जौनपुर में पर्यटन को बढ़ावा देने की पहल तेज, सजेगी ऐतिहासिक धरोहर शाही किला


जौनपुर।  जनपद में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अब प्रशासनिक पहल तेज होने लगी है। जौनपुर के शाही किला को अब झांसी के किला की तरह ऐतिहासिक धरोहर और पहचान के रूप में विकसित करके सुंदर बनाये जाने की योजना है। इसके लिए कवायद शुरू हो गई है। सब कुछ ठीक ठाक रहा तो गोमती नदी के तट पर बना यह किला भी झांसी के किले की तरह सुंदर दिखेगा और इसका लुफ्त पर्यटक सैलानी उठा सकेंगे। 
बता दें जनपद मुख्यालय पर शहर के मध्य गोमती तट पर स्थित शाही किला का निर्माण फिरोजशाह ने 1362 ई0 में कराया था। इस किले के भीतरी फाटक 26.5 फीट ऊंचा तथा 16 फीट चौड़ा है। केंद्रीय फाटक 36 फीट ऊंचा है। इसके ऊपर एक विशाल गुंबद बना है। वर्तमान में इसका पूर्वी द्वार तथा अंदर की तरफ मेहराबे आदि बनी हैं, जो इसकी भव्यता बयां करती हैं। इसके सामने के शानदार फाटक सुरक्षा की दृष्टि से बनवाए गए थे। इसे नीले एवं पीले पत्थरों से सजाया गया था। किला के अंदर तुर्की शैली का हमाम एवं एक मस्जिद भी है। इस किला से गोमती नदी एवं नगर का मनोहर दृश्य दिखाई देता है। इस किले को देखने के लिए बड़ी तादाद में सैलानी भी आते हैं। शासन-प्रशासन पर्यटन को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रहा है। काशी के पर्यटन सर्किट से जौनपुर के पर्यटक स्थलों को जोड़ने का प्रयास चल रहा है। कुछ माह पहले इसे लेकर बैठक भी हुई थी। धार्मिक पर्यटन के साथ-साथ इको टूरिज्म के लिए भी प्रशासन ने योजना बनाई है और पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने की कोशिश में लगा है, ताकि काशी में आने वाले पर्यटक जौनपुर भी आएं।
इस संदर्भ में जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा बताते है कि इसे झांसी के किले की तरह शाही किला में भी फसाड लाइट और लाइट एंड साउंड शो के सेटअप को लगाने की तैयारी है। इसके लिए प्रस्ताव तैयार किया गया है। एएसआई के अधिकारी आने वाले है, जिनसे इस पर चर्चा की जाएगी। उनकी सहमति हो जाने पर प्रस्ताव को भेज दिया जाएगा। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर में आज फिर तड़तड़ायी गोलियां एक की मौत दूसरा घायल पहुंचा अस्पताल,छानबीन मे जुटी पुलिस

बिजली कर्मियों हड़ताल को देख, वितरण व्यवस्था संचालन हेतु नोडल और सेक्टर अधिकारी नियुक्त

जानिए मुर्गा काटने के दुकान से कैसे मिला गुड्डू की लाश,पुलिस कर रही है जांच