डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को सपा देगी कड़ी टक्कर दिलीप कुमार पटेल का नाम आगे,जानें कौन है दिलीप

 
 सिराथू से डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या के सामने सशक्त प्रत्याशी उतारने के लिए सपा ने नए सिरे से मंथन शुरू कर दिया है। पार्टी के प्रदेश कार्यालय से शुक्रवार को दिलीप पटेल का बुलावा भी आने की खबर है। सियासी गलियारे में चर्चा है कि 25 तक दिलीप के नाम पर फैसला हो सकता है। इसके पहले पूर्व कबीना मंत्री इंद्रजीत सरोज के नजदीकी आनंद मोहन पटेल का नाम आगे चल रहा था।
डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या को भाजपा ने उनके ही गृह क्षेत्र की सिराथू विधान सभा से प्रत्याशी उतारा है। इसी के साथ सिराथू जिले की हाट सीट बन गई है। इस सीट पर अभी तक सपा के कदद्दार नेता और पूर्व कबीना मंत्री इंद्रजीत सरोज के नजदीकी सरांय अकिल क्षेत्र के कनैली निवासी आनंद मोहन पटेल का नाम आगे चल रहा था। एकाएक सपा हाई कमान ने डिप्टी सीएम के सामने सशाक्त प्रत्याशी उतारने का मन बना लिया।
सपा प्रदेश अध्यक्ष ने भेजा बुलावा
आनंद मोहन के नाम के साथ बाहरी होने का तमगा लगा होने से पार्टी  ने किसी स्थानीय पटेल बिरादरी के नेता को अपना चेहरा बनाने का मन बनाया तो दिलीप पटेल के पास लखनऊ से लेकर मैनपुरी तक से फोन घनघनाने लगे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि उन्हें सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने शुक्रवार को प्रदेश कार्यालय आने का बुलावा भेजा। शुक्रवार को प्रदेश कार्यालय में इसे लेेकर मैराथन बैठक हुई।
सूत्रों का कहना है कि पूर्व कबीना मंत्री इंद्रजीत सरोज आनंंद मोहन के लिए एड़ी चोटी की ताकत लगाए हुए हैं। उनकी इच्छा है कि आनंद मोहन ही सिराथू में पार्टी के चेहरा बने तो अच्छा होगा। पर, हाईकमान उनकी बातों से कितना संतुष्ट है। इस बात का फैसला 25 जनवरी तक होने की संभावना है। दिलीप पटेल के पक्ष में तर्क दिया जा रहा है कि वह क्षेत्र में अपने समाज के सर्व मान्य नेता के रूप में स्थापित हैं।
भाजपा शासनकाल में उनका उत्पीडन ब्लाक प्रमुख चुनाव में हुआ है। इससे आहत पटेल समाज पूरी ताकत के साथ उनके साथ खड़ा होगा। इस बाबत सपा जिलाध्यक्ष दयाशंकर सिंह यादव का कहना है कि पार्टी हाई कमान जो फैसला करेंगा, वह मान्य होगा। प्रत्याशी कौन होगा,इस सवाल का जवाब नहीं दे सकते हैं। वह यह भी कहते हैं कि राजनीति में कुछ  कहा नहीं जा सकता है।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन