फर्जी प्रमाण पत्रो के सहारे शिक्षक बनने वाले 20 शिक्षको की जांच शुरू,एसटीएफ कर रही है जांच

 

जौनपुर। जनपद जौनपुर के परिषदीय स्कूलों के 20 संदिग्ध शिक्षकों को एसटीएफ ने चिन्हित करते हुए एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने  बीएसए को पत्र भेजकर सभी का शैक्षिक और  प्रशिक्षण संबंधित अभिलेख मांगा है। पत्र आते ही जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डाक्टर गोरखनाथ पटेल ने संबंधित ब्लाकों के खंड शिक्षा अधिकारियों (बीईओ) को पत्र भेजकर अविलंब अभिलेखों की प्रमाणित छायाप्रति कार्यालय में उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। उनका पत्र आते ही फर्जी दस्तावेजो के जरिए नौकरी पाने वालों में हड़कंप मचा हुआ है। 
यहां बता दे कि जनपद के प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालयों में अरसे से फर्जीवाड़ा का खेल चल रहा है। फर्जी शैक्षिक व प्रशिक्षण का अभिलेख लगाकर शिक्षक बनने वालों की लंबी फेहरिस्त है। ऐसे शिक्षकों के खिलाफ समय-समय पर जांच की जाती है। पकड़े जाने पर ऐसे शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई भी होती है। इसके बावजूद फर्जीवाड़े का खेल जारी है। 
इसी क्रम में एसटीएफ ने 20 संदिग्ध शिक्षकों को चिन्हित करके अभिलेख मांगा है। बीएसए ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को दो दिसंबर को पत्र भेजकर अविलंब अभिलेखों की प्रमाणित छायाप्रति कार्यालय में उपलब्ध कराने को कहा है। निर्देश दिया है कि यदि कोई शिक्षक अभिलेख देने में हीलाहवाली करता है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति कर मुझे प्रेषित करें, अन्यथा वह खुद जिम्मेदार होंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

यूपी में फिर 11 आईएएस अधिकारियों का तबादला, देखे सूची