प्रदेश के अन्दर पीडब्लूडी की जांच में जौनपुर के इस पुल सहित 25 पुल असुरक्षित और जर्जर, देखे सूची


गुजरात के मोरबी में केबल ब्रिज टूटने की दुर्घटना के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर लोक निर्माण विभाग की ओर से कराई गई प्रदेशव्यापी जांच में प्रदेश में 25 सेतु असुरक्षित पाये गए हैं। लोक निर्माण विभाग ने प्रदेश के 5283 सेतुओं की मजबूती की जांच की। इनमें 4945 निर्मित पक्के सेतु, 294 निर्माणाधीन पक्के सेतु और 44 पान्टून पुल शामिल हैं।
लोक निर्माण विभाग जांच में 25 सेतु असुरक्षित पाये गए हैं। असुरक्षित पाये गए सेतुओं में सात मेरठ, चार चंदौली, दो-दो मीरजापुर, प्रतापगढ़ तथा एक-एक आगरा, वाराणसी, जौनपुर, शाहजहांपुर, बरेली और मुरादाबाद जिले में हैं। आगरा क्षेत्र के 418 सेतुओं में से खेरिया एयरपोर्ट सेतु की बियरिंग और ज्वाइंट्स बदलने की आवश्यकता बताई गई है।
लखनऊ क्षेत्र के 260 में रायबरेली में दो सेतु सुरक्षित नहीं बताये गए हैं जिनके स्थान पर नये सेतुओं के निर्माण का एस्टीमेट भेजा गया है। वाराणसी क्षेत्र के 262 में छह सेतुओं की मरम्मत की जरूरत है। मीरजापुर ने सिंचाई विभाग के स्वामित्व वाले गंगा नहर पुल और इमिलिया चट्टी कैनाल ब्रिज के स्लैब को क्षतिग्रस्त बताया है। क्षेत्र के कुछ सेतुओं की पैरापेट व विंग वाल टूटी हैं जिनकी मरम्मत की जरूरत है।
मीरजापुर क्षेत्र के 261 में से 259 सेतु मजबूत हैं। प्रयागराज क्षेत्र के 290 सेतु में प्रतापगढ़ में लालगंज-कालाकांकर मार्ग के किमी-34 और मानिकपुर सहजनी संपर्क मार्ग के किमी-5 पर स्थित सेतुओं के स्लैब के नीचे छड़ें दिखाई देने पर उसकी मरम्मत कराने को कहा गया है।
कानपुर क्षेत्र के 363 में से कानपुर नगर के पुराने गंगा पुल के ऊपरी और निचले डेक मार्ग यातायात के लिए पहले से बंद हैं। इन सेतुओं के पुनर्निर्माण के लिए सेतु निगम की ओर से कार्यवाही की जा रही है। मेरठ क्षेत्र के 396 में से पांच सेतुओं को यातायात के लिए असुरक्षित घोषित करते हुए उन पर चेतावनी का बोर्ड लगाने के अलावा दो क्षतिग्रस्त लघु सेतुओं के स्थान पर नए लघु सेतुओं के निर्माण का एस्टीमेट भेजा गया है।
बरेली क्षेत्र के 270 में परसाखेड़ा रेल उपरिगामी सेतु की हालत को यातायात की दृष्टि से असंतोषजनक बताया गया है। शाहजहांपुर में कोलाघाट सेतु पर यातायात खोलने के लिए सेंट्रल रोड रिसर्च इंस्टीट्यूट से अनापत्ति प्रमाणपत्र मांगा गया है। मुरादाबाद क्षेत्र के 376 सेतु में मुरादाबाद-फर्रुखाबाद मार्ग पर स्थित सेतु भी यातायात के लिहाज से असुरक्षित पाया गया है।
आजमगढ़ क्षेत्र के 92, गोरखपुर क्षेत्र के 447, बस्ती क्षेत्र के 239, अयोध्या क्षेत्र के 277, देवीपाटन क्षेत्र के 438, झांसी क्षेत्र के 28, चित्रकूट धाम क्षेत्र के 124, सहारनुपर क्षेत्र के 381 और अलीगढ़ क्षेत्र के 361 सेतु संरचनात्मक दृष्टि से सुरक्षित पाये गए हैं। यद्यपि इन क्षेत्रों के कुछ सेतुओं में साधारण मरम्मत की जरूरत बताई गई है।
लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता (सेतु) अशोक कुमार अग्रवाल ने कहा कि असुरक्षित सेतुओं की मरम्मत के लिए प्रस्ताव मांगे गए हैं। 40 लाख रुपये तक के प्रस्ताव मुख्यालय स्तर से और इससे ज्यादा के प्रस्ताव शासन द्वारा मंजूर किये जाते हैं। हमने बरेली में परसापुर आरओबी की मरम्मत के लिए 4.88 करोड़ रुपये तथा मुरादाबाद-फर्रुखाबाद मार्ग पर स्थित सेतु को दुरुस्त करने के लिए 1.01 करोड़ रुपये के प्रस्ताव शासन को मंजूरी के लिए भेजे गए हैं। इन्हें जल्द मंजूरी मिलने की उम्मीद है।

असुरक्षित पुलों की सूची

खेरिया एयरपोर्ट/आगरा

तिलेंडा से हलोर मार्ग/रायबरेली

तिलेंडा से हलोर मार्ग/रायबरेली

मंगरौर पुल/वाराणसी

चकिया भीखमपुर शेरवा/चंदौली

अहरौरा-चकिया-इलिया मार्ग/चंदौली

भभौरा नाका/चंदौली

चुप्पेपुर पुल/चंदौली

लखनऊ-मांझीघाट सेतु/जौनपुर

गंगा नहर पुल/मीरजापुर

इमिलिया चट्टी कैनाल ब्रिज/मीरजापुर

लालगंज-कालाकांकर मार्ग किमी- 34/प्रतापगढ़

मानिकपुर सहजनी संपर्क मार्ग किमी- 5/प्रतापगढ़

पुराना गंगा पुल पर ऊपरी डेक/कानपुर नगर

पुराना गंगा पुल का निचला डेक मार्ग/कानपुर नगर

छोईया नाला किमी-15/मेरठ

खजूरी नाला/मेरठ

खानपुर नाला/मेरठ

सोती नदी नया गांव/मेरठ

सोती नदी राठौरा/मेरठ

छोईया नाला रछौती/मेरठ

छोईया नाला भटीपुरा/मेरठ

परसाखेड़ा आरओबी/बरेली

शाहजहांपुर में कोलाघाट

मुरादाबाद-फर्रुखाबाद मार्ग पर स्थित सेतु/मुरादाबाद

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जानिए मुर्गा काटने के दुकान से कैसे मिला गुड्डू की लाश,पुलिस कर रही है जांच

बिजली विभाग बड़े बकायेदारो से बिल की वसूली कराये - डीएम जौनपुर

मंत्री गिरीश चन्द यादव का अखिलेश यादव पर जबरदस्त पलटवार,दे दिया केन्द्रीय मंत्री बनाने का आफर