बदमाशो की गोली से घायल पत्रकार अमिताभ का वाराणसी ट्रॉमा सेंटर में उपचार के दौरान हुआ निधन, शोक की लहर



जौनपुर। जनपद में थाना जफराबाद क्षेत्र स्थित थाना से महज डेढ़ किमी की दूरी पर 18 जनवरी  बुधवार की दोपहर में दिनदहाड़े बुलेट सवार 40 वर्षीय पत्रकार को स्कॉर्पियो सवार बदमाशों द्वारा मारी गयी गोली से घायल पत्रकार का उपचार के दौरान 19/20 जनवरी की रात लगभग 2 बजे वाराणसी ट्रॉमा सेंटर में निधन हो गया। शुक्रवार की सुबह ही पत्रकार के निधन की मनहूस खबर वायरल होते ही जौनपुर के मीडिया जनों सहित शुभ चिन्तको में शोक छा गया और परिवार पर तो दुखों का पहाड़ टूट गया है। हलांकि इस कांड में पुलिस ने चार लोंगो को गिरफ्तार कर पूछ-ताछ कर रही है।
यहां बता दे कि विगत 18 जनवरी को दिन दहाड़े थाना जफराबाद क्षेत्र स्थित ग्राम मिसिर पुर निवासी पत्रकार अमिताभ मिश्रा (40) दिन में लगभग 10.30 बजे घर से जौनपुर की तरफ जाने के लिए निकले और जफराबाद थाने से करीब डेढ़ किमी पहले महरूपुर गांव के समीप शंकर गंज बाजार पहुंचे थे कि एक स्कार्पियो सवार बदमाशों ने आगे आकर अमिताभ मिश्र को निशाना बनाकर चलती स्कार्पियो से गोली चलाया गोली उनके कमर के ऊपर पेट के पास लगी। गोली लगते ही अमिताभ बुलेट से गिर गए। आस-पास के लोगों की मदद से उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां पर प्राथमिक उपचार के बाद ट्रॉमा सेंटर वाराणसी भेज दिया गया था।
ट्रॉमा सेंटर वाराणसी में उपचार के दौरान आज रात लगभग 02 बजे के आसपास पत्रकार अमिताभ मिश्रा का निधन हो गया। उनके निधन की खबर वायरल ही जनपद के पत्रकारो में शोक छा गया तथा परिवार में कोहराम मच गया है। इस घटना को लेकर अब जनपद की कानून व्यवस्था पर सवाल उठने लगा है। पत्रकार के दुखद निधन की खबर आते ही जौनपुर प्रेस क्लब के लोंगो ने असली हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर सजा दिलाये जानें की मांग उठा दिया है।
घटना के दिन घटना की सूचना पर थाना प्रभारी सहित सीओ सिटी अपर पुलिस अधीक्षक नगर मय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे।जब तक कोई कुछ समझ पाता बदमाश वाराणसी की ओर फरार हो गये। अब पुलिस सीसीटीवी कैमरे आदि के माध्यम से आरोपियों को पकड़ने का प्रयास किया और अमिताभ के निधन की खबर आते ही मिसिर पुर गांव के ही चार लोंगो को गिरफ्तार कर लिया है।जिनसे अमिताभ के परिवार से पुरानी रंजिश भी रही है।लेकिन असली स्कार्पियो सवार हत्यारों तक अभी पुलिस नहीं पहुंच सकी है। बताया जा रहा है कि अमिताभ विभिन्न कार्यालयों में स्टेशनरी से जुड़े सामानों की आपूर्ति करने का काम करते थे। इसके अलांवा टावर आदि बनाने की ठेकेदारी करते रहे है।


हलांकि घटना के बाद अपर पुलिस अधीक्षक नगर ने अपने बयान में बताया था कि बदमाशो की गिरफ्तारी के लिए सीओ सिटी के नेतृत्व में पांच टीमें बनायी गई है जल्द ही घटना का अनावरण होगा और बदमाश जेल की सीखचों में कैद होगे। वहीं घटना के बाद घायल पत्रकार के अधिवक्ता भाई ने किसी भी रंजिश से इनकार किया था। हलांकि इस गोलीकांड से इलाके में दहशत का माहौल है वहीं पुलिस की पुलिसिंग पर सवाल उठ रहे है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कैंसर ने ले ली अपना दल के इस विधायक की जान, पूरी विधान सभा शोक में डूबी

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस ट्वीट से गरमा गया है सियासी गलियारा

जौनपुर के एसपी सहित यूपी के 11 आईपीएस अधिकारियों का तबादला, अजय पाल शर्मा बने एसपी जौनपुर देखे सूची