शैक्षिक संस्थानों में सकारात्मक प्रतिस्पर्धा बढ़ायी जाएं- राज्यमंत्री नीलिमा कटियार


जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में प्रो.राजेंद्र सिंह भौतिकीय अध्ययन संस्थान के सभागार में आज गुरुवार को आयोजित अभिनंदन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश की उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग राज्यमंत्री नीलिमा कटियार ने कहा कि स्ववित्तपोषित महाविद्यालयों ने आमजन को शिक्षा उपलब्ध कराने  में महत्वपूर्ण भूमिका अदा  की है. महाविद्यालय के प्रबंधक अपने संस्थान के लिए विजन और रोड मैप तैयार करें। 
उन्होंने महाविद्यालयों को नैक  मूल्यांकन कराने के लिए  प्रेरित किया और कहा कि  शैक्षिक संस्थानों में सकारात्मक प्रतिस्पर्धा बढ़ायी जाएं । नई  शिक्षा नीति  की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि नई  शिक्षा नीति चार  लाख लोगों के सुझाव और तमाम शिक्षाविदों के चिंतन का परिणाम है. यह शिक्षा  नीति  सच्चे अर्थों में देश की माटी से जुडी है. समग्र भारत की मेधा का उपयोग कैसे हो इस  नीति  में इस सभी बातों का समावेश किया गया है. उन्होंने कहा  कि कोरोना काल में शिक्षकों ने ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से विद्यार्थियों  में ज्ञान प्रवाह को जारी रखा. गुणवत्तापूर्ण ई - कंटेंट भी  विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन उपलब्ध है.
विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर निर्मला एस मौर्य ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि किसी भी व्यक्ति के कार्य से उसके व्यक्तिव का निर्माण होता है. व्यक्ति की समाज में पहचान उसके कार्यों से ही  होती है. महाविद्यालय का निर्माण प्रबंधक बड़े तपस्या के साथ करते है. शैक्षिक संस्थाएं गुणवत्तायुक्त  शिक्षा के प्रसार में अपनी महती भूमिका अदा  करें। उन्होंने कहा कि स्ववित्तपोषित शिक्षक को प्रोत्साहित करने के लिए उन्हें विश्वविद्यालय की समितियों में   स्थान दिया जा रहा है.
विशिष्ट अतिथि राज्यसभा सांसद सीमा द्विवेदी ने कहा कि आज प्रबंधक महासंघ ने तीज  के दिन महिला शक्ति का  सम्मान कर गौरव बढ़ाया है. उन्होंने कहा कि  आज़मगढ़ विश्वविद्यालय बनने से पूर्वांचल विश्वविद्यालय से दो जिले कट जायेंगे और आने वाले समय में विश्वविद्यालय के लिए आर्थिक संकट खड़ा हो जायेगा। उन्होंने शिक्षा राज्यमंत्री से मांग की  विश्वविद्यालय से कम से कम 5 जनपद जोड़े जाए.
विशिष्ट अतिथि कानपुर की महापौर प्रमिला पांडे ने कहा कि अपनी जन्मभूमि जौनपुर आकर अपार ख़ुशी हुई है. पूर्वांचल विश्वविद्यालय ने पूर्वी पट्टी में शिक्षा का तेजी से प्रसार किया है. कहा कि प्रबधकों की समस्या को दूर करने में वह सदैव उनका साथ देंगीं। उन्होंने अवधी भाषा में अपने सम्बोधन से लोगों का मन मोह लिया।
महासंघ के अध्यक्ष डॉ. दिनेश तिवारी ने अतिथियों का स्वागत किया एवं स्ववित्तपोषित महाविद्यालयों की समस्याओं से अवगत कराया।  मिशन शक्ति द्वारा निर्मित डॉक्यूमेंट्री का लोकार्पण किया गया. अतिथियों को स्मृति चिन्ह एवं  अंगवस्त्रम प्रदान कर सम्मानित किया गया. कार्यक्रम को शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. विजय सिंह, आइक्यूएसी सेल के समन्वयक प्रो. मानस पांडे, महासंघ के संरक्षक अशोक दुबे ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के वित्त अधिकारी संजय राय, कुलसचिव महेंद्र कुमार, उच्च शिक्षा अधिकारी डॉ ज्ञान प्रकाश वर्मा, परीक्षा नियंत्रक बी एन सिंह, प्रो अजय द्विवेदी, प्रो बंदना राय, डॉ मनोज मिश्र, एनएसएस समन्वयक डॉ राकेश कुमार यादव, डॉ राजकुमार, डॉ दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ जान्हवी श्रीवास्तव, अन्नू त्यागी, डॉ अमरेंद्र सिंह, डॉ श्याम कन्हैया सिंह,  सहायक कुलसचिव दीपक सिंह अमृतलाल, बबीता, डॉ विजय तिवारी, संघ के संजीव सिंह, कमलेश यादव, रामनरेश यादव, संदीप तिवारी, दशरथ सिंह, केडी राम, उमेश तिवारी, संजय सिंह, डॉ पवन मिश्र, डॉ ज्ञान प्रकाश पाठक समेत तमाम लोग उपस्थित रहे। संचालन प्रमोद कुमार श्रीवास्तव ने किया। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्वागत कार्यक्रम में सपाईयों के बीच मारपीट की घटना से सपा की हो रही किरकिरी

हलाला के नाम पर मुस्लिम महिला के साथ सामुहिक दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज मौलाना फरार

मारपीट की घटना को विधायक एवं उनके समर्थको पर लूट तक का मुकदमा हुआ दर्ज