महिलाओं के साथ होने वाली किसी भी तरह की हिंसा कत्तई बर्दाश्त नहीं की जायेगी - जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीकला सिंह रेड्डी



जौनपुर। राष्ट्रीय महिला आयोग एवं राज्य महिला आयोग के संयुक्त तत्वाधान में कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में महिलाओं को जागरूक करने के लिए विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीकला सिंह रेडी एवं विधान परिषद सदस्य बृजेश सिंह (प्रिंशू) तथा राज्य महिला आयोग की सदस्य शशि मौर्य ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।  
मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीकला रेड्डी द्वारा कार्यक्रम में आए हुए निर्वाचित महिला ग्राम प्रधानों को धन्यवाद दिया गया एवं आशा व्यक्त की गई कि जो भी यहां कानूनी जानकारी दी गई है तथा कार्यालय के कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी दी गई है, इन सबको आप लोग समझेगी और कोई समस्या हो तो पूंछ भी लेंगी। महिलाओं विरुद्ध होने वाली हिंसा चाहे वह घरेलू हिंसा हो या यौन हिंसा हो कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इस हेतु एक व्यापक अभियान चलाए जाने की आवश्यकता है, जिसमें प्राथमिक रूप से सर्वप्रथम ब्लाकों पर कार्यक्रम किया जायेगा उसके बाद गांव में कार्यक्रम आयोजित किए जायेंगे और पंचायती राज की अवधारणा के तहत बृहद अभियान चलाया जायेगा। जिससे समाज में व्याप्त कुरीतियों को समाप्त किया जा सके और समाज को स्वास्थ्य सुरक्षित रखा जा सके।
इस अवसर पर महिलाओं को विधिक जानकारी देते हुए जिला प्रोबेशन अधिकारी ने कार्यस्थल पर महिलाओं के उत्पीड़न, निवारण, प्रतितोष पर चर्चा किया। जिसमें उनके द्वारा अवगत कराया गया उक्त अधिनियम में हर विभाग में कमेटी बनी हुई है, साथ ही जहां 10 से कम लोग कार्य करते हैं वहां उत्पीड़न के मामलों की सुनवाई करने हेतु जिला स्तर पर एक आंतरिक कमेटी बनी हुई है। वर्तमान में जिला स्तर पर गठित कमेटी की अध्यक्ष प्रवक्ता एवं हेड मनोविज्ञान विभाग तिलकधारी महाविद्यालय की डॉक्टर माया सिंह, सदस्य के रूप में महिला कल्याण अधिकारी नीता वर्मा, स्टाफ नर्स अमृता राय कार्यरत हैं। बाल संरक्षण अधिकारी चंदन राय द्वारा महिलाओं को विभिन्न हेल्पलाइन नंबर जैसे 181 महिला हेल्पलाइन, 1098 चाइल्ड लाइन, 1076 मुख्यमंत्री हेल्पलाइन इत्यादि नंबरों की जानकारी देते हुए 112 नंबर की भी जानकारी दी गई। साथ ही साइबर क्राइम से अपनी सुरक्षा करने के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि एटीएम कार्ड को कैसे सुरक्षित रखें, बैंक में ठगी का शिकार होने से कैसे बचें, सोशल साइटों के अपने आईडी को कैसे सुरक्षित रखें के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। 
महिला थानाध्यक्ष किरन मिश्रा द्वारा डायल 112 इमरजेंसी हेल्पलाइन, 1090 वूमेन पावर लाइन व सभी थानों पर बने हुए महिला हेल्पडेस्क के बारे में जानकारी दी गई। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जिला महिला चिकित्सालय की वरिष्ठ चिकित्सक डॉ शिल्पी सिंह द्वारा महिलाओं को माहवारी के समय साफ-सफाई की जानकारी दी गई एवं माहवारी के समय माहवारी हेतु अपनी बेटियों को शिक्षित करने के लिए कहा गया कि अब झिझक छोड़िए। जमाना आ गया है कि उन्हें समय से पूर्व बताया जाए, ताकि वह सुरक्षित रह सकें। किसी समस्या के चलते साफ-सफाई न होने के चलते ही बच्चेदानी का कैंसर हमारे समाज में आम बात हो गया साथ ही उन्होंने गोल्डन कार्ड बनवाने की विधि, मातृ वंदना योजना इत्यादि की विस्तृत चर्चा की। प्रधान मजिस्ट्रेट किशोर न्याय बोर्ड ज्योति अग्रवाल द्वारा आई हुई महिलाओं को घरेलू हिंसा अधिनियम कार्यस्थल पर यौन हिंसा उत्पीड़न,  दहेज प्रतिषेध अधिनियम पर विस्तार से चर्चा किया साथ ही न्यायपालिका की कार्यप्रणाली से अवगत कराया एवं आसानी से न्याय प्राप्त करने हेतु जिला विधिक सेवा प्राधिकरण दीवानी न्यायालय परिसर में आकर अपने समस्याओं को रखने हेतु सबको समझाया। बाल कल्याण समिति जौनपुर के अध्यक्ष अनिल कुमार यादव द्वारा जनमानस को भ्रूण हत्या, बालिका जन्म दर के बारे में जागरूक किया गया। गर्भ में भ्रूण परीक्षण को रोकने हेतु हम सब को दृढ़ प्रतिज्ञ होना पड़ेगा।
विधान परिषद सदस्य बृजेश सिंह ने कहा कि निश्चित रूप से शासन सराहनीय कार्य कर रहा है। कोविड-19 के बाद ऐसे जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने चाहिए और आज आने वाली महिलाएं जो चुनी हुई महिला ग्राम प्रधान है, इनको सशक्त करना, कानूनों की जानकारी देना, सरकारी कार्यालयों की कार्यप्रणाली से परिचित कराना, यह सरकार का बहुत ही सराहनीय कार्य है इसका समर्थन किया जाना चाहिए। इसे आगे भी निरंतर रूप से जारी रखा जाना चाहिए। उनके द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, योजना के अंतर्गत गांव-गांव में जनमानस के विचार को परिवर्तित करने हेतु अभियान चलाए जाने की जरूरत बताई गई। साथ ही उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को विधान परिषद के आने वाले समय में उठाने की भी बात करेंगे। उन्होनें यह भी कहा कि हमारी जो महिलाएं ग्राम प्रधान क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष, जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित हुए हैं मीटिंग में तथा बैठकों में वह स्वयं आए। क्षेत्र की समस्याओं को वह मीटिंग में आकर अपनी बात को अच्छे ढंग से अधिकारियों के समक्ष रख सके। इस प्रकार से हम एक स्वस्थ सुरक्षित और विकसित जौनपुर की अवधारणा को साकार कर सकेंगे।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर में बसपा को जोर का झटका करीने से, डॉ जेपी सिंह ने सुभासपा किया ज्वाइन

यूपी: भाजपा ने जारी किया पहले और दूसरे चरण में चुनाव के प्रत्याशियों की सूची,योगी जी लड़ेंगे गोरखपुर से ,देखे सूची

मल्हनी विधायक लकी यादव एवं उनके एक दर्जन समर्थको पर बक्शा थाने में दर्ज हुआ मुकदमा