी। वह प्रधान सत्यमेव जयते हत्याकांड का आरोपी था। तरवां थाना क्षेत्र में प्रधान सत्यमेव जयते की हत्या की गई थी। सूचना मिलने के बाद एसपी सुधीर कुमार सिंह व डीआईजी सुभाष चंद दूबे घटना  स्थल पर पहुंच गए। सूर्यांश पर जिला प्रशासन ने 1 लाख का और शासन ने 2 लाख का ईनाम घोषित कर रखा था।

मामूली विवाद को लेकर फावड़े से गर्दन काट कर हत्या कर दिया,गिरफ्तार गया जेल

चित्र
   सरकार कानून का राज स्थापित करने के चाहे जितने दावे करे लेकिन हकीकत सरकार के दावों से कतई मेल नहीं खाते हैं। बीते दिवस   जनपद मऊ के थाना क्षेत्र के कोपा कोहना गांव में गुरुवार को दोपहर एक बहशी युवक ने दुसरे युवक को मामूली बात पर फावड़े से ताबड़तोड़ प्रहार कर सिर अलग करते हुए शरीर को कई टूकडे में कर दिया। बीच बचाव करने पहुंचे लोगों को भी बहशी युवक ने फावड़े लेकर दौड़ाने लगा। सूचना के बाद मौके पर पहुंचे एस ओ ने किसी तरह आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बताया जा रहा है कि कोपा कोहना निवासी ने गांव के बगल में ही जमीन पर बाउंड्री बाल के लिए ठेका लिया था। बाउंड्री बाल के निर्माण के लिए मृतक प्रकाश पुत्र जुगुल 26 वर्ष और गांव के ही हलचल पुत्र कुंवर सहित करीब आधा दर्जन मजदूर लगे थे। घटना के समय मृतक प्रकाश और हलचल सीमेंट मिक्सिंग कर रहे थे। इसी दौरान दोनों में किसी बात को लेकर विवाद होने शुरू हो गयी। दोनों में मामला इस कदर बढ़ गया कि हलचल ने प्रकाश पर ताबड़तोड़ फावड़े से प्रहार करने लगा। और देखते ही देखते प्रकाश के सिर को फावड़े से का

लाश मिलने से इलाके में सनसनी,परिवार के लोग जता रहे हैं हत्या की आशंका

चित्र
  जौनपुर। जनपद के थाना सुरेरी क्षेत्र स्थित ग्राम करौदी कला में घर लगभग सौ मीटर की दूरी पर ग्रामवासी विनय प्रताप सिंह पुत्र स्व बोध नरायन सिंह उम्र लगभग 54 साल की लाश मिलने से गांव में सनसनी व्याप्त है। परिजन हत्या की आशंका जता रहे हैं तो पुलिस अभी हत्या मानने को तैयार नहीं है क्योंकि पुलिस उप अधीक्षक मड़ियाहूं ने अपने बयान में कहा है कि मृतक के शरीर पर किसी तरह की कोई चोट का निशान नहीं है।  अब यहाँ पर सवाल यह उठता है कि अगर सीओ की बात सही है तो विनय प्रताप के मौत का कारण क्या है इसका खुलासा पुलिस ने नहीं किया। कब तक खुलासा होगा यह तो भविष्य के गर्भ में है लेकिन पुलिस मामले के छान बीन की बात कर रही है।  यहाँ बतादे कि बीती रात को लगभग 8 बजे विनय प्रताप सिंह सब्जी लेकर घर गया और सब्जी देकर बाजार जाने की बात करके घर से निकला फिर पूरी रात नहीं आया परिजन रात में काफी खोज बीन किये। आज सुबह उसकी लाश घर से सौ मीटर की दूरी पर खेत में मिली। परिजन हत्या की आशंका जता रहे हैं। हत्यारा कौन हो सकता है यह अभी अंधेरे में है। जो भी हो लेकिन अगर परिवार की बात सही है तो इस घटना ने एक बार फिर कानून पर प्रश

गाँधी जी के राम राज्य में गणतंत्र की आत्मा बसती है - प्रो निर्मला एस मौर्य

चित्र
जौनपुर। जनता की सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक गतिविधियों में सक्रियता ,उसकी भागीदारी तथा अधिकारों एवं कर्तव्यों के प्रति जागरूकता ही स्वस्थ एवं मजबूत गणतंत्र का मंत्र है। हमारे संविधान ने सामाजिक ,आर्थिक राजनीतिक न्याय की स्थापना और समाज के अंतिम व्यक्ति को भी गरिमा पूर्ण जीवन जीने के लिए पर्याप्त उपबंध किए हैं। इसीलिए संविधान दिवस पर हम सबको अपने संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और विश्वास जगाने और संविधान निर्माताओं के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने का काम करना चाहिए। उक्त बातें राज्यसभा सांसद सीमा द्विवेदी ने बतौर मुख्य अतिथि वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय द्वारा संविधान दिवस पर आयोजित एक दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार में कहीं। पूर्वांचल विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर निर्मला एस मौर्य ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि गांधी के राम राज्य में ही गणतंत्र की आत्मा बसती है। समाज जब धनिक और शोषित में वर्गीय हो जाता है तो वहीं से लोक साहित्य जन्म लेता है। हमारे संविधान निर्माताओं ने एक ऐसा संविधान बनाकर हम सबको दिया है जिसे पूरी तरीके से यदि लागू कर दिया जाए तो निश्चित तौर से

स्नातक चुनावः शाहगंज में विद्या सागर सोनकर, बक्शा में रमेश मिश्रा ने भाजपा के लिए मांगा वोट

चित्र
 जौनपुर।  स्नातक चुनाव को लेकर भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी केदारनाथ सिंह के पक्ष में मतदान के लिए मतदाताओ को सम्बोधित करते हुए सोधी ब्लॉक पर विधान परिषद सदस्य विद्यासागर सोनकर ने मतदाताओं को स्नातक चुनाव प्रक्रिया की बारीकियों से सबको अवगत कराया और भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान की अपील किया । बक्शा ब्लॉक पर बदलापुर के विधायक रमेश चन्द्र मिश्रा ने मतदाताओं के साथ बैठक किया।  उन्होंने मतदाताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप लोग केदारनाथ सिंह को प्रथम वरीयता का वोट देकर भारी मतों से बिजई बनाये, चुनाव में वोट देते हुये कोई त्रुटि ना हो इसके लिये उन्होंने मतदाताओ को वोट देने की प्रक्रिया बताई। उक्त अवसर पर ओम प्रकाश जयसवाल, विनय सिंह, धर्मेंद्र मिश्रा, सुनील अग्रहरि, भूपेश सिंह, बलबीर गौड़ आदि सम्मानित मतदाता उपस्थित रहें।

सरकार की श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ हड़ताल से जिले में अरबों रुपये का लेन देन प्रभावित

चित्र
  जौनपुर।  केंद्र सरकार की श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ आज केंद्रीय ट्रेड यूनियनों और बैंक कर्मियों से जुड़ी यूनियनों द्वारा हड़ताल के आह्वान पर यहाँ जनपद में सम्बंधित ट्रेड यूनिटों के कर्मचारियों ने हड़ताल करते हुए पूरे दिन काम काज बन्द रखा। हड़ताल का असर बैंकों, बीएसएनल, आयकर कार्यालय सहित केंद्र सरकार के अन्य कार्यालयों पर स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ा है । सरकारी अर्ध सरकारी कर्मचारियों के अलावां कम्युनिस्ट संगठन भी इस हड़ताल में शामिल रहे है। हड़ताली कर्मचारियों ने अपनी मांगों के समर्थन में कार्यालयों के सामने धरना प्रदर्शन और नारेबाजी की । भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर 10 केंद्रीय श्रमिक संघों ने केंद्र सरकार की विभिन्न नीतियों के खिलाफ इस हड़ताल का आह्वान किया था। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए), अखिल भारतीय बैंक अधिकारी संख्या (एआईबीओए) और भारतीय बैंक कर्मचारी महासंघ भी हड़ताल में शामिल रहे । हड़ताल के इस क्रम में पोस्ट आफिस के कर्मचारी अखिल भारतीय डाक कर्मचारी संघ के बैनर तले मुख्य डाक घर के बाहर जम कर प्रदर्शन किया और सरकार के उपर श्रम विरोधी नीतियों को लागू करने

गाइड लाइन का किया उल्लंघन तो होगा दर्ज मुकदमा

चित्र
कोरोना के इस संक्रमण काल में इस समय  शादियों का सीजन चल रहा हैं। शादी-विवाह में भीड़ होना लाजमी हैं। इस महामारी की आहट दोबारा सुनाई देने लगी है। जिसकी वजह से सरकार ने फिर से के शादियों में कई प्रतिबंध लगा दिए है। सरकार ने नई गाइडलाइन जारी कर दी है। इस गाइडलाइन के मुताबित शादी-समारोहों, सभी सामूहिक आयोजनों में लोगों के शामिल होने की संख्या सीमित कर दी है। जिसमे 200 लोग ही शामिल हो सकेंगे। राज्य सरकार ने निर्देश जारी किया हैं की मेहमानों की संख्या को अपने हिसाब से 100 या इससे और कम भी हो सकती हैं। दिल्ली में कोरोना से हाहाकार मचा रहे है। वहीं दिल्ली सरकार ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देख शादी समारोह आने वाले मेहमानों की संख्या 50 करने का फैसला लिया है। इनमें मेहमानों के अलावा फोटोग्राफर, वीडियोग्राफर भी शामिल हैं। केवल केटरिंग वालों को 100 में नहीं गिना जाएगा। इस फैसले ने बहुत से ऐसे लोगों को मायूस कर दिया है जिनकी हाल ही में शादी होने वाली है। शादियों में आये अतिथियों की संख्या पर नजर रखने के लिए हर शहरों के लिए अलग-अलग टीम को तैनात किया गया है। शादी- समारो