चुनाव से पहले पूर्वांचल की जनता को साधने की सरकारी तैयारी, जाने क्या है सत्तारूढ़ दल की योजना


विधानसभा चुनाव से पहले विकास परियोजनाओं का तोहफा देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पूर्वांचल की जनता को साधेंगे। संदेश देंगे कि भाजपा सरकार जाति-धर्म से ऊपर विकास की राजनीति करती है। सरकार का मुख्य मकसद सुविधाएं बढ़ाना है। इसका फायदा युवाओं को मिलेगा। सुविधाएं बढ़ीं तो प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार बढ़ेगा। निवेश की और संभावनाएं बढ़ेंगी।
गोरखपुर, बस्ती और आजमगढ़ मंडल के 10 जिलों में विधानसभा की 62 सीटें हैं। भाजपा ने इस बार 53 सीटों पर जीत का लक्ष्य रखा है। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ताबड़तोड़ कार्यक्रम कराए जाएंगे। इसी क्रम में ही 30 जुलाई को प्रधानमंत्री सिद्धार्थनगर आ रहे हैं। प्रधानमंत्री महात्मा बुद्ध की नगरी से विकास की राजनीति का संदेश देंगे। यूपी में बन रहे नौ मेडिकल कॉलेजों का लोकार्पण करेंगे। जनता को बताएंगे कि भाजपा सरकार स्वास्थ्य सेवाओं में बढ़ोतरी कर रही है। कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी पूरी है। मेडिकल कॉलेजों के खुलने से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। इसका सीधा फायदा युवाओं को मिलेगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्तूबर में ही गोरखपुर के खाद कारखाना का भी लोकार्पण कर सकते हैं। कारखाना निर्माण का काम अंतिम चरण में है। आठ हजार करोड़ की लागत से बने कारखाने का शिलान्यास प्रधानमंत्री ने ही किया था। खाद कारखाना खुलने के बाद प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से पांच हजार युवाओं को रोजगार मिलेगा। किसानों की दिक्कत भी खत्म हो जाएगी। गोरखपुर, बस्ती, आजमगढ़, वाराणसी और फैजाबाद मंडल से जुड़े जिलों में खाद की आपूर्ति सुनिश्चित होगी। खाद की किल्लत नहीं आएगी।  
गोरखपुर एम्स का लोकार्पण भी आगामी विधानसभा चुनाव से पहले होगा। अभी एम्स की ओपीडी चल रही है। एमबीबीएस के विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे हैं। जल्द ही 750 बेड का अस्पताल चलने लगेगा। इसी के साथ एम्स गोरखपुर को जनता के लिए पूरी तरह से समर्पित कर दिया जाएगा। एम्स में इलाज की बेहतर व्यवस्था होगी। इसका फायदा पूर्वांचल के साथ ही साथ विहार और नेपाल की जनता को भी मिलेगा। प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार का बड़ा केंद्र बनेगा। एम्स का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ही किया था।
लिंक एक्सप्रेस वे से बढ़ेगी विकास की रफ्तार
गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे और गोरखपुर-वाराणसी फोरलेन का लोकार्पण भी आगामी विधानसभा चुनाव से पहले होगा। इसकी तैयारी चल रही है। गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे का पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से जोड़ा जा रहा है। इससे विकास की रफ्तार तेज होगी। लिंक एक्सप्रेस वे के दोनों तरफ औद्योगिक गलियारा बनाया जा रहा है। इससे निवेश की संभावनाएं बढ़ेंगी। ऐसा हुआ तो प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार बढ़ेगा।  
आयुष विश्वविद्यालय का शिलान्यास इसी माह
गोरखपुर में ही आयुष विश्वविद्यालय खोला जा रहा है। 299 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले विश्वविद्यालय का शिलान्यास इसी महीने संभव है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को शिलान्यास करना है। इसकी तैयारी प्रशासनिक अफसर कर रहे हैं। आयुष विश्वविद्यालय से ही यूपी के सभी वेटनरी कॉलेजों को संबंद्धता दी जाएगी। यानी गोरखपुर शिक्षा के बड़े केंद्र के रूप में उभरेगा।
पिछले विधानसभा चुनाव में जीती थी 44 सीटें
2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने गोरखपुर, बस्ती और आजमगढ़ मंडल की 62 में से 44 सीटें अकेले भाजपा ने जीती थी। दो सीटें सहयोगी दलों को मिली थीं। इस बार विकास योजनाओं के सहारे सीटें बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा गया है। इसी लिहाज से भाजपा ने लालगंज को संगठनात्मक लिहाज से नया जिला बनाया है। लालगंज भी आजमगढ़ का हिस्सा है।
भाजपा गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ. धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि भाजपा विकास की राजनीति करती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली सरकार ने यूपी को विकास की राह पर बढ़ाया है। इससे जनता खुश है। आगामी विधानसभा चुनाव विकास के मुद्दे पर ही लड़ा जाएगा। विकास परियोजनाएं जनता केे समर्पित की जाएंगी। जल्द ही मेडिकल कॉलेजों, खाद कारखाने व एम्स का लोकार्पण होगा।




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर में बसपा को जोर का झटका करीने से, डॉ जेपी सिंह ने सुभासपा किया ज्वाइन

यूपी: भाजपा ने जारी किया पहले और दूसरे चरण में चुनाव के प्रत्याशियों की सूची,योगी जी लड़ेंगे गोरखपुर से ,देखे सूची

मल्हनी विधायक लकी यादव एवं उनके एक दर्जन समर्थको पर बक्शा थाने में दर्ज हुआ मुकदमा