शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली 37 परियोजनाओ को लेकर डीएम ने जारी किया यह आदेश



जौनपुर। शासन के सर्वोच्च प्राथमिकता वाले 37 सूत्रीय विकास कार्यक्रमों की मासिक समीक्षा हेतु सोमवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने निर्देश दिया कि जितनी भी परियोजना चल रही है उन्हें निर्धारित मानक एवं गुणवत्ता के साथ समय से पूर्ण कराएं। प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना, सभी प्रकार की पेंशन योजनाएं, इत्यादि योजनाओं एवं कार्यक्रमों की विस्तार से समीक्षा की।  जिलाधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि निराश्रित पशु आश्रय स्थल में तिरपाल, बोरों की व्यवस्था कर ली जाए। पशु चिकित्सा अधिकारी प्रतिदिन पशु आश्रय स्थलो का निरीक्षण करें। पीएम स्वनिधि के प्रगति की समीक्षा की और कहा कि शत-प्रतिशत लक्ष्य पूर्ण करे।जिलाधिकारी ने सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिया कि वृहद अभियान चलाकर रात में भी साफ सफाई के कार्य कराए जाएं। जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिया कि ग्रामीण क्षेत्र की प्रमुख बाजारों में भी अभियान चलाकर सफाई कार्य कराए जाएं। उन्होंने कहा कि दुकानदारों से डस्टबिन रखने के लिए कहा जाए और न रखने वालों को नोटिस देने की कार्यवाही की जाए। जिलाधिकारी ने उपनिदेशक कृषि से उर्वरको की उपलब्धता के संबंध में जानकारी प्राप्त की और निर्देश दिया कि जनपद में उर्वरकों की कमी न होने पाए। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी सीचसी वाले ग्राम सचिवालय में ही बैठे और न बैठने वालों पर कार्यवाही करने के भी निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में एक जगह चिन्हित कर कपड़ा बैंक बनाया जाए, जहां पर लोग अपने पुराने कपड़े, कंबल इत्यादि दान कर सके जिसके लिए उन्होंने पीओ डूडा अनिल वर्मा को नोडल बनाया है। सभी अधिशासी अधिकारी रैन बसेरो को ऐक्टिव कर आवश्यक व्यवस्था करा ले। कोई भी बाहर सोते न मिले।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी आरडी यादव, उपायुक्त मनरेगा भूपेंद्र सिंह सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन