मजदूरों की मजदूरी पर सियासत कर रही है उत्तर प्रदेश सरकार- फैसल हसन



जौनपुर। कांग्रेस कमेटी जिलाध्यक्ष फैसल हसन तबरेज ने प्रदेश सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार अहंकार में डूबी हुई है। उत्तर प्रदेश के लोग भारी संख्या में देश के विभिन्न जगहों में आजीविका के लिए मजदूरी करते हैं। कोरोना महामारी के कारण प्रवासी मजदूरों का देश के अन्य प्रदेशों से उत्तर प्रदेश अपने गांव के लिए पलायन हो रहा हैं सड़कों पर त्राहिमाम मचा हुआ है। उत्तर प्रदेश सरकार मजदूरों की मदद करने की बजाय उनपर लाठियां बरसा रही है।मजदूरों के दर्द को देखकर हमारी नेता राष्ट्रीय महासचिव अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी एवं प्रभारी उत्तर प्रदेश प्रियंका गांधी जी ने कांग्रेस पार्टी के खर्च पर एक हजार बसें संचालित कर पैदल चल रहे प्रवासी मजदूरों को उनके गंतव्य उनके गांव तक पहुंचाने के लिए प्रदेश सरकार से अनुमति मांगा प्रदेश सरकार ने विलम्ब से दिनांक 18 मई 2020 को प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए संचालित होने वाली बसों को अनुमति प्रदान किया लेकिन बसों का उपयोग तत्काल मजदूरों की मदद के लिए करने के बजाय उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के बॉर्डर पर कांग्रेस पार्टी के सहयोग उपलब्ध करायी गयी, बसों को लखनऊ फिटनेस चेक करने के लिए मंगाया जा रहा है फिर उन बसों को पुनः बॉर्डर पर भेजा जाएगा जिससे 2 दिन से ज्यादा वक्त लगेगा। सरकार के पास प्रत्येक जनपद में अपनी आरटीओ संस्थान है कांग्रेस पार्टी द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार को उपलब्ध कराई गई बसों को बार्डर के नजदीक के जनपदों में फिटनेस चेक कराके तत्काल मजदूरों की मदद में लगाई जानी चाहिए। लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार मजदूरों की समस्याओं का समाधान करने की बजाय उनकी मजबूरी पर सियासत कर रही है।उत्तर प्रदेश-राजस्थान बार्डर व आगरा बार्डर पर कांग्रेस पार्टी द्वारा मजदूरों की मदद के लिए उपलब्ध करायी गयी हजार बस खड़ी है लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस कांग्रेस पार्टी द्वारा उपलब्ध कराई गई बसों को प्रदेश में सचिव उत्तर प्रदेश सरकार की अनुमति मिलने के बाद भी घुसने नहीं दे रही है। जो उत्तर प्रदेश सरकार की असंवेदनशीलता का प्रतीक है, प्रदेश सरकार को मजदूर कभी मांफ नही करेगें।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद