आयुष्मान पखवाड़ा 20 जुलाई तक, अभियान चलाकर बनेगा आयुष्मान कार्ड


जौनपुर। जिले में 06 जुलाई बुधवार से शुरू होकर 20 जुलाई तक आयुष्मान पखवाड़ा मनाया जाएगा। इस दौरान सभी अंत्योदय लाभार्थियों के आयुष्मान कार्ड बनाए जाएंगे।
आयुष्मान भारत योजना के नोडल अधिकारी व अपर मुख्य चिकित्साधिकारी (एसीएमओ) डॉ राजीव कुमार ने बताया कि जनपद में कुल 1,25,472 अंत्योदय के लाभार्थी परिवार हैं जिसके सापेक्ष 68,016 परिवारों के कम से कम एक सदस्य का कार्ड बन चुका है। बाकी 56,590 परिवारों के आयुष्मान कार्ड बनाने पर विभाग का विशेष जोर है। जनपद में कुल 4,15,525 अंत्योदय के लाभार्थी है जिनमें से 1,03,671 लाभार्थियों के कार्ड बन चुके हैं। पखवाड़ा के दौरान बाकी 3,11,854 लाभार्थियों का शत-प्रतिशत कार्ड बनवाना सुनिश्चित करने की कोशिश हो रही है।
यह है व्यवस्था: पखवाड़ा के दौरान सभी कोटेदारों के यहां, सभी पंचायत भवन पर आशा कार्यकर्ता लाभार्थियों की सूची चस्पा करवाएंगी जिससे उनका कार्ड बन सके। शत-प्रतिशत कार्ड बनवाने के लिए लाभार्थियों को आशा कार्यकर्ता, संगिनी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, कोटेदार, प्रधान, सफाईकर्मी उन्हें कैंप में बुलवाने के लिए प्रेरित करेंगे।
  कहां-कहां बनेगा कार्ड: योजना के जिला सूचना प्रणाली प्रबंधक हिमांशु शेखर सिंह ने बताया कि कार्ड सभी कोटेदारों के घर पर बनाया जाएगा। पंचायत भवन में सहायक पंचायत आपरेटर बनाएंगे। कामन सर्विस सेंटर पर विलेज लेवल इंटरप्रेन्योर (वीएलई) बनाएंगे। निजी अस्पतालों के आयुष्मान मित्र भी आयुष्मान कार्ड बनाएंगे। इन सभी जगहों पर कार्ड नि:शुल्क बनेगा। अब सभी अंत्योदय राशन कार्ड धारक अपने परिवार के सभी सदस्यों के आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं। अभी तक जिले में 17,331 लोगों नेे आयुष्मान भारत योजना के तहत निःशुल्क इलाज कराया गया और उनके इलाज मेें लगभग 17.48 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। 
योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक (डीपीसी) डॉ बद्री विशाल पांडे बताते हैं कि आयुष्मान कार्ड धारक योजना के तहत पांच लाख रुपए तक का निःशुल्क इलाज पूरे देश में सूचीबद्ध किसी भी अस्पताल में करवा सकता है। आयुष्मान कार्ड होने पर लाभार्थी देश के किसी भी बड़े चिकित्सालय जैसे आल इंडिया इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस (एम्स), बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू), टाटा मेमोरियल, पीजीआई में भी इलाज करा सकता है। योजना के तहत इलाज के लिए जनपद में सरकारी अस्पताल से लेकर प्राइवेट अस्पतालों में विशेष विशेषज्ञता वाले डॉक्टरों के माध्यम से इलाज की सुविधा है। 
एसीएमओ डॉ राजीव कुमार ने जनपद के लाभार्थियों से अपना आयुष्मान कार्ड बनवा लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी किसी को इलाज में दिक्कत आ रही है तो राज्य स्तर से गठित डिस्ट्रिक्ट इम्प्लीमेंटेशन यूनिट के अधिकारियों से सम्पर्क कर सकता है। जनपद की डिस्ट्रिक्ट इम्प्लीमेंटेशन यूनिट में जिला सूचना प्रणाली प्रबंधक हिमांशु शेखर सिंह-91 90441 17874, जिला समन्वयक डॉ बद्री विशाल पांडे-91 94151 33125, जिला शिकायत प्रबंधक अवनीश श्रीवास्तव-91 70803 69406 हैं। इन नम्बरों पर फोन कर कोई भी सहयोग ले सकता है। आयुष्मान भारत योजना में सूचीबद्ध जनपद के सरकारी/निजी अस्पतालों में इलाज के दौरान आने वाली समस्याओं का निराकरण करने में डिस्ट्रिक्ट इम्प्लीमेंटेशन यूनिट पूरा सहयोग करती है जबकि निजी अस्पतालों में नोडल अधिकारी पूरा सहयोग देते हैं।
1670 बीमारियों का इलाज: आयुष्मान भारत योजना में 1670 के लगभग बीमारियों का इलाज किया जाता है जिनमें कैंसर, हृदय रोग, हड्डी रोग, सभी प्रकार की सर्जरी, न्यूरो आदि से संबंधित बीमारियों के इलाज की सुविधा है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना तथा मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना का जिन्हें पत्र मिला है। अंत्योदय कार्ड (गुलाबी राशनकार्ड) धारक, बिल्डिंग एंड अदर कंसट्रक्शन वर्कर योजना का लाभ उठा सकते हैं। वह पत्र के साथ राशनकार्ड और आधार कार्ड लेकर नजदीकी आयुष्मान मित्र या जनसेवा केंद्र के विलेज लेवल इन्टरप्रीनियर (वीएलई) से सम्पर्क कर अपना आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जफराबाद विधायक को हार्ट अटैक फस्टेड के बाद, मेदान्ता के लिए रेफर

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

योगी सरकार ने यूपी में आज फिर 12 आईएएस का तबादला, देखे सूची