हम कृष्ण के वंशज है भाजपा को सत्ता से भगाएंगे और संविधान को बचाएंगे - शिवपाल सिंह यादव


हम कृष्ण के वंशज हैं। कृष्ण और राम हमारे आदर्श हैं। हम सभी धर्म, जाति, ग्रंथ  का बराबर सम्मान करते हैं। यही समाजवाद है। बहस का मुद्दा धर्म नहीं है। अब हमारा आगे का जीवन संविधान बचाने के लिए है। संविधान बचाएंगे और भाजपा को सत्ता से भगाएंगे। यही संकल्प है। इसी दो काम में पूरा जीवन लगाएंगे। इसकी शुुरुआत कर दी है। यह बातें सपा विधायक शिवपाल सिंह यादव ने कही। राष्ट्रीय महासचिव बनने के बाद वह लखनऊ में मीडिया से खास बातचीत कर रहे थे।
शिवपाल सिंह यादव मौजूदा सियासी हलचल और पार्टी के ही एमएलसी स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान से कन्नी काटते नजर आए। फिर इसे स्वामी प्रसाद का निजी बयान बताया। शुद्र के मुद्दे पर चलाई जा रही बहस से पहले बचे और फिर काफी कुरेदने पर समाजवादी विचारधारा की दुहाई दी। कहा यह विचारधारा स्वछंदता का अधिकार देती है। स्वामी प्रसाद और उनके जैसे अन्य लोग अपनी बात रख सकते हैं। जहां तक अखिलेश यादव का सवाल है तो उन्हें धार्मिक कार्यक्रम से रोका जाना गलत है। यह भाजपा की ओछी मानसिकता का परिचायक है। 
अखिलेश यादव और हम सभी का लक्ष्य सिर्फ संविधान बचाना है। यह वक्त भाजपा से लड़ने का है। जहां तक रामचरित मानस का सवाल है तो उसमें जो बातें हमें अच्छी नहीं लगती हैं, उसे नहीं मानना चाहिए। जो अच्छी लगे उसे आत्मसात करें। बहस में उलझने की जरूरत नहीं है। उन्होंने बार-बार धर्म और आदर्श की दुहाई दी। कहा कि भगवान श्रीकृष्ण और राम ने सभी को साथ लेकर चलने का संदेश दिया है। हम दोनों को आदर्श मानते हैं। धर्म की राह पर चलकर ही अधर्म का नाश किया जा सकता है। भाजपा राम का नाम लेती है, लेकिन काम उल्टा करती है। भगवान राम झूठ नहीं बोलते थे। भाजपा उनका नाम लेकर झूठ बोलती है। वे राम को मानते नही हैं बल्कि राम के नाम पर लोगों को भड़काते हैं। संविधान धर्म निरपेक्ष हैं। इसलिए उसे सभी को मानना चाहिए। भाजपा संविधान के उल्टे चल रही है।
सपा राष्ट्रीय महासचिव ने भविष्य की रणनीति का खुलासा किया। कहा कि सभी धर्म एवं जाति के लोगों को एक साथ जोड़कर भाजपा के खिलाफ आंदोलन शुरू करने जा रहे हैं। पश्चिम से लेकर पूर्वांचल तक का दौरा हो चुका है। सपा से दूर होने वाले तमाम वरिष्ठ नेताओं के सवाल पर कहा कि सभी से संपर्क कर रहे हैं। लोगों ने भरोसा दिया है कि साथ आएंगे। जिन लोगों ने दूसरे दल की सदस्यता ले ली है, उन्होंने सोचने का वक्त मांगा है। जिन लोगों ने सदस्यता नहीं ली है। वे फिर से सक्रिय हो गए हैं। अभी तक सपा कार्यालय में नहीं बैठने के सवाल पर मुस्कुराए। फिर दार्शनिक अंदाज में बोले इससे फर्क नहीं पड़ता है। सवाल कहीं बैठने न बैठने का नहीं है। सवाल है कि आपका उद्देश्य क्या है।?मेरा उद्देश्य स्पष्ट है फिर आगे बोले,सभी की इच्छा थी कि पार्टी केराष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ रहें। हम साथ रहे और मैनपुरी जीत गए। आगे भी जीतेंगे। लोकसभा चुनाव में बदलाव दिखेगा।
खुद के सियासी भविष्य और लोकसभा चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि चुनाव लड़ाना पार्टी पार्लियामेंट्री बोर्ड का फैसला होता है। पार्टी का जहां से और जो निर्देश होगा, उसका पालन करेंगे। हर उम्मीदवार को जिताएंगे। अब नेताजी (मुलायम सिंह यादव) नहीं हैं। ऐसे में हम एक तरफ परिवार धर्म निभाएंगे तो दूसरी तरफ नेताजी से जनता के लिए किया गया वादा भी पूरा करेंगे। नेताजी ने कहा था कि हमारे न रहने पर जनता की लड़ाई लड़ना। हम अखिलेश की अगुवाई में लड़ेंगे। परिणाम की परवाह नहीं है। संविधान बचाएंगे और जनता का हक दिलाएंगे।
सपा के राष्ट्रीय महासचिव शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि कार्यकर्ता ही हमारी पूंजी हैं। हम उनका उत्पीड़न नहीं होने देंगे। हर स्तर पर संघर्ष करेंगे। जहां भी उत्पीड़न की घटना हो रही है, वहां पार्टी प्रतिनिधि मंडल पहुंच रहा है। हम खुद जा रहे हैं। अखिलेश यादव भी कई जिलों में जा चुके हैं। यह निरंतर जारी रहेगा। पार्टी कार्यकर्ताओं का हौंसला बुलंद है। उन्हीं केदम पर लोकसभा चुनाव जीतेंगे।
संगठन में भागीदारी के सवाल पर कहा कि उनके साथ जुड़े लोगों को भी मौका मिलेगा। सभी का समायोजन होगा। राष्ट्रीय महासचिव के रूप में उत्तर प्रदेश ही नहीं मध्य प्रदेश व अन्य राज्यों में भी संगठन को नए सिरे से खड़ा करेंगे।

Comments

Popular posts from this blog

बाहुबली नेता एवं पूर्व विधायक के परिवार जनों पर फिर मारपीट और छेड़खानी का मुकदमा हुआ दर्ज, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

सपा ने जारी किया सात लोकसभा के लिए प्रत्याशियों की सूची,जौनपुर से मौर्य समाज पर दांव,बाबू सिंह कुशवाहा प्रत्याशी घोषित देखे सूची

भाजपा के प्रत्यशियो की दसवीं सूची जारी, मछलीशहर से भी प्रत्याशी घोषित देखे सूची