संदेश

सितंबर, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पत्रकारिता में शब्द और भाषा का ज्ञान जरूरी -राजेंद्र सिंह

जनसंचार विभाग में संवाद कार्यक्रम का हुआ आयोजन जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के जनसंचार विभाग में मंगलवार को नए दौर की हिंदी पत्रकारिता विषयक संवाद का आयोजन किया  गया। इस संवाद कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार राजेंद्र सिंह से सीधी बात की और आधुनिक पत्रकारिता के गुण से परिचित हुए. बतौर मुख्य अतिथि लखनऊ के  वरिष्ठ पत्रकार श्री राजेंद्र सिंह ने कहा कि हिंदी पत्रकारिता के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं हैं।  शब्द और भाषा की मजबूत से आप आसानी से पत्रकारिता में ऊंचा मुकाम हासिल कर सकते है। उन्होंने पत्रकारिता के विद्यार्थियों को मीडिया इंडस्ट्री और उसके व्यावहारिक ज्ञान के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि  पत्रकारिता के क्षेत्र से जुड़ने पर अहंकार  त्याग कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि  फील्ड में काम करने के दौरान रिपोर्टर की विश्वसनीयता, धैर्य और विनम्रता ही उसे सफल बना सकती है।  विद्यार्थियों को साहित्यिक पुस्तकें पढ़ने की सलाह दी। साथ ही कहा कि शब्द ब्रह्म है जितना आपकी शब्दों पर अच्छी पकड़ होगी, उतना ही आपकी लेखनी में निखार आएगा।

केन्द्रीय नेतृत्व भाजपा ने छोड़ा चिन्मयानंद का साथ

लखनऊ । पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद  की मुसीबत बढ़ गई है। केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार के करीबी साधु-संत समाज की भी उनके प्रति हमदर्दी खत्म हो चुकी है। ऋषिकेश के एक प्रभावशाली स्वामी का कहना है कि स्वामी चिन्मयानंद निर्भीक हैं, हालांकि उनके आचरण को लेकर पहले भी शिकायतें रही हैं। उन्हें कई बार लोगों ने सचेत किया, अब उन्हें कानून का सामना करना ही होगा। सूत्रों का दावा है कि केंद्र सरकार और भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से भी उन्हें कोई सहानुभूति नहीं मिल रही है। वहींं इस प्रकरण के चलते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी असहज स्थिति में हैं। वीडियो वायरल होने से बढ़ी मुश्किलें पूर्व गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद का वीडियो वायरल होने के बाद उनकी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। सूत्रों के मुताबिक स्वामी चिन्मयानंद को लेकर विदेश से भी फोन आ रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री होने के चलते मामला थोड़ा अधिक हाई प्रोफाइल बन गया है। वह बताते हैं कि इस मामले में केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश सरकार को कुछ हिदायतें दी थीं। जिसके बाद से राज्य सरकार भी काफी संभलकर चल रही है। स्वामी का कहना है