प्रदूषित शहरो की सूची में पहले नम्बर पर गाजियाबाद रहा,हवा होती जा रही है दमघोंटू


दिवाली में जलाए गए पटाखोंं और पराली के चलते राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और एनसीआर की हवा में सांस लेना जोखिम भरा हो गया है। इन शहरों की हवा दमघोंटू होती जा रही है। गाजियाबाद में तो लगातार हवा की क्वालिटी गंभीर श्रेणी में दर्ज की जा रही है। कल यानी बुधवार को देश के 141 प्रदूषित शहरों की लिस्ट में पहले नंबर पर गाजियाबाद रहा। बीते दिन गाजियाबाद का एक्यूआई 428 रहा। इसके अलावा दिल्ली में भी वायु गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में बनी हुई है। 10 नवंबर को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 372 रहा। 
इसके साथ ही कई अन्य शहरों में हालात गंभीर बने हुए हैं। इस बीच अगले दो दिन हवा के बिगड़ने का अनुमान है। ऐसा कहा जा रहा है कि 14 नवंबर से दिल्ली-एनसीआर में एयर क्लालिटी बेहतर हो सकती है। मौसम पूर्वानुमान एजेंसी सफर का कहना है कि पड़ोसी राज्यों में लगातार पराली जलाई जा रही है, जिसके चलते हवा की गुणवत्ता बिगड़ रही है। बीते 24 घंटे में ही 5317 पराली जलाई गई हैं, जिससे उत्पन्न होने वाले पीएम 2.5 की प्रदूषण में 27 फीसदी हिस्सेदारी रही। बताया गया है कि हवा की दिशा उत्तर पश्चिम बनी हुई है और रफ्तार हल्की है। जिसके चलते दिल्ली एनसीआर में पराली का कम धुओं पहुंचा है। SAFAR ने बताया कि अब अगले दो दिनों में हवा की रफ्तार में तेजी आएगी और पराली का धुओं दिल्ली एनसीआर की ओर बढ़ने लगेगा, जिससे वायु गुणवत्ता बिगड़ेगी। साथ ही दिल्ली एनसीआर पर इस दौरान प्रदूषण छाया रहेगा।
दिल्ली-एनसीआर का AQI शहर एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) गाजियाबाद 428 दिल्ली 372 फरीदाबाद 380 गुरुग्राम 340 नोएडा 374 ग्रेटर नोएडा 378 बुलंदशहर 409 हापुड़ 412 पानीपत 417 वायु गुणवत्ता सूचकांक 201 से 300 का मतलब खराब 300 से 400 बेहद खराब 401-500 गंभीर 500 से ऊपर हो तो गंभीरतम या आपातकालीन स्थिति



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर