लोकसभा चुनाव में गजब का सियसी खेल सुबह भाजपाई तो शाम को फिर कांग्रेसी, जानें पूरी कहांनी

सियासत के खेल ऐसे भी होता है।सुबह कही तो शाम कही जी हां बृहस्पतिवार को अमेठी में एक अलग नजारा देखने को मिला। सुबह भाजपा ने दावा किया कि केंद्रीय मंत्री स्मृति जूबिन इरानी की मौजूदगी में कांग्रेस सोशल मीडिया के प्रदेश सह समन्वयक विकास अग्रहरि ने भाजपा का दामन थाम लिया है। यह खबर तेजी के साथ सियासी गलियारे में फैल गई। हालांकि शाम को कांग्रेस भवन में प्रेस वार्ता आयोजित कर विकास अग्रहरि ने कहा कि वह अमेठी सांसद से सिर्फ शिष्टाचारवश मिलने गए थे, भाजपा में शामिल होने की बात को उन्होंने सिरे  से खारिज किया है। कहा कि वह पूरी तरह से कांग्रेस के साथ है।
भाजपा प्रवक्ता चंद्र मौलि सिंह ने दावा किया था कि केंद्रीय महिला एवं बाल विकास व अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री स्मृति जूबिन इरानी की मौजूदगी में कांग्रेस के प्रदेश सह समन्वयक विकास अग्रहरि ने बृहस्पतिवार को भाजपा का दामन थाम लिया है। भाजपा जिलाध्यक्ष राम प्रसाद मिश्र ने विकास अग्रहरि को पार्टी में शामिल करते हुए उन्हें पटका भी पहनाया। इसका फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ।
इसके बाद शाम को ही पूर्व एमएलसी दीपक सिंह ने कांग्रेस कार्यालय में प्रेस वार्ता का आयोजन किया। जहां जगदीशपुर के रानीगंज निवासी विकास अग्रहरि ने बताया कि वह बृहस्पतिवार की सुबह शिष्टाचार वश सांसद स्मृति ईरानी से मिलने उनके आवास पर गए थे, जहां भाजपा जिलाध्यक्ष राम प्रसाद मिश्र ने राम मंदिर प्रसाद स्वरूप भगवा गमछा उनके गले में डाल दिया। सांसद आवास से बाहर आने पर मीडिया के माध्यम से पता चला कि उन्हें भाजपा ज्वाइन करा दिया गया है। जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है। वह पूरी तरह से कांग्रेस के साथ है। वे आत्मा से कल भी कांग्रेस में थे आज भी हैं, आगे भी कांग्रेस में ही रहेंगे।
भाजपा जिलाध्यक्ष राम प्रसाद मिश्र ने कहा कि विकास बृहस्पतिवार की सुबह भाजपा ज्वाइन करने के लिए ही आए थे, जिसके चलते उन्हें पार्टी में ज्वाइन कराया गया। शाम तक वह किसी के बहकावे में आकर वापस हो गए हैं। कहा कि अब आगे से जिसे पार्टी में ज्वाइन कराया जाएगा, उसका लिखित व रिकॉर्ड बयान भी रखा जाएगा।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?