आलोक-ज्योति जैसा प्रकरण कानपुर से अर्जुन-सविता का मामला बना चर्चा का बिषय, पति मजदूरी कर पाट रहा है कर्ज

प्रयागराज के पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्या और आलोक मौर्य के विवाद के बाद अब उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में भी  आलोक मौर्य और ज्योति मौर्या जैसा मामला प्रकाश में आया और चर्चा का बिषय बनने लगा है। इसमें भी पहले शादी, फिर नौकरी, अब बेवफाई और धमकी वाले हालात देखने को मिल रहे हैं। पत्नी की लगन देख उसे पढ़ा-लिखा कर काबिल बनाने का सपना देखने वाला पति आज दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर हो गया है। आखिर इस तरह की महिलाओ को हो क्या गया है। पतियों के प्रति अहसान फरामोस क्यों बनती जा रही है।
कानपुर के मामले मे अब पति अपने पत्नी की पढ़ाई हेतु लिए गए कर्ज की भरपाई मजदूरी से करने को मजबूर है। इसके चलते पूरा परिवार परेशान है और आस लगाए बैठा है कि किसी तरह बेटे का परिवार पहले की तरह हरा-भरा हो जाए। साथ ही बहु घर वापस आ जाए। 
बता दें कि प्रयागराज के आलोक मौर्य के बाद अब कानपुर देहात के अर्जुन सिंह का नाम भी इस तरह के विवाद में जुड़ गया है। मिली खबर के अनुसार कानपुर देहात के तहसील मैथा क्षेत्र के रविन्द्र पुरम गांव के रहने वाले अर्जुन सिंह की शादी 2017 में बस्ती जिले की रहने वाली सविता मौर्या से हुई थी। शादी के बाद सविता मौर्या में पढ़ाई की लगन देख अर्जुन ने सविता को पढ़ा लिखा कर काबिल बनाने का फैसला किया।
नर्सिंग कराने के लिए सविता का दाखिला मंधना में बने रामा कॉलेज ऑफ नर्सिंग एंड पैरा मेडिकल साइंस में करा दिया। साथ ही, खुद मजदूरी कर पैसों को इकट्ठा करने लगा। पढ़ाई पूरी होने के बाद सबसे पहले उसे दिल्ली में नौकरी मिली। सविता की नौकरी चल ही रही थी कि अर्जुन को कुछ शक हुआ।
अचानक सविता के तेवर और मिजाज बदलने लगे थे। इसके बाद अर्जुन ने सविता को वापस बुला लिया और फिर तमाम कोशिशों के बाद सविता को कानपुर देहात के रसूलाबाद के नारखुर्द में बने स्वास्थ्य केंद्र में लगवाया। यहां उसे अच्छी खासी पेमेंट मिलने लगी। अब सविता के तेवर और मिजाज फिर बदलने लगे। अर्जुन ने आरोप लगाते हुए बताया कि सविता उससे दूरी बनाने लगी है।
अब पत्नी यह कहने लगी तुम काले हो हमारा तुम्हारा स्टेट्स मेल नहीं करता है। इसके बाद विवाद शुरू हो गया। अर्जुन ने न्याय की गुहार लगाना शुरू किया, जिससे बिगड़े हालात सुधर सके। कर्ज में डूबे अर्जुन अभी भी पढ़ाई में के दौरान लिए गए कर्ज को भर रहा है और घर पर पैसा मांगने पहुंचता है।
पीड़ित अर्जुन ने बताया क वह पत्नी को पढ़ाने की ललक में कर्ज में डूब गया और तकलीफ भरी जिंदगी गुजार रहा है। अर्जुन ने बयान में कहा है कि जो मेरे साथ हुआ है, उसके बाद कोई भी व्यक्ति शादी के बाद अपनी पत्नी को नहीं पढ़ाएगा। महिला को सिर्फ घर की जिम्मेदारियों का बोझ उठाना पड़ेगा, जैसा पुराने समय मे होता रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व सांसद धनंजय सिंह के प्राइवेट गनर को गोली मारकर हत्या इलाके में कोहराम पुलिस छानबीन में जुटी

सपा ने जारी किया सात लोकसभा के लिए प्रत्याशियों की सूची,जौनपुर से मौर्य समाज पर दांव,बाबू सिंह कुशवाहा प्रत्याशी घोषित देखे सूची

21 अप्रैल को जौनपुर पहुंच कर लोकसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार का आगाज करेंगे बाबू सिंह कुशवाहा, जाने क्या है पूरा कार्यक्रम