संदेश

मई, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अधिवक्ता से पंगा लेने वाले पुलिस इंस्पेक्टर माफी मांगनी पड़ी

जौनपुर। दीवानी न्यायालय परिसर में बुधवार को उस समय अफरा-तफरी का माहौल हो गया जब एक थाना प्रभारी का सामना  विगत कुछ समय  पूर्व में उसके द्वारा प्रताड़ित अधिवक्ता से हो गया। अधिवक्ता का आरोप है कि वे अपनी जमीन कब्जा होने से बचाने के बाबत थानाध्यक्ष जफराबाद रहे पर्व कुमार सिंह से दिसम्बर 2018 में मिले थे। उस समय उन्होंने अधिवक्ता को अपमानित किया था।       मामले के अनुसार 6 माह पूर्व दिसंबर के महीने में पूर्व एयर फोर्स के अधिकारी व दीवानी के अधिवक्ता विजय कुमार यादव निवासी राजेपुर थाना जफराबाद अपनी जमीन के विवाद के मामले में तत्कालीन थानाध्यक्ष जफराबाद पर्व कुमार सिंह के पास गए थे और उनका आरोप है कि थानाध्यक्ष ने उनका अधिवक्ताओं का ड्रेस कालीकोट को फाड़ डाला और अधिवक्ता समुदाय को अपशब्दों से नवाजा था।     उन्होंने अधीक्षक को थानाध्यक्ष के खिलाफ मुकदमा करने के लिए स्वीकृति मांगने के लिए प्रार्थना पत्र दिया था किंतु अभी तक उस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया।     बुधवार को पूर्व थानाध्यक्ष और वर्तमान में पुलिस अधीक्षक के पीआरओ पर्व कुमार सिंह दिखाई दिए जिनसे विजय कुमार की बहस हो गयी, इन्सपेक्

अरूण जेटली ने मंत्री बनने से किया इनकार

लखनऊ। शपथ ग्रहण से पहले केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। जिसमें अपील की है कि उन्हें मंत्री बनाने का विचार ना किया जाए। जेटली ने स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए लिखा कि पिछले 18 महीने से उनकी तबीयत खराब है ऐसे में वह जिम्मेदारी को नहीं निभा पाएंगे। इसलिए उन्हें मंत्री बनाने पर कोई विचार ना करें। अपने ट्विटर पर उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र की कॉपी साझा की। जिसमें उन्होंने कहा, ‘पिछले पांच सालों में आपके कार्यकाल का हिस्सा होना मेरे लिए काफी सम्मान की बात है और यह सीखने वाला अनुभव रहा। इससे पहले भी एनडीए की पहली सरकार के दौरान पार्टी ने मुझे जिम्मेदारी सौंपी थी। पार्टी के संगठन और विपक्ष में रहने के दौरान भी मैंने कुछ जिम्मेदारियां संभाली। मैं इससे ज्यादा की मांग नहीं कर सकता हूं।उन्होंने कहा, ‘पिछले 18 महीनों से मैं कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहा हूं। हालांकि मेरे डॉक्टरों ने मुझे कई बीमारियों से उबार लिया है। चुनाव अभियान के बाद जब आप केदारनाथ के लिए रवाना हो रहे थे तब मैंने आपको मौखिक रूप से बताया था कि चुनाव अभियान के दौरान म

कैबिनेट की बैठक में सात महत्वपूर्ण फैसलो पर सरकार की मुहर

लखनऊ।  आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड जीत के बाद उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कद और बढ़ गया है। तकरीबन दो महीने के बाद मंगलवार को योगी सरकार की कैबिनेट बैठक हुई। जीत पर बैठक में धन्यवाद प्रस्ताव पारित हुआ। सरकार ने सात महत्वपूर्ण फैसलों पर मुहर लगाई। सरकार में मंत्री व प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि गन्ना नीति में संशोधन का प्रस्ताव पास हुआ। उत्तर प्रदेश राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम में भी बदलाव पर मुहर लगी है। बैठक के बाद स्थानांतरण नीति में संशोधन के जरिये राज्य कर्मचारियों के तबादलों के लिए अंतिम समयसीमा को 31 मई से बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। लोकभवन में हुई कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया कि मंडल में सात साल से जमे और जिले में तीन साल से जमे लोगों के तबादले किए जाएंगे। कैबिनेट की बैठक में गौ-संरक्षण और गन्ना किसानों के हक में फैसले लिए गए। उप्र गौ सरंक्षण एवं संवर्धन कोष नियमावली-2019 पर मुहर लगी है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में नागरिक उड्डयन विभाग में विभिन्न परियोजनाओं के लिये एकमुश्त बजट व्यवस्था के अन्तर्गत प्रदान की गई स

शोध गुरु बलात्कार के आरोप में गये सलाखों के पीछे

वाराणसी।  जंसा   थाना क्षेत्र के शम्भूपुर गांव के रहने वाले अशोक मिश्रा बैंक में कैशियर हैं इनके कुल का दीपक, दीपक मिश्रा उर्फ़ गुरु ने इनकी इज्जत मिट्टी में मिला दी । गुरु बीएचयू से दर्शनशास्त्र विषय से स्नातकोत्तर था और शोध भी कर रहा था लेकिन उसकी संगत बिगड़ी या फिर कहें पुरुवा हवा का असर पड़ा पढ़ाई छोड़ वह मौज मस्ती करने लगा । इसी दौरान पिछले वर्ष उसने एक परिचित लड़की को अपने कमरे ( सुंदरपुर) में बुलाया और चाय में नशीला पदार्थ मिला कर उसकी आबरू लूट ली साथ ही उसके चार अन्य दोस्तों ने भी उसे हवस का शिकार बनाया । उसके बाद से गुरु फरार चल रहा था लेकिन शनिवार को लंका पुलिस ने उसे धर दबोचा । उसके ऊपर पच्चीस हजार का इनाम भी था । लंका पुलिस की कार्यवाही इस तरह रही .. लंका पुलिस ने फरार चल रहे इनामी बदमाश दीपक मिश्रा उर्फ़ गुरु को नरिया तिराहे से शनिवार की रात गिरफ्तार किया । गुरु के ऊपर बीते साल एससीएसटी और बलात्कार का मुकदमा दर्ज किया गया था। उसके बाद से आरोपी की तलाश में पुलिस जुटी थी। सीओ भेलूपुर अनिल कुमार ने रविवार को लंका थाने पर आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि मुखबीर के जरिए लंका पुलिस

मीराबाई की भक्ति में उर्दू अल्फाज़ की मिठास

तीन साल की मेहनत से तैयार की किताब (IST)हाशिम रजा जलालाबादी के 1510 शेर में पढ़े जा सकेंगे मीराबाई के भजन। 17 जून को IIC दिल्ली से होगा किताब का विमोचन। शायर अलीगढ़ विवि से अध्यापन छोड़ चला रहे मीराबाई फाउंडेशन।... जौनपुर । हे, री मैं तो प्रेम दीवानी, मेरो दरद न जाणै कोय.... अब तो दरस दे दो कुंज बिहारी.... जैसे भक्तिरस में सराबोर पदों की रचनाकार, मन में कृष्ण को अपना पति मानकर, उनकी भक्ति की पराकाष्ठा तक पहुंचने वाली, प्राचीन काल की कवयित्री मीराबाई के पदों और भजनों को अब उर्दू अल्फाज व मिठास के साथ पढा जा सकेगा। अंबेडकर नगर के जलालपुर की सरजमीं पर करीमपुर के नगपुर में जन्मे हाशिम रजा 'जलालाबादी' ने गंगा जमुनी तहजीब को संजोने वाले पद्मश्री अनवर जलालपुरी और यश भारती नैयर जलालपुरी की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए प्राचीन काल की सूर, तुलसी, कबीर की कड़ी की कवियित्री 'कान्हा की जोगन' मीराबाई के पदों एवम भजनों को अपनी किताब' मीराबाई उर्दू शायरी में (नगमा-ए-इश्क-ओ-वफ़ा) लिख डाला। मीरा की तरह फकीराना अंदाज को बयां करती उनकी यह शायरी' फकीर हूँ, मैं फकीराना शान काफी है... खुदा

वे दस बड़ी वजहे जिसकी वजह से लोकसभा में भाजपा ने लहराया परचम

इस चुनाव में लोगों ने विपक्ष के आरोपों की जगह मोदी सरकार के काम को तरजीह दी है। भाजपा की इस बड़ी जीत के पीछे कोई एक कारण नहीं कई वजहें रही हैं। आइये करते हैं उन वजहों की पड़ताल...... नई दिल्‍ली, मौजूदा लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अकेले दम पर 303 सीटों पर जीत दर्ज की है। अभी तक के आंकड़ों के मुताबिक, एनडीए को कुल 346 सीटें गई हैं। भाजपा ने विपक्षी दलों को जिस प्रकार करारी शिकस्‍त दी है। उससे एक बात पूरी तरह साफ हो जाती है कि इस चुनाव में लोगों ने विपक्ष के आरोपों की जगह मोदी सरकार के काम को तरजीह दी है। भाजपा की इस बड़ी जीत के पीछे कोई एक कारण नहीं कई वजहें रही हैं। आइये जानते हैं उन मुद्दों को जिन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में जबरदस्‍त हवा बनाने का काम किया... मोदी के सामने विपक्ष के पास नहीं था कोई चेहरा इस चुनावी विजय के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद एक बड़ी वजह थे। यही कारण रहा कि पूरा चुनाव नरेंद्र मोदी के इर्द-गिर्द ही घूमता रहा। विपक्षी दलों के नेताओं पर भी मोदी ही रहे। विपक्षी दलों में कोई भी ऐसा नेता नहीं था जिसकी छवि नरेंद्र मोदी को चुनौती दे पाती। प्रधानम

नयें सांसदों को मिलेगा सीधे स्थायी पहचान पत्र ऑनलाइन पंजीयन की व्यवस्था

नयी दिल्ली, 22 मई सत्रहवीं लोकसभा में चुनकर आने वाले नये सांसदों के लिए इस बार ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की गयी है और उन्हें आते ही स्थायी पहचान पत्र दिया जायेगा। 67 साल के संसदीय इतिहास में यह पहला मौका है जब सांसदों को अस्थायी पहचान पत्र के बजाय सीधे ही स्थायी पहचान पत्र दिये जायेंगे। लोकसभा महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव ने 17 वीं लोकसभा की तैयारियों के बारे मे संवाददाताओं को बताते हुये बुधवार को कहा कि इस बार 56 नोडल अधिकारी बनाये गये हैं जो चुनाव परिणाम आते ही चुने गये सांसदों से संपर्क स्थापित करेंगे। नये सांसदों के दिल्ली आने से पहले ही उनसे ऑनलाइन ऐसे फॉर्म भरवा लिये जायेंगे जिनकी तुरंत जरूरत होती है। इनमें शपथ ग्रहण की भाषा, उनका पता, हस्ताक्षर का नमूना आदि शामिल हैं। अन्य फॉर्म जो बाद में भी भरे जा सकते हैं उनके लिए अभी ऑनलाइन सुविधा नहीं दी गयी है । जब सांसद दिल्ली आयेंगे तो संसद भवन के कमरा नंबर 62 में बने पंजीकरण डेस्क पर दो-तीन मिनट में शेष औपचारिकताएँ पूरी कर 10 मिनट के अंदर उन्हें स्थायी पहचान पत्र जारी कर दिये जायेंगे। अब तक नये सांसदों को पंजीकरण के बाद पहले अस्थायी