युवा पीढ़ी को विरासत से जोड़ेगी हेरिटेज गैलरीः प्रो. निर्मला एस.मौर्य



हेरिटेज गैलरी की रूपरेखा पर हुई विस्तार से चर्चा
जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कुलपति सभागार में कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य की अध्यक्षता में सोमवार को संस्कृति निदेशालय, उत्तर प्रदेश के सहयोग से स्थापित होने वाले  हेरिटेज गैलरी को लेकर बैठक हुई। बैठक में काशी हिंदू विश्वविद्यालय के दृश्य कला संकाय के डा. मनीष अरोड़ा बतौर विशेषज्ञ शामिल हुए. विश्वविद्यालय में प्रदेश और क्षेत्रीय समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण एवं प्रोत्साहन करने एवं युवा पीढ़ी को समृद्ध विरासत से जोड़ने के लिए कल्चरल क्लब की स्थापना की गई है। 
विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि हम खासतौर से जनपद और आसपास के जिले की संस्कृति और विरासत को हेरिटेज गैलरी के माध्यम से सामने लाएंगें। उन्होंने कहा कि जिले के विभिन्न क्षेत्रों में पुरस्कार पाने और सम्मानित होने वाले साहित्यकार, लोक कलाकार, विद्वान के चित्र भी गैलरी में लगेंगे। इस अवसर पर डॉ. मनीष अरोड़ा ने विश्वविद्यालय में हेरिटेज गैलरी के कला पक्ष पर विस्तार से चर्चा की. उन्होंने  विश्वविद्यालय में हेरिटेज गैलरी के लिए चयनित विभिन्न स्थानों का निरीक्षण किया साथ ही विस्तृत कार्य योजना तैयार की. जनसंचार विभाग के अध्यक्ष डा. मनोज मिश्र ने भी संस्कृति और विरासत को संजोने के लिए अपने सुझाव व्यक्त किए।उन्होंने कहा कि जौनपुर की लोक संस्कृति एवं रीति रिवाज अवध क्षेत्र की विरासत है हमारी बहुत सी परम्पराएं है  जिसको इसके माध्यम से संजोया जा सकता है।
इस अवसर पर जनसंचार विभाग के असिस्टेंट प्रो. डॉ. दिग्विजय सिंह राठौर ने संस्कृति निदेशालय द्वारा भेजे गए दिशा- निर्देशों और हेरिटेज गैलरी की रूपरेखा को विस्तार से बताया। साथ ही आसपास की संस्कृति से संबंधित कुछ कलाकृतियों को गैलरी में लगाने का प्रस्ताव भी दिया।   इस अवसर पर वित्त अधिकारी संजय कुमार राय, परीक्षा नियंत्रक बी एन सिंह, प्रो. मानस पांडेय, डा. सुनील कुमार, डा. श्याम कन्हैया, डा. लक्ष्मी प्रसाद मौर्य उपस्थित रहे।  

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?