नोडल अधिकारी ने जिले में विभिन्न कार्यों एवं कार्यालयों का किया निरीक्षण,नहीं देखा डीआईओएस कार्यालय भ्रष्टाचार



जौनपुर। सचिव, चिकित्सा शिक्षा विभाग उत्तर प्रदेश शासन/नोडल अधिकारी जी0एस0 प्रियदर्शी द्वारा जनपद में विभिन्न कार्यों का आज निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के क्रम मे अग्निशमन केंद्र का निर्माणाधीन आवासीय परिसर तथा कार्यालय, अग्निशमन केंद्र के साथ ही जिला पुरूष एवं म महिला अस्पताल तथा जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय का भी निरीक्षण किया गया।
अग्निमन केन्द्र निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी ने निर्देश देते हुए कहा कि आवासीय परिसर की स्वीकृति 2015 में हुई थी जिसकी पहली किस्त आने के बाद दूसरी किस्त आने में विलंब हुआ इसके पश्चात तीसरी  किस्त आने के बाद चैथी किस्त आने में एक वर्ष का समय क्यों लगा इसकी जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें। आवासीय परिसर में बने बाथरूम की छत सही न होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए नोडल अधिकारी ने छत की फिनिशिंग कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आवासीय परिसर जैसे-जैसे पूर्ण होते जाएं उनके हैंड ओवर की प्रक्रिया भी पूर्ण की जाए। आवासीय परिसर में रहने वालों द्वारा भी फीडबैक लिया जाए कि परिसर में कोई कमी तो नहीं है। फायर ब्रिगेड कर्मचारियों तथा अधिकारियों के लिए यूपीपीसीएल द्वारा आवासीय भवनों का निर्माण किया जा रहा है, जिसमें टाइप 4 के एक, टाइप 3 के 3, टाइप 2 के सात, टाइप स्पेशल के 21 तथा साधारण टाइप के 3 आवासीय भवन बनाए जा रहे हैं।


नोडल अधिकारी जनपद द्वारा जिला पुरुष तथा महिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी ने कोविड-19 टीकाकरण की जानकारी प्राप्त की। आज जिला अस्पताल में स्वास्थ्य वर्करों को कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज का टीकाकरण किया जा रहा था। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि लगभग 1500 स्वास्थ्य वर्कर टीका लगाने से शेष रह गए हैं। नोडल अधिकारी ने कहा कि जो लोग टीका नहीं लगवा रहे हैं वह किस कारण से नहीं लगाए हैं। इसकी जानकारी प्राप्त करें। पुरुष अस्पताल में दीवारों पर लोगों द्वारा पान की पीक थूकी गयी है। जिस पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए नोडल अधिकारी ने सफाई कराने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। महिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी ने कहा कि अभी भी कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन किया जाना आवश्यक है। अस्पताल में हेल्प डेस्क बनाया जाए तथा सैनिटाइजर की व्यवस्था की जाए।
निरीक्षण के इस क्रम मे नोडल अधिकारी द्वारा जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में जीपीएफ पासबुक, स्कूलों की मान्यता, मृतक आश्रित कर्मचारियों की स्थिति तथा कार्यालय में आने वाली शिकायतों की जानकारी प्राप्त की गयी। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय से लगातार आकंठ भ्रष्टाचार में गोते लगाने की खबरें वायरल हो रही है लोग परेशान हैं लेकिन नोडल अधिकारी को यहाँ पर जिला विद्यालय निरीक्षक सहित उनके बाबू का भ्रष्टाचार नहीं नजर आया जो जिले में चर्चा का बिषय बना है। नोडल अधिकारी ने देखा कार्यालय में कंप्यूटर कक्ष की बिल्डिंग बनी हुई है लेकिन कोई भी टीचर नहीं है जिससे कंप्यूटर की क्लास नहीं चल पा रही हैं, जिस पर नोडल अधिकारी ने प्रमुख सचिव शिक्षा को पत्र लिखने के लिए निर्देश दिए। नोडल अधिकारी ने मान्यता हेतु आने वाले आवेदनों की जानकारी प्राप्त की तथा निर्देश दिया कि पिछले पांच साल में जो भी मान्यता हेतु आवेदन आए उसमें से कितनी मान्यता स्वीकृत हुई तथा कितनी अस्वीकृत हुई इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करें। नोडल अधिकारी ने कार्यालय में साफ-सफाई रखने तथा अभिलेखों को व्यवस्थित रखने के निर्देश दिए। वरिष्ठ सहायक लालती देवी को अभी तक कोई भी कार्य आवंटित न होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए नोडल अधिकारी ने मालती देवी को तत्काल कार्य आवंटित करने के निर्देश जिला विद्यालय निरीक्षक को दिए।
निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला के अलावां सभी विभागों के अधिकारी गण उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन