आशुतोष की हत्या के बाद परिजनों को सांत्वना देने पहुंचे अभाकाम के प्रदेश अध्यक्ष


जौनपुर। भाजपा नेता एवं पत्रकार आशुतोष श्रीवास्तव की अपराधियों द्वारा दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या किए जाने को लेकर जहां आमजन में पुलिस निष्क्रियता को लेकर आक्रोश दिखा। वहीं परिजनों को सांत्वना देने अखिल भारतीय कायस्थ महासभा उप्र के प्रदेश अध्यक्ष डॉ इन्द्रसेन श्रीवास्तव अपनी टीम के साथ मृतक आशुतोष के परिजनों से मिलकर हर संभव मदद का भरोसा दिया।
पीड़ित परिजनों को सांत्वना देने पहुंचे अखिल भारतीय कायस्थ महासभा उप्र के प्रदेश अध्यक्ष डॉ इन्द्रसेन श्रीवास्तव ने कहा कि पत्रकार हत्या की वारदात के पीछे पुलिसिंग की नाकामी और अपराधियों के बुलन्द हौसले के कारण  पत्रकार आशुतोष श्रीवास्तव की हत्या कर दी गई। पत्रकार आशुतोष पर हमले की सूचना पुलिस को पहले से ही थी। इसके बावजूद आशुतोष श्रीवास्तव को सुरक्षा नहीं दी गई। उन्हें भगवान भरोसे छोड़ दिया गया। पुलिस की इसी उदासीनता से बदमाशों के हौसले बुलंद हो गए। आखिरकार दिनांक 13 मई को उन्होंने इमरानगंज चैराहे पर घेरकर दिनदहाड़े उन्हें मौत के घाट उतार दिया।शाहगंज के कोतवाल क्षेत्राधिकारी शाहगंज की शिथिल भूमिका के कारण आज एक प्रबुद्ध समाजिक पत्रकार को जान से हाथ धोना पड़ा। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि हमले की पूर्व सूचना होने के बाद भी पत्रकार की हत्या हो जाने पर लापरवाही बरतने के आरोप में दोषी कोतवाल को निलंबित करने और क्षेत्राधिकारी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जानी चाहिए इस मामले सभी दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ की आवाज दबाने का यह कुत्सित प्रयास बेहद निंदनीय है। परिजनों को न्याय मिलना चाहिए इसके लिए हमसब परिजनों के साथ है।न्याय को लेकर हमसबको पूरे प्रदेश में यदि धरना प्रदर्शन करना पड़ेगा तो पीछे नहीं हटेंगे। प्रदेश अध्यक्ष डॉ इन्द्रसेन श्रीवास्तव के साथ जिला अध्यक्ष नीलमणि श्रीवास्तव मल्हनी भाजपा विधानसभा प्रभारी प्रभात श्रीवास्तव, राजेश उपाध्याय, अभिषेक श्रीवास्तव,रवीश चन्द्र पाण्डेय, आदित्यनाथ सहित अनेक गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?