संदेश

जून, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

17 पिछड़ी जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल कर भाजपा ने चली बड़ी सियासी चाल

लखनऊ-दलितों के समान ही सामाजिक संरचना रखने वाली 17 अति पिछड़ी जातियों को अनुसूचित जाति का दर्जा देने की मांग दशकों से चल रही थी, समय-समय पर सरकारों ने इसके प्रयास भी किए लेकिन मौका देखते ही योगी सरकार ने इसे भी अपने पक्ष में भुना लिया। अब दूसरी दलित जातियों के साथ-साथ 17 अति पिछड़ी जातियां जिसमें कहार, केवट, मल्लाह, निषाद, कुम्हार, कश्यप, बिंद, प्रजापति, धीवर, भर, राजभर, ढीमर, बाथम, तुरहा, मांझी, मछुआ और गोड़िया अब अनुसूचित जाति का सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकती हैं। अगर देखा जाए तो अनुसूचित जाति के कोटे में 17 अति पिछड़ी जातियों को डालने का दांव मुलायम सिंह यादव ने चला था लेकिन उनका यह प्रस्ताव ठंडे बस्ते में चला गया। माना जाता है कि इन 17 अति पिछड़ी जातियों की आबादी कुल आबादी की लगभग 14 फीसदी है जो एक बहुत बड़ा वोट बैंक है और इसने पिछले चुनाव में बीजेपी को एकमुश्त वोट भी किया था।  अति पिछड़े होने की वजह से यह न तो पिछड़ी जातियों का लाभ उठा पा रहे थे और न ही दलितों का।  ऐसे में इन जातियों के अनुसूचित जाति में शामिल होने से इसका फायदा इन्हें होगा।  दरअसल, अनुसूचित जाति का दर्जा देने का आं

कांग्रेस ने उप्र के सभी जिलों की जिला इकाई को भंग कर दिया है

नयी दिल्ली। लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद कांग्रेस ने महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए सभी जिला कमेटियों को भंग कर दिया है तथा चुनाव के दौरान अनुशासनहीनता की जांच की जिम्मेदारी तीन सदस्यीय समिति को सौंपेगी। पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया की अनुशंसाओं को स्वीकार कर लिया है जिनमें कई कदमों का प्रस्ताव किया गया है। कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुताबिक दोनों प्रभारियों की अनुशंसा के मुताबिक सभी जिला कांग्रेस कमेटियों को भंग कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा उप चुनाव की तैयारियों और चुनावी प्रबंधन के लिए दो सदस्यीय समिति गठित की जाएगी। पार्टी तीन सदस्यीय अनुशासनात्मक समिति गठित करेगी जो लोकसभा चुनाव के दौरान घोर अनुशासनहीनता की जांच करेगी। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजय कुमार लल्लू को पूर्वी उत्तर प्रदेश में संगठन में बदलाव करने के लिए प्रभारी बनाया गया है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में संगठन में बदलाव के लिए प्रभारी की न

भ्रष्टाचारी अध्यक्ष से जिला भाजपा हूई मुक्त

जौनपुर । भाजपा को जो निर्णय  बहुत पहले लेना चाहिए था  वह निर्णय  बहुत बाद में लिया गया है । जी हां  हम बात कर रहे हैं  पार्टी के जिलाध्यक्ष को बदलने की ।पार्टी से लेकर  जन मानस के बीच बहुत पहले पार्टी हाई कमान के पास  निवर्तमान जिलाध्यक्ष  शुसील उपाध्याय की  शिकायत की जा रही थी । हलांकि देर आये दुरुस्त आये की कहावत को चरितार्थ करते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने आकंठ भ्रष्टाचार में डूब चुके जिलाध्यक्ष  शुसील उपाध्याय को संभवतः  बर्खास्त करते हुए  पुष्पराज सिंह को  नया जिलाध्यक्ष भाजपा जौनपुर  बना दिया है ।पार्टी के इस निर्णय की  सराहना करते हुए पार्टी के लोग ही कहते हैं कि  बहुत पहले ही  शुसील उपाध्याय को  पद मुक्त करना चाहिए था । यहां बता दे कि  शुसील उपाध्याय जब से पार्टी के जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली थी  पार्टी को  जिले में कोई खास सफलता भले ही न मिली हो लेकिन भ्रष्टाचार अपने चरम पर पहुंच गया था । पार्टी नगर पंचायत के  चुनाव से लेकर लोकसभा के चुनाव तक  जिले में पराजय का सामना किया  यहाँ तक की लोकसभा की अपनी सीट को गंवा दी है । क्योंकि शुसील उपाध्याय को अध्यक्ष पद पर रहते हुए

आज गरीब दलित का बच्चा मर रहा है और राष्ट्रपति जीवन स्तर उपर उठा रहे है

आज लोकतंत्र के मंदिर में महामहिम राष्ट्रपति का अभिभाषण हुआ सरकार की प्राथमिकताओं का बखान किया गया और यह भी बताया गया कि 2014 से पहले तक देश का नागरिक निराश था यानी अब आशाओं से ओत प्रोत है। आपकी चुनी हुई सरकार ने आपके उज्जवल भविष्य के लिए जो कार्यक्रम बनाए हैं उसका ज़िक्र महामहिम राष्ट्रपति ने किया यह ठीक उसी प्रकार है जैसे 2014 में हुआ था और आपका जीवन स्तर 2019 आते आते बहुत ऊंचा उठ गया यहां तक कि आपको कहीं भी कोई समस्या नहीं दिखती। हमें तो बधाई देनी थी महामहिम को कि उनकी सरकार में मेरा बच्चा आज मर गया है ,बधाई इसलिए दे रहा हूं कि आखिर मै गरीब दलित हूं मेरा बच्चा भी मेरी ही तरह गरीब शोषित पीड़ित पिछड़ा दलित ही था जिसका मर जाना किसी के लिए कोई मायने नहीं रखता। गरीब की मौत त्रासदी नहीं कहलाती बल्कि कुछ लोगों का व्यापार होती है ,आखिर लाशें अगर गरीब की हों तो मीडिया की टीआरपी बढ़ती है और रिपोर्टर को रिपोर्ट के लिए तमगे मिलते हैं ।बधाई दे रहा हूं आपको प्रधानमंत्री जी रात्रिभोज में सांसदों को छक कर खिलाईयेगा ,बेचारे कितना काम करते हैं यह आखिर करोड़ों जनता का बोझ है इनपर ,इनकी सेहत का विशेष

थानाध्यक्ष को सात दिन के सजा का अल्टीमेटम

जौनपुर: चंदवक थाना के लोहराखोर गांव की एक महिला की दरखास्त पर कोर्ट ने क्षेत्राधिकारी केराकत, थानाध्यक्ष समेत सात पुलिसकर्मियों पर दर्ज डकैती व एनकाउंटर की धमकी के वाद में आदेश की अवहेलना पर थानाध्यक्ष चंदवक को सात दिन के कारावास का अल्टीमेटम दिया है। पुलिस द्वारा किए गए अपराध की रिकॉर्डिंग वादिनी के घर पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में कैद है। उक्त गांव की रीता शर्मा ने कोर्ट में धारा 156(3) के तहत अधिवक्ता पंकज श्रीवास्तव के माध्यम से दरखास्त दिया कि 9 जनवरी 2019 को रात एक बजे सीओ सिटी नृपेंद्र कुमार के नेतृत्व में तत्कालीन थानाध्यक्ष चंदवक रूद्रभान पांडेय भारी संख्या में पुलिस बल के साथ वादिनी के घर में जबरन घुस आए। वादिनी के पति और देवर के बारे में पूछने लगे। पुलिसकर्मियों ने वादिनी को कई थप्पड़ मारते हुए गालियां और सर्विस रिवाल्वर सटाकर पति व देवर के एनकाउंटर की धमकी दी। पुलिसकर्मी जबरन वादिनी की स्कॉर्पियो गाड़ी लेकर चले गए। घटना की सारी रिकॉर्डिंग घर में लगे सीसीटीवी फुटेज कैमरे में मौजूद है। एसपी, डीएम और मुख्यमंत्री से शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हुई। तब उसने कोर्ट में पुलिसक

ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार चौंकाया है।  राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला लोकसभा के नए स्पीकर होंगे।  लोकसभा अध्यक्ष का नाम घोषित किए जाने के साथ ही पीएम मोदी ने एक बार फिर अपने फैसले से सबको चौंका दिया है।  ओम बिड़ला की पत्नी अमिता बिड़ला ने कहा कि यह हमारे लिए बहुत गर्व और खुशी का क्षण है।  हम उन्हें (ओम बिड़ला को) चुनने के लिए कैबिनेट के बहुत आभारी हैं। लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव आज होना है।  लिहाजा लोकसभा स्पीकर के पद को लेकर तमाम तरह की अटकलें लगाई जा रही थीं।  बीजेपी से जीतकर आए वरिष्ठ नेताओं के नाम पर मंथन चल रहा था।  लोकसभा अध्यक्ष बनने की रेस में पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी, राधामोहन सिंह, रमापति राम त्रिपाठी, एसएस अहलुवालिया और डॉ. वीरेंद्र कुमार जैसे कई दिग्गज नेताओं के नाम शामिल बताए जा रहे थे।  मोदी सरकार के 2.0 में लोकसभा अध्यक्ष के पद पर कौन विराजमान होगा, इसका फैसला अब हो गया। बहरहाल, राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला लोकसभा के नए स्पीकर होंगे।  ओम बिड़ला आज ही अपना नामांकन दाखिल करेंगे, जिसके बाद बुधवार को सदन में इसपर मतदान

गरीब है मरने के लिए पैदा हुए ही है, मंत्री जी आपको जीत की बधाई, स्वागत है आपका

आइए मंत्री जी आपका बिहार की धरती पर स्वागत है क्या पेश करू आपकी खिदमत में ? आइए आपको मौत का खेल दिखाता हूं आप पसंद करेंगे ,देखिए जब गरीब मां अपने फूल से बच्चे की लाश से लिपट कर रोती है उसपल के रोमांच को महसूस कीजिए। जी हां अरे इन्हे तो मरना ही है आखिर गरीब हैं ,यह अभी बच गए तो आगे गटर में मर जायेंगे आखिर मौत तो नियति है लिहाज़ा ज़्यादा परेशान मत होइए वैसे और बताइए आगे का क्या प्लान है? हम लोग तो बड़ी तन्मयता से जनसेवा कर रहे हैं यह भी तो देशहित में ही है आखिर जनसंख्या भी बहुत हो गई है तो इसी बहाने कुछ कम हो सकती है। मंत्री जी वैसे अगस्त भी आने वाला है मात्र 1 महीने का समय है फिर तो बच्चे मरेंगे ही आखिर अगस्त में बच्चे मरते हैं यह मै नहीं कह रहा आप उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री से पूछ लीजिए आखिर पढ़े लिखे अमीर घर के सभ्य व्यक्ति हैं झूट थोड़े बोलेंगे ! झूठे तो यह गरीब होते हैं इनसे सुबह अपने बच्चों को दूध पिलाया नहीं जाता लीची खिला देते हैं फिर चिल्लाते हैं सरकार को बदनाम करते हैं ,निर्लज्ज कहीं के। कभी कहते हैं इलाज नहीं है कभी खाना नहीं है कभी लू से मरते हैं अब इसमें सरकार क्या

रामदयालगंज में गोलियों से गंभीर रूप से घायल सौरव सिंह की इलाज के दौरान मौत

जौनपुर। रामपुर थाना क्षेत्र के जमालापुर पट्टी निवासी युवक सौरव सिंह की इलाज के दौरान वाराणसी में बीती रात 8:00 बजे मौत हो गई।    इस खबर पर घर में कोहराम मच गया है और लाइन बाजार थाना से लेकर मड़ियाहूं, रामपुर थाना सहित पीएससी गांव में किसी प्रकार की अनहोनी न हो तैनात कर दी गई है।        बता दे कि बीते पांच दिन पहले 11 जून को लाइन बाजार थाना क्षेत्र के रामदयालगंज बाजार में रात 11 बजे ताबड़तोड़ गोलियों से जमालपुर पट्टी निवासी युवक सौरव सिंह को 7 गोलियां लगी थी। जिसमें पुलिस रोशन सिंह के गनर के कार्बाइन की छीना झपटी में गोली लगना बता रही थी।   मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे जिला अस्पताल ले गई जहां से ट्रामा सेंटर वाराणसी रेफर कर दिया गया था लेकिन शुक्रवार की शाम अचानक सौरव सिंह की तबीयत खराब हुई और रात 8 बजे तक उनकी मौत हो गई।    अस्पताल से शव को पुलिस कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम की कार्रवाई कर रही थी। सौरव का शव पोस्टमार्टम के बाद शनिवार की शाम तक घर पहुंचने की संभावना दिख रही है। मौत की समाचार सुनकर लाइन बाजार पुलिस से लेकर आसपास थानों की फोर्स जमालपुर के पट्टी गांव में पहुंच गयी है। इ

संघ के दबाव में झुके मोदी और शाह फैसले को बदलते हुए राजनाथ सिंह को रखा छः समितियों में

  नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कैबिनेट मामलों की 8 समितियों के गठन की घोषणा की थी। इन आठों समितियों में गृह मंत्री अमित शाह को शामिल किया गया था लेकिन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को केवल दो समिति में ही शामिल किया गया था। नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी के प्रभावशाली होने के बाद यह पहला मौका है जब सरकार को अपने फैसले को बदलना पड़ा हो। यह पहला मौका है जब मोदी-शाह की जोड़ी साफ-साफ झुकती नजर आ रही हो और यह कमाल किया है बीजेपी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष, मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में गृह मंत्री की जिम्मेदारी संभाल चुके और वर्तमान सरकार में रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालने वाले राजनाथ सिंह ने। वैसे आपको बता दें कि राजनाथ सिंह के अध्यक्षीय कार्यकाल में ही नरेंद्र मोदी को बीजेपी की तरफ से 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था। राजनाथ सिंह ने अकेले दम पर लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज जैसे दिग्गज नेताओं के कड़े विरोध के बावजूद दिल्ली की राजनीति में मोदी का मार्ग प्रशस्त किया था। शायद इसलिए राजनाथ सिंह यह मान कर चल रहे थे कि मोद