राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप बनाएं पाठ्यक्रम : प्रो निर्मला एस.मौर्य कुलपति



जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय की कुलपति सभागार में बृहस्पतिवार को अध्ययन परिषद के संयोजकों की बैठक कुलपति प्रोफेसर निर्मला एस. मौर्य की अध्यक्षता में आहूत की गई। इस अवसर पर स्नातकोत्तर स्तर पर विश्वविद्यालय और महाविद्यालय के अध्ययन परिषद के संयोजक शामिल थे।
इस अवसर पर कुलपति प्रो. निर्मला एस.मौर्य ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 के अनुरूप पाठ्यक्रम बनाएं, जिससे विद्यार्थियों को रोजगार के अवसर प्राप्त हो सके। साथ ही कोर्स आउटकम और पाठ्यक्रम आउटकम भी बनाएं। पाठ्यक्रम बनाते समय संदर्भित बुक का भी जिक्र करना जरूरी है। प्रथम सेमेस्टर के एक पेपर के एक यूनिट में किसी महापुरुष,  स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और किसी भी वैज्ञानिक को भी शामिल करें। पाठ्यक्रम बनाते समय इलेक्टिव पेपर का भी ध्यान रखना जरूरी है। सभी सदस्यों को 20 मई तक पाठ्यक्रम तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति की गाइडलाइन का ठीक से अध्ययन करने के बाद ही पाठ्यक्रम तैयार किए जाए ताकि उसके सभी क्रेडिट को पूरा किया जा सके।
शोध परीक्षा से संबंधित सभी प्रक्रियाएं राष्ट्रीय शिक्षा नीति के आलोक में ही पूरी की जाएगी। इस संबंध में अध्ययन परिषद के सदस्यों की शंका का समाधान प्रो. मानस पांडेय ने किया। कुलसचिव महेंद्सर कुमार और सहायक कुलसचिव बबिता सिंह ने पाठ्यक्रम निर्माण के संदर्भ में दिए गये दिशा निर्देशों से अवगत कराया। 
इस अवसर पर परीक्षा नियंत्रक बीएन सिंह, सहायक कुलसचिव अमृतलाल,   प्रो. बीबी तिवारी,  प्रो. मानस पांडेय, प्रो. एके श्रीवास्तव, प्रो. अजय प्रताप सिंह, डॉ.संदीप सिंह,  डॉ.प्रदीप कुमार,  डॉ. संजीव गंगवार,  डॉ. सौरभ पाल, डॉ. धर्मेंद्र कुमार सिंह,  डॉ शशि सिंह,  डॉ. अमरेश कुमार,  डॉ राजेश कुमार पाल,  डॉ. नरेंद्र कुमार, डॉ वंदना दुबे, डॉ. गीता यादव,  डॉ माया सिंह आदि विश्वविद्यालय और महाविद्यालय के अध्ययन परिषद संयोजक में शामिल थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन