बेटी की डोली उठने से पहले उठ गयी मां की अर्थी,परिवार में मचा कोहराम


विधाता की रचना के आगे इंसान की हर कोशिश फेल हो जाती है। जी बेटी की डेली उठने से पहले मां की अर्थी का उठ जाना कुछ ऐसा ही संकेत करता है। जी हां जनपद आजमगढ़ के थाना मेंहनगर क्षेत्र की घटना है। बेटी की बरात आने से कुछ घंटे पहले मंगलवार शाम मां सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गई।अस्पताल में उपचार के दौरान आज बुधवार की सुबह मौत हो गई। बेटी की डोली उठने के पहले ही मां की मौत से शादी की खुशियां मातम में बदल गई। परिजनों में कोहराम मच गया। खुशी का वातावारण अचानक गम में बदल गया।  
बता दें अंतिम संस्कार के पहले ही उक्त बेटी का विवाह दोनों परिवारों की रजामंदी से आज बुधवार को दिन में ही करा दिया गया। शव को सामने रखकर बेटी का सिंदूरदान किया गया। इस मार्मिक दृष्य से लोगों की आंखों से आंसू थम नहीं रहे थे। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 
मेंहनगर थाना क्षेत्र के गोपालपुर अतिबलपट्टी गांव निवासी उर्मिला देवी (48) पत्नी सिरताज के छोटी पुत्री किरन की आज बुधवार को शादी थी। उर्मिला बेटी के विवाह की तैयारी में जुटी हुई थी। इसी दौरान मंगलवार शाम सड़क पार कर रही थी कि बाइक सवार की चपेट में आ गयी। हादसे में उर्मिला गंभीर रूप से घायल हो गई।
परिजनों ने आनन-फानन इलाज के लिए लालगंज स्थित प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया। बुधवार अलसुबह करीब चार बजे उर्मिला ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। बेटी की डोली उठने के पहले ही मां की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। मृतका के पति तो जैसे दो राहे में फंस गए। एक तरफ बेटी की शादी तो दूसरी तरफ पत्नी की मौत से वे उलझ कर रह गए।
सिरताज ने घटना की सूचना लड़के के घर वालों को दी और अंतिम संस्कार के पूर्व बेटी का विवाह संपन्न कराने का अनुरोध किया। जिस पर लड़के के घर वाले बिना बरात के ही दुल्हे को लेकर गोपालपुर अतिबलपट्टी पहुंच गए। जहां परिजनों के करूण-क्रंदन के बीच किसी तरह विवाह और सिंदूरदान की रस्म दिन में ही संपन्न करा दी गई। उर्मिला दो पुत्र व दो पुत्रियों की मां थी। हादसे के बाद बाइक सवार मौके पर अपनी बाइक छोड़ कर फरार हो गया था। बाइक नंबर के आधार पर मृतका के पति ने थाने पर तहरीर दी है। पुलिस जांच पड़ताल कर रही है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन