सीएम का आदेश गणेश चतुर्दशी पर यूपी में सार्वजनिक स्थलो पर नहीं लगेगी गणेश की मूर्तियां,जानें क्या है कारण



प्रदेश सरकार द्वारा यूपी में गणेश चतुर्थी के अवसर पर सार्वजनिक स्थानों पर गणेश प्रतिमाएं स्थापित करने पर रोक लगा दी गई है। लोग अपने घरों और मंदिरों में ही भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित कर पूजन कर सकेंगे। गणेश उत्सव के दौरान कोरोना प्रोटोकाल का पूरी सख्ती से पालन करवाने और अनावश्यक भीड़ पर रोक लगाने के निर्देश दिए गए हैं।

सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने आज गुरुवार को अधिकारियों के साथ हुई उच्‍च स्‍तरीय समीक्षा बैठक में निर्देश दिया कि गणेश चतुर्थी पर्व शांतिपूर्ण ढंग से सौहार्दपूर्ण माहौल में संपन्न हो, इसके लिए सभी जरूरी इंतजाम कर लिए जाएं। इस दौरान लोगों की आस्था का सम्मान किया जाना चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाए कि सार्वजनिक स्थल पर कोई भी प्रतिमा स्थापित न हो। देवालयों और अपने घरों में लोग प्रतिमा स्थापित कर पूजन करें। उन्होंने कहा कि यह सतर्कता और सावधानी बरतने का समय है। थोड़ी सी लापरवाही संक्रमण को बढ़ाने का कारक बन सकती है।

समीक्षा बैठक में सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि डेंगू और वायरल बीमारियों के संबंध में जारी प्रदेशव्यापी सर्विलांस कार्यक्रम को प्रभावी बनाया जाए। बुखार और संक्रमण के लक्षणों के संदिग्ध मरीजों की पहचान की जाए। बुखार, दस्त और डायरिया की दवाइयां वितरित की जाएं। विशेषज्ञ टीम के दिशा-निर्देशों के अनुरूप उपचार की समस्त व्यवस्था की जाए। बेड, दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता बनाए रखी जाए। सरकारी अस्पतालों में सभी मरीजों के निःशुल्क उपचार की व्यवस्था है। फीरोजाबाद, आगरा, कानपुर, मथुरा आदि प्रभावित जिलों की स्थिति पर कड़ी नजर रखी जाए।
सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि सतत समन्वित और नियोजित प्रयासों से कोरोना की दूसरी लहर पर बने प्रभावी नियंत्रण के बीच जनजीवन तेजी से सामान्य हो रहा है। देश के अन्य राज्यों के सापेक्ष उत्तर प्रदेश में स्थिति बहुत बेहतर है। अब प्रदेश के 33 जिलों में कोविड का एक भी एक्टिव केस नहीं है। कोविड टेस्टिंग में 66 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं मिला। वर्तमान में 199 संक्रमितों का उपचार हो रहा है।  विगत 24 घंटे में हुई दो लाख 26 हजार 111 सैम्पल टेस्टिंग में 11 नए मरीजों की पुष्टि हुई। मात्र नौ जिलों में ही नए मरीज मिले। इसी अवधि में 24 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। यह सतर्कता और सावधानी बरतने का समय है। थोड़ी सी लापरवाही संक्रमण को बढ़ाने का कारक बन सकती है।


उत्तर प्रदेश के 33 जिलों में कोविड का एक भी मरीज शेष नहीं है। कोविड संक्रमण से मुक्त जिलों में अलीगढ़, अमरोहा, अयोध्या, बागपत, बलिया, बलरामपुर, बांदा, बस्ती, बहराइच, भदोही, बिजनौर, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, एटा, फतेहपुर, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, कासगंज, कौशाम्बी, ललितपुर, महोबा, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, पीलीभीत, रामपुर, शामली, सिद्धार्थ नगर और सोनभद्र शामिल हैं। औसतन हर दिन ढाई लाख से अधिक टेस्ट हो रहें हैं, जबकि पाजिटिविटी दर 0.01 से भी कम हो गया है और रिकवरी दर 98.7 फीसद है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विधायक और सपा नेता के बीच मारपीट की घटना का जानें सच है क्या,आखिर जिम्मेदार के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं

स्वागत कार्यक्रम में सपाईयों के बीच मारपीट की घटना से सपा की हो रही किरकिरी

हलाला के नाम पर मुस्लिम महिला के साथ सामुहिक दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज मौलाना फरार