टी.बी. मुक्त भारत अभियान में पीयू रहेगा साथ: प्रो. निर्मला एस. मौर्य


 करंजाकला स्वास्थ्य केंद्र पर 45 क्षय रोगियों को दिया गया पौष्टिक आहार

 जौनपुर। करंजाकला स्वास्थ्य केंद्र के सभागर में सोमवार को माननीय राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल के निर्देश पर क्षय रोग जागरूकता एवं पौष्टिक आहार वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। बतौर अध्यक्ष वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय की  कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि टीबी मुक्त भारत अभियान में विश्वविद्यालय परिवार अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड काल की विपरीत परिस्थितियों के बावजूद विश्वविद्यालय परिवार ने पूर्व में 66 क्षय रोगियों को गोद लेकर उनके स्वस्थ होने तक पूरी देखभाल की है। पुनः 779 क्षय रोगियों को गोद लेकर उनके स्वस्थ होने में लगातार मदद की जा रही है और आज 72 क्षय रोगियों को गोद लिया गया। टीबी की बीमारी को सावधानी और सही इलाज से मात दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सेवा से बढ़कर और कोई धर्म नही है। हम सभी सेवाभाव और उचित उपचार से प्रदेश और देश को 2025 तक टीबी मुक्त करेंगे। इस अवसर पर उन्होंने 45 क्षय रोगियों को पौष्टिक आहार का वितरण भी किया।
कुलसचिव महेंद्र कुमार ने सभी क्षय रोगियों को समय से दवा एवं पौष्टिक आहार लेने के लिए प्रेरित किया और कहा कि हमारा विश्वविद्यालय परिवार परहित सरिस धर्म नहिं भाई, पर पीड़ा सम नहिं अधमाई की भावना से आपके साथ है समन्वयक राष्ट्रीय सेवा योजना डॉ राकेश कुमार यादव ने पूरे कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की और अभी तक विश्वविद्यालय द्वारा क्षय रोगियों के लिए किए गए कार्यों को विस्तार से बताया। कार्यक्रम को प्रो. मानस पांडेय ने भी संबोधित किया। संचालन डॉ सुशील अग्रहरी और धन्यवाद ज्ञापन प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ विवेक ने किया। इस अवसर पर परीक्षा नियंत्रक वी.एन.सिंह, प्रो. सुरजीत यादव, डॉ. मनोज मिश्र, सहायक कुलसचिव श्रीमती बबिता सिंह, डॉ अजय कुमार सिंह, डॉ राकेश कुमार बिंद, डॉ लक्ष्मी प्रसाद मौर्य, डॉ अमित वत्स, डॉ विनय कुमार वर्मा, राजीव श्रीवास्तव, प्रमोद यादव, रवि कांत पांडेय, सर्वेश यादव, संदीप कुमार यादव आदि उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर