बुधवार को भी नहीं निकल सके भगवान भाष्कर गलन ठिठुरन से कांपी आवाम,बाजार में सन्नाटा

जौनपुर। जिले में हांड कंपा देने वाली ठंड का सितम जारी है। बुधवार को कड़ाके की ठंड और गलन से जनजीवन बेहाल हो गया। दिनभर सूर्य के दर्शन नहीं हुए,सर्द हवाओं के कारण लोग कांपते रहे। लोग अलाव ताप कर पूरा दिन गुजारे। जिले में अधिकतम 15 और न्यूनतम तापमान साढ़े छह डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। ठिठुरन और ठंड के कारण दीवानी न्यायालय में भी वकील हड़ताल करके काम काज से विरत होकर अलाव तापकर जीवन बचाने का प्रयास करते रहे।जबकि गुरू गोविंद जयन्ती के कारण कलेक्ट्रेट से लेकर सभी विभागो में घोषित अवकाश ने सरकारी कर्मियो को ठंड से राहत पहुंचाया है।
जिले में सप्ताहभर से शीतलहर का कहर जारी है। बर्फीली हवा से लोगों की हांड़ कांप जा रही है। ठंड से बचने के लिए लोग सुबह 10 बजे तक घरों में दुबके रहे। रोजमर्रा के कामकाज के लिए लोग घर से गर्म कपड़े पहनकर निकले। दिन ढलने के साथ गर्म कपड़े नाकाफी हो गए। लोग घर कांपते हुए पहुंचे। सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। ठंड से बच्चों और बुजुर्गों को सबसे ज्यादा परेशानी हुई। तापमान लुढ़कने से यात्रियों को काफी मुसीबत का सामना करना पड़ा। ट्रेनों की लेटलतीफी से यात्रियों को स्टेशन पर घंटों इंजतार करना पड़ा। वहीं, बसों में ढीले शीशे होने के कारण यात्रियों को परेशानी हुई। कोहरे के कारण सड़कों पर दिन में ही वाहन चालक हेडलाइट जलाकर सफर करते हुए नजर आए। घने कोहरे के बीच वाहन रेंगते रहे। सुबह पशुओं को चारा पानी देने में पशुपालकों के हाथ कांप गए। दिनभर ओस की बूंदे रहने से पशुपालक खेतों में चारा काट नहीं पाए। शहर में नगर पालिका की ओर से राहगीरों के लिए बस डिपो, रेलवे स्टेशन समेत अन्य सार्वजनिक स्थानों पर अलाव की व्यवस्था की गई है।
ग्रामीण इलाको में कोहरे की घनी चादर का असर परिवहन सेवाओं पर असर पड़ रहा है। अधिकत्तर ट्रेनें विलंब से पहुंच रही हैं। मुंबई से आने वाली गाजीपुर-बांद्रा एक्सप्रेस साढे़ तीन घंटे, सूरत से आने वाली हमसफर एक्सप्रेस पांच घंटे, दिल्ली से आने वाली सुहेलदेव एक्सप्रेस तीन घंटे, सूरत से आने वाली ताप्ति गंगा दो घंटे विलंब से जौनपुर जंक्शन स्टेशन पर पहुंची। उधर, जंघई जंक्शन पर अमृतसर से हावड़ा जाने वाली पंजाब मेल तीन घंटा 20 मिनट, गोरखपुर से लोकमान्य तिलक टर्मिनल तक जाने वाली काशी एक्सप्रेस सात घंटे 55 मिनट, दुर्ग से छपरा जाने वाली सारनाथ एक्सप्रेस दो घंटे, गाजीपुर से आनंद विहार तक जाने वाली सुहेल देव एक्सप्रेस दो घंटे 47 मिनट, गोरखपुर से लोकमान्य तिलक टर्मिनल जाने वाली गोरखपुर सुपरफास्ट एक घंटे 28 मिनट, लोकमान्य तिलक टर्मिनल से अयोध्या कैंट जाने वाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस चार घंटे विलंब से पहुंची। इससे यात्रियों को गतंव्य स्थानों पर पहुंचने व ट्रेन पकड़ने वालों को ठंड में परेशानी का सामना करना पड़ा। स्टेशन अधीक्षक जंघई वकील सिंह ने बताया कि कोहरे और ठंड के कारण लंबी दूरी की कई ट्रेन लेट चल रही हैं।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद