आईपीएस अधिकारी प्रभाकर चौधरी के स्थानांतरण को लेकर सियासी जंग शुरू, सपा और आजाद अधिकार सेना मैदान में



जनपद बरेली में कांवड़ियों पर लाठीचार्ज के बाद एसएसपी प्रभाकर चौधरी का तबादला चर्चा में है साथ ही राजनैतिक अखाड़ा बनता नजर आ रहा है। इस मुद्दे को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रभाकर चौधरी के तबादले को लेकर यूपी सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बरेली में भाजपा के लोग दंगा कराना चाहते थे। जिस अधिकारी ने दंगा होने से रोका, उसे सरकार ने हटा दिया। 
अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जो कानून व्यवस्था की बात करता है, उसे भ्रष्ट भाजपा सरकार बर्खास्त कर देती है। भाजपा ने सिर्फ नारे दिए हैं। कोई काम नहीं किया है। भारत सिर्फ बातों से नहीं ठोस कामों से बदलेगा। उन्होंने कहा कि इंडिया गठबंधन भाजपा के एनडीए गठबंधन को हराएगा। 
सपा मुखिया ने कहा कि भारत की पहचान सामाजिक सद्भाव, भाईचारा, हिन्दू-मुस्लिम एकता से है। भाजपा नकारात्मक राजनीति कर रही है। देश की हालत बेहद खराब है। मणिपुर के मुद्दे पर सरकार चुप है। समाजवादी पार्टी इंडिया गठबंधन में शामिल दलों को साथ लेकर भाजपा को हराएगी। 
आजाद अधिकार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमिताभ ठाकुर ने कहा है कि उनकी पार्टी एसएसपी बरेली रहे प्रभाकर चौधरी को हटाने पर दो अगस्त को विरोध-प्रदर्शन करेगी। संगठन की प्रवक्ता नूतन ठाकुर ने अमिताभ ठाकुर के हवाले से कहा है कि प्रभाकर चौधरी ने बरेली में कानून व्यवस्था हाथ में लेने की कोशिश कर रहे कावड़ियों पर लाठीचार्ज कराया। 
उन्होंने अपने इस कार्य से बरेली की कानून व्यवस्था को खराब होने से बचाया। इसके बाद भी वोट बैंक की राजनीति के कारण उन्हें पद से हटा दिया गया। इस कृत्य का आजाद अधिकार सेना विरोध करती है। बता दें कि रविवार को जोगी नवादा में कांवड़ियों की भीड़ में शामिल अराजकतत्वो ने फायरिंग कर दी थी। इसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़ा दिया था। 

Comments

Popular posts from this blog

भीषण दुर्घटना एक परिवार के आठ सदस्यो की दर्दनाक मौत, पुलिस ने किया विधिक कार्यवाई, इलाके में कोहराम

जौनपुरिया दूल्हा स्टेज पर पिया गांजा तो दुल्हन ने किया शादी से इन्कार,पुलिसिया हस्तक्षेप के बाद बगैर दुल्हन के लौटे बाराती

एक लाख रुपए घूस लेते हुए लेखपाल चढ़ा एन्टी करप्शन टीम के हाथ पहुंच गया सलाखों के पीछे जेल