महायोजना 2031 पर काम शुरू कर दिया गया जानें किधर बढ़ेगा शहर


जौनपुर । शहर को सुनियोजित ढंग से बसाने के लिए जौनपुर महायोजना-2031 पर काम शुरू हो गया है। ऐसे में हवाई सहित परिवहन की अन्य सुविधाओं को देखते हुए जौनपुर को वाराणसी से जोड़ने की तैयारी शुरू हो गई है। इसके तहत वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग पर जलालपुर व जफराबाद के बीच टाउनशिप व औद्योगिक क्षेत्र विकसित किया जाएगा। इसके लिए विनियमित क्षेत्र की पर्याप्त भूमि उपलब्ध है। ऐसे में यहां सारी सुविधाएं उपलब्ध हो सकेंगी।

अब नए तरीके से शहर के अन्य प्रारूप को बढ़ाने के लिए जौनपुर महायोजना-2031 पर काम किया जा रहा है। इसकी मंजूरी 11 जनवरी 2022 को जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने दी। इसके तहत विनियमित क्षेत्र में शामिल किए गए 233 गांवों में विकास का खाका खींचा जा रहा है। इसके लिए 30 मई तक कलेक्ट्रेट व मास्टर प्लान कार्यालय में प्रदर्शनी लगाकर आपत्तियां मांगी गई हैं। इसके तहत वाराणसी-जौनपुर मार्ग पर टाउनशिप व औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने की बात कही जा रही है। इसके साथ ही देखा जाएगा कि विनियमित क्षेत्र में शामिल किए गए गांव आजमगढ़, गाजीपुर व अन्य जिले को जोड़ने वाले मार्ग पर हैं या नहीं। अगर यहां भी भूमि पर्याप्त होगी तो महायोजना के तहत इन क्षेत्रों में भी औद्योगिक क्षेत्र व टाउनशिप विकसित कर इन जनपदों से भी जौनपुर को जोड़ा जाएगा। इस उद्देश्य से बनाई गई योजना।


वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग पर जौनपुर सीमा में टाउनशिप व औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने के लिए सबसे बड़ी बात है कि यहां पर विनियमित क्षेत्र की भूमि उपलब्ध है। जिसके आधार पर यहां पर सरकारी कार्यालय, अस्पताल, स्कूल व पार्क को विकसित किया जा सकेगा। इसके बाद काश्तकारों की भूमि को लेकर या नए तरीके से आवासीय क्षेत्र बसाया जाएगा। काश्तकारों के प्लाट बिक्री के लिए टेंडर कराया जाएगा कि कौन सी फर्म इस कार्य को करेगी। इसके अलावा परिवहन सेवाओं की बात किया जाए तो बाबतपुर में हवाई अड्डा है। जिससे हवाई सेवाओं के माध्यम से लोगों का आवागमन रहेगा। बगल में जफराबाद रेलवे स्टेशन है, इससे महानगरों से लोग आसानी से पहुंच सकेंगे। इसके साथ ही वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग होने के कारण वाहनों का आवागमन भी आसानी से रहेगा।


नगर मजिस्ट्रेट अनिल कुमार अग्निहोत्री बताते है  कि वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग पर जौनपुर में विनियमित क्षेत्र की भूमि संरक्षित है। जिलाधिकारी ने भी टाउनशिप व औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने का सुझाव दिया है। यहां पर यातायात की अच्छी सुविधा होने के कारण इस मार्ग पर योजना को अमल में लाने की संभावनाएं ज्यादा हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन