कोरोना के साथ अब शोहदों से भी बचाएगा अशोका इंस्टीट्यूट का मिशन शक्ति मास्क



 
खतरे के समय यह मास्क तत्काल करेगा पुलिस को अलर्ट तत्काल भेज देगा महिला का लोकेशन
 
वाराणसी। अशोका इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी एंड मैनेजमेंट ने एक ऐसा फेस मास्क तैयार किया है जो कोरोना के संक्रमण के साथ शोहदों से भी बचाएगा। कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए 99 फीसदी तक बैक्टीरिया फिल्ट्रेशन एफिशिएंसी तो मिलेगी ही, खतरे के समय यह मास्क तत्काल पुलिस को अलर्ट करेगा और महिला का लोकेशन भी भेज देगा। इसे बनाने में सिर्फ 850 रुपये का खर्च आया है। अशोका इंस्टीट्यूट ने इसे नाम दिया है मिशन शक्ति।
कोरोना संक्रमण के साथ शोहदों से बचाने वाला दुनिया का यह अद्भुत मास्क अशोका इंस्टीट्यूट के शिक्षक श्याम चौरसिया ने बनाया है। श्री चौरसिया इंस्टीट्यूट के रिसर्च एंड डेवलपमेंट विंग में स्टूडेंट को हाईटेक टेक्नालाजी की ट्रेनिंग देते हैं। इन्होंने जो स्मार्ट मास्क बनाया है उसे नाम दिया गया है मिशन शक्ति। खासतौर महिलाओं को कोरोना संक्रमण के साथ शोहदों से बचाने वाला यह मास्क कई मायने में अनूठा है। इस मास्क की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसे छूते ही पुलिस हेल्पलाइन 112  पर काल स्वतः ही चला जाएगा। इसमें एक ऐसा डिवाइस लगाया गया है जो ब्लूट्रूथ से जुड़ जाता है। जैसे ही कोई मास्क पर लगे सेंसर को टच करेगा, पुलिस और मास्क पहनने वाली महिला के परिवार के सदस्यों के पास लोकेशन के साथ काल स्वतः ही चला जाएगा।
श्री चौरसिया बताते हैं कि मिशन शक्ति नामक यह मास्क न सिर्फ सुरक्षा की गारंटी देता है, बल्कि कोरोना जैसी घातक बीमारी को फटकने नहीं देता। सबसे बड़ी बात यह है कि इसे पहनने वाली महिला के चहरे को जैसे ही कोई भी टच करेगा, पुलिस अलर्ट हो जाएगी और मुश्किल में फंसी महिला भी वह बात सुन सकेगी और रिकार्ड भी कर सकेगी। साथ ही पुलिस महिला के लोकेशन पर आसानी से पहुंच सकेगी। मिशन शक्ति मास्क पर लगाई गई चिप को आसानी से निकाला जा सकेगा। साथ ही मास्क की धुलाई करने के बाद उसे दोबारा पहना भी जा सकेगा। यह लाइटवेट और कंफर्टेबल फेस मास्क हैं।
श्री चौरसिया के मुताबिक मिशन शक्ति मास्क को महिलाएं लंबे समय तक बिना किसी दिक्कत के इस्तेमाल कर सकती हैं। इसमें  99 फीसदी तक बैक्टीरिया फिल्ट्रेशन एफिशिएंसी और 95 फीसदी तक की पार्टिकल फिल्ट्रेशन एफिशिएंसी भी मिलेगी। इनमें स्ट्रेचेबल ईयर लुक्स मिलते हैं जो आसानी से एडजस्ट हो जाते हैं। इसमें हाई डेंसिटी वाले नैनोफाइबर लेयर मिलती है। इसकी वजह से सांस लेने में दिक्कत नहीं होती है, लेकिन धूल और दूसरे हानिकारक प्रदूषक तत्व अंदर नहीं आ पाते हैं। इसे ब्लैक, ब्लू, ग्रीन और वाइट कलर में तैयार किया गया है। एक्स्ट्रा सेफ्टी के लिए इसमें नोज पिन भी है। अशोका इंस्टीट्यूट इस अनूठे मिशन शक्ति मास्क को पेटेंट कराने की तैयारी कर रहा है। इस मास्क की टेक्नालाजी हासिल करने के लिए कई कंपनियां इंस्टीट्यूट से संपर्क कर रही हैं।
           

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम