शाहगंज विधान सभा का प्रतिनिधित्व सात बार कांग्रेस और चार बार सपा ने किया, दो बार खिला कमल


जौनपुर। शाहगंज विधानसभा सीट पर इस बार रोचक मुकाबला देखने को मिलेगा। इस सीट पर इस बार 4 लाख एक हजार 222 मतदाताओं को मतदान करने का मौका मिलेगा। इसमें 2 लाख 7 हजार 399 पुरुष और एक लाख 93 हजार 800 महिला और 23 थर्ड जेंडर मतदाता है। वहीं, चुनावी इतिहास पर नजर करें तो इस विधानसभा सीट से लगातार सात बार कांग्रेस के बैनर तले चुनाव लड़ने वाले विधायक बने थे जिसमें पूर्व राज्यपाल स्वर्गीय माता प्रसाद अकेले पांच बार विधायक चुने गये थे। 
बात अगर पहले विधानसभा चुनाव की करें तो साल 1952 से शाहगंज (सु) सीट रही और पहली बार 1952 में कांग्रेस से बाबू नंदन इस सीट से विधायक बने थे। इसके बाद लगातार पांच बार 1657, 1962, 1967, 1969, 1974 में माता प्रसाद कांग्रेस से विधायक बने थे। 1977 में जनता पार्टी के छोटेलाल निर्भर कांग्रेस के लगातार छह चुनाव से चले आ रहे विजय रथ को रोकने वाले पहले नेता बने थे। लेकिन 1980 में हुए अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने सातवीं बार फिर से अपनी सीट पर कब्जा जमा ली थी,पहलवान रावत विधायक बने थे। मगर, 1985 में हुए चुनाव में उसे हार के सामना करना पड़ा, फिर आज तक इस सीट पर कांग्रेस का कोई प्रत्याशी अब तक नहीं जीत सका है। हालांकि हर बार की तरह इस बार भी जीत के लिए रणनीति के तहत काम कर रही है। वहीं, बात अगर भाजपा की करें, तो इस सीट पर दो बार 1991 और 1996 में ही कमल खिला था। बसपा, जद जैसे दल भी एक-एक बार इस सीट पर जीत दर्ज कर सके हैं, जब कि साल 2002 से लगातार इस सीट पर समाजवादी पार्टी का कब्जा रहा है। दो बार शाहगंज सु से जगदीश सोनकर विधायक रहे। लेकिन 2012 में परिसीमन के बाद शाहगंज विधानसभा सामान्य हो गयी और तभी से लगातार सपा अपना दबदबा कायम रखे है और शैलेंद्र यादव ललई विधायक बने है। 

आजादी के बाद शाहगंज (सु) से हुए चुनाव में ये रहे विजेता

1952- बाबू नंदन (कांग्रेस)
1957-माता प्रसाद (कांग्रेस)
1962 माता प्रसाद (कांग्रेस)
1967-माता प्रसाद (कांग्रेस)
1969- माता प्रसाद (कांग्रेस)
1974-माता प्रसाद (कांग्रेस)
1977-छोटेलाल निर्भय (जपा)
1980-पहलवान रावत (कांग्रेस)
1985-दीपचंद्र सोनकर (दमकिया)
1989 -दीप चंद्र सोनकर (जद)
1991-राम पारस रजक (भाजपा)
1993-राम दवर (बसपा)
1996-बांकेलाल सोनकर (भाजपा)
2002-जगदीश सोनकर (सपा)
2007-जगदीश सोनकर (सपा)

2012 में परिसीमन के बाद शाहगंज हुई सामान्य सीट से सपा का कब्जा 

2012-शैलेंद्र यादव ललई (सपा)
2017- शैलेंद्र यादव ललई (सपा)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ