ग्राम रोजगार सेवको ने दी चेतावनी, मांग पूरी नहीं हुई तो होगा आन्दोलन


जौनपुर। उत्तर प्रदेश ग्राम रोजगार सेवक संघ के बैनर तले आज बुधवार को जिले भर के ग्राम रोजगार सेवकों ने डीएम मनीष कुमार वर्मा को अपनी समस्याओ को लेकर मांग पत्र सौंपा। डीएम ने मुख्य विकास अधिकारी सीलम साईं तेजा को अतिशीघ्र समस्या के निस्तारित का निर्देश दिया। 
संगठन के जिलाध्यक्ष लक्ष्मी नारायण चौरसिया ने सीडीओ को बताया कि ग्राम रोजगार सेवको समेत मनरेगा के अन्य सभी कर्मियों की  ईपीएफ धनराशि कटौती किए जाने के बाद भी उनके निजी खाते में अभी तक विकास खंड कार्यालयों से कोई राशि नहीं भेजी गयी है। जबकि इस संबंध में पूर्व में दिए गए मांग पत्र पर खुद डीएम ने अधिकारियों को निर्देशित किया था।
जिलाध्यक्ष ने डीएम श्री वर्मा को बताया कि शासन के विशेष निर्देश पर वर्ष 2019-20 में जिले भर के सभी संविदा कर्मियों का इपीएफ का खाता खुलवाया गया था।इसके बाद अप्रैल 2020 से प्रतिमाह मिलने वाले मानदेय से नियमित तौर पर जिले के सभी ब्लॉक स्तर से कटौती की गई। परंतु किसी भी संविदा कर्मी का  ईपीएफ से काटी गई राशि की रकम उसके निजी खाते में हस्तांतरित नहीं कि गयी है। ईपीएफ की धनराशि काटे जाने के बाद भी संबंधित संविदा कर्मियों के परिवारजनों को किसी प्रकार की राशि न मिलने से उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद ही खराब हो गई है।
जिलाध्यक्ष ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि इस संबंध में जब गहराई से जांच पड़ताल की गई तो विकास भवन स्थित मनरेगा सेल से बताया गया कि जिले भर के संविदा कर्मियों की ईपीएफ से काटी गई करोड़ों रुपये की राशि 21  विकास खंड कार्यालयों को स्थानांतरित कर दी गई है। इसके संबंध में अभी पंद्रह दिन पहले भी ग्राम रोजगार सेवकों का एक प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी से मुलाकात कर ईपीएफ की धनराशि जमा कराने की मांग की गई थी ।
ऐसे में जरूरत है कि उक्त मामले की जांच करके संबंधित दोषी जनों के खिलाफ कार्रवाई की जाए और काटी  राशि संबंधित कर्मियों के खाते में भेजी जाए तथा मृत ग्राम रोजगार सेवकों के परिजनों को आर्थिक लाभ दिया जाय। साथ ही चेतावनी भी दिया कि मांग पूरी न होने की दशा में जिले भर के रोजगार सेवक आन्दोलन की राह पर होगे। इस मौके पर संगठन के महामंत्री राकेश कुमार, महेंद्र कुमार यादव, करंजाकला ब्लॉक अध्यक्ष बृजेश कुमार मौर्य, संतोष कुमार मौर्य, दिलीप कुमार आर्य, आशीष कुमार, संजय गुप्ता, कमलेश कुमार , रतन लाल गुप्ता, उर्मिला यादव, शोभा यादव , ज्योति यादव  अन्य उपस्थित रहे।
3 ग्राम रोजगार सेवकों की मौत के बाद भी संजीदा नहीं हुआ प्रशासन
जौनपुर। डीएम मनीष कुमार वर्मा को दिए  गए मांग पत्र में संगठन के जिलाध्यक्ष लक्ष्मी नारायण चौरसिया ने बताया कि अधिकारियों की लापरवाही यह है जब जिले में तीन ग्राम रोजगार सेवकों की मौत हो चुकी है। मृतक ग्राम रोजगार सेवकों में शिवराम कृष्ण विश्वकर्मा ग्राम पंचायत दुहावर विकास खण्ड रामनगर एवं कैलाश चंद यादव ग्राम पंचायत रामनगर विकास खण्ड बदलापुर और जय शंकर दूबे ग्राम शीहीपुर विकास खण्ड सिकरारा शामिल है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

यूपी में फिर 11 आईएएस अधिकारियों का तबादला, देखे सूची