विधि के विद्यार्थी कक्षा तक सीमित न रहे बल्कि गरीब पीड़ित की करें मदत - जिला जज मदन पाल सिंह


जौनपुर। उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार ‘‘आजादी का अमृत महोत्सव’’ के उपलक्ष्य में (02 अक्टूबर 2021 से 14 नवम्बर 2021) तक आयोजित किये जा रहे विधिक जागरूकता/साक्षरता कार्यक्रमों के अतंर्गत आज 14 नवम्बर 2021 को आजादी का अमृत महोत्सव समापन समारोह तिलकधारी विधि महाविद्यालय पीलीकोठी, जौनपुर के मानवेन्द्र विधि ग्रंथालय भव्य कार्यक्रम के साथ प्रारंभ हुआ। 

कार्यक्रम का प्रारम्भ कोर्ट में सिविल एवं पारिवारिक काल्पनिक वादों के माध्यम से छात्र /छात्राओं द्वारा मंचन किया गया। तत्पश्चात् मानवेन्द्र विधि गं्रथालय में कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण माननीय मदन पाल सिंह, नोडल अधिकारी अमृत महोत्सव विशिष्ट अतिथि रमेश दूबे एवं अतिथि ए0डी0जे0 अंजनी कुमार सिंह, अध्यक्ष स्थायी लोक अदालत बुद्धिराम, श्रीमती शिवानी रावत, सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं विशेष अतिथि श्रीमती अपराजिता  सिंह, प्रबन्ध समिति के अध्यक्ष, डा0 प्रकाश सिंह, तथा विधि महाविद्यालय के अध्यक्ष/प्राचार्य डा0 सूर्यप्रकाश सिंह सरस्वती एवं संस्थापक की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजली अर्पित करते हुए दीप प्रज्जवलन के साथ कार्यक्रम प्रारम्भ हुआ। 

मंचाशीन अतिथियों का विधि महाविद्यालय के प्राध्यापकों एवं कर्मचारियों द्वारा माल्यार्पण किया गया। महाविद्यालय के प्रबन्ध समिति के उपाध्यक्ष दुष्यंत सिंह एडवोकेट, बिन्द प्रताप सिंह एडवोकेट, महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डा0 राधेश्याम, वीरेन्द्र प्रताप सिंह एडवोकेट, बी0डी0 सिंह एडवोकेट, बार के पूर्व अध्यक्ष सत्येन्द्र कुमार सिंह तथा विधि महाविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष/प्राचार्यगण डा0 राजमणि मिश्रा, डा0 पी0सी0 विश्वकर्मा, डा0 रामअवतार सिंह, डा0 तेजबहादुर सिंह ने अतिथियों को मालार्पण करते हुए स्वागत किया। एलएल0बी0 एवं एलएल0एम0 के छात्र/छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना एवं स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। महाविद्यालय के अध्यक्ष/प्राचार्य डा0 सूर्यप्रकाश सिंह ने अतिथियों एवं उपस्थित जनों का स्वागत किया। कार्यक्रम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव श्रीमती शिवानी रावत ने आजादी के अमृत महोत्सव के 45 दिनों से चल रहे कार्यक्रमों को क्रमबद्ध ढं़ग से प्रस्तुत किया गया तथा प्रोजेक्टर के माध्यम से दिखाया गया। महाविद्यालय का वार्षिक प्रतिवेदन महाविद्यालय में गठित जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के को-आर्डिनेटर विधिक साक्षरता केन्द्र डा0 सत्येन्द्र कुमार ने प्रस्तुत किया। 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला एवं सत्र न्यायाधीश मदन पाल सिंह ने कहा कि विधि के  विद्यार्थी अपने को कक्षा तक सीमित न रखे तथा निर्धन एवं कमजोर की सहायता करें। कार्य के प्रति निष्ठा एवं ईमानदारी उन्हें एक दिन निश्चित ही पीछे से उठाकर हम लोगों के स्थान पर लायेगी। अपने अध्यक्षीय भाषण में प्रबन्ध तंत्र अध्यक्ष प्रो0 प्रकाश सिंह कहा कि लैण्ड टू लैण्ड प्रोग्राम जिस तरह कृषि के क्षेत्र में क्रांति ला दी थी, उसी तरह न्याय को आम जनों तक पहुॅंचाकर न्याय के क्षेत्र में क्रांति लायी जा सकती है। प्रबन्ध तंत्र के सदस्य एवं वरिष्ठ अधिवक्ता श्री दुष्यंत सिंह ने पूरे कार्यक्रम की समीक्षा प्रस्तुत की एवं श्रीमती अपराजिता सिंह को उनके पति के मृत्यु के बाद उनकी लगभग 2000 विधि पुस्तकों को विधि पुस्तकालय को दान प्रदान करने के लिए कोटी-कोटी धन्यवाद दिया। 

कार्यक्रम का सफल संचालन कार्यक्रम के संयोजक एसो0 प्रो0 राजेश कुमार सिंह ने किया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चाचा भतीजी में हुआ प्यार, फिर फरार, पकड़े जाने पर हुई दैहिक समीक्षा, अब शादी की तैयारी

58 हजार ग्राम प्रधानो को लेकर योगी सरकार ने लिया अब यह फैसला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम