जानिए एलआईयू इंस्पेक्टर के खिलाफ थाने में क्यों दर्ज हुई एफआईआर


जनपद चंदौली स्थित अभिसूचना इकाई (एलआईयू) में तैनात इंस्पेक्टर अभितोश त्रिपाठी और अन्य अज्ञात के खिलाफ वाराणसी के मंडुवाडीह थाने में बलवा और धमकाने सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज किया गया है। यह कार्रवाई चंदौली जिले में एलआईयू में ही तैनात रमेश चंद्र चौबे की पत्नी सीमा चौबे की तहरीर के आधार पर की गई है।
शिवदासपुर क्षेत्र की सिंदुरिया कॉलोनी में रहने वाली सीमा चौबे के अनुसार, इंस्पेक्टर अभितोश त्रिपाठी पासपोर्ट वेरिफिकेशन के नाम पर पैसा लेने के लिए उनके पति पर दबाव बनाते थे। उनके पति ने अभितोश त्रिपाठी की बात मानने से इन्कार कर दिया था। इसके साथ ही पासपोर्ट वेरिफिकेशन के नाम पर पैसा लेते हुए अभितोश और उसके सहयोगियों का वीडियो बना लिया था। 10 अगस्त 2022 की रात इंस्पेक्टर अभितोश त्रिपाठी अपने साथ सात से 8 लोगों को लेकर शिवदासपुर क्षेत्र स्थित उनके घर पर आए।अभितोश का कहना था कि पासपोर्ट वेरिफिकेशन के नाम पर हमारे द्वारा लिए गए पैसे का जो वीडियो है, उसे तत्काल डिलीट कर दो। बात न मानने पर अभितोश त्रिपाठी ने जान से मारने की धमकी दी।
सीमा चौबे ने बताया कि अभितोश त्रिपाठी ने उनका हाथ पकड़ कर उन्हें धक्का देते हुए मोबाइल छीन लिया और पासवर्ड पूछने लगे। पासवर्ड न बताने पर अभितोश त्रिपाठी ने पति और बेटे की हत्या करने की धमकी दी। धमकी से डरकर उन्होंने पासवर्ड बताया तो अभितोश त्रिपाठी ने उनके मोबाइल से अपना वीडियो डिलीट कर दिया। अभितोश त्रिपाठी के घर आने और जाने का सीसी फुटेज भी है।
बाद में उन्होंने  इस घटना की शिकायत उच्चाधिकारियों से की तो अभितोश त्रिपाठी ने उनके बच्चे का अपहरण कर हत्या की धमकी दी। घटना के संबंध में आईजीआरएस पोर्टल, डीजीपी, महिला आयोग और वाराणसी के पुलिस आयुक्त से शिकायत करने पर इंस्पेक्टर अभितोश त्रिपाठी और अन्य अज्ञात के खिलाफ मंडुवाडीह थाने में मुकदमा दर्ज किया गया।
इस संबंध में मंडुवाडीह थाना प्रभारी विमल कुमार मिश्रा ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई है। जांच में सामने आए तथ्यों के आधार पर प्रकरण में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

भीषण दुर्घटना एक परिवार के आठ सदस्यो की दर्दनाक मौत, पुलिस ने किया विधिक कार्यवाई, इलाके में कोहराम

जौनपुरिया दूल्हा स्टेज पर पिया गांजा तो दुल्हन ने किया शादी से इन्कार,पुलिसिया हस्तक्षेप के बाद बगैर दुल्हन के लौटे बाराती

एक लाख रुपए घूस लेते हुए लेखपाल चढ़ा एन्टी करप्शन टीम के हाथ पहुंच गया सलाखों के पीछे जेल