लोकार्पण पर सवाल आखिर अधूरे मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण क्यों- श्याम सिंह यादव सासंद जौनपुर

 

जौनपुर। राजकीय मेडिकल कॉलेज के लोकार्पण को लेकर अब जनपद में आवाज उठने लगी है कि आनन फानन में अपूर्ण मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण प्रधानमंत्री जी द्वारा करने के पीछे क्या रहस्य छिपा है। कहीं यूपी विधानसभी के चुनाव में बढ़त लेने के लिए अधूरे मेडिकल कॉलेज के लोकार्पण की प्रक्रिया पूरी कर दी गयी है। 
इस मुद्दे को लेकर जौनपुर के सासंद श्याम सिंह यादव ने सवाल खड़ा किया है कि जब नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) ने पहले जौनपुर राजकीय मेडिकल कॉलेज के बाबत अपनी आख्या जारी कर दिया कि इस मेडिकल कॉलेज का मानक पूरा नहीं और इसका लोकार्पण नहीं हो सकता है तो फिर दो दिन के अन्दर ऐसा क्या हो गया कि आनन फानन में मेडिकल कॉलेज के लोकार्पण की तैयारी शुरू हो गयी और प्रधानमंत्री जी लोकार्पित कर दिया। 
श्री यादव ने कहा कि लोकार्पित जौनपुर का मेडिकल कॉलेज आज भी निर्माणाधीन स्थिति में हे। न तो इस मेडिकल कॉलेज में अभी स्टाफ की व्यवस्था की गयी है। नही छात्रो को पढ़ाने के लिए डाक्टर की व्यवस्था पूरी तरह से हो पायी है नही इन्फ्रास्ट्रक्चर ही पूरी तरह से तैयार हो सका है। यहां तक कि कालेज के अन्दर जाने वाले रास्ते तक अधूरे है। फिर भी बीते 25 अक्टूबर को राजकीय मेडिकल कॉलेज लोकार्पित हो गया। उन्होंने यह भी कहा इस मेडिकल कॉलेज के मुद्दे को लेकर तीन बार लोकसभा में उठा चुका हूँ। श्री यादव ने कहा कि अधूरे मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण केवल जनता के साथ एक धोखा ही कहा जा सकता है। 
श्री यादव ने मीडिया को भी सवालों के कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि मीडिया को भय मुक्त हो कर जनता को सच्चाई बताना चाहिए लेकिन मीडिया के लोग भी चन्द स्वार्थो के लिए सत्ता की गुलामी करते है यह देश और समाज के लिए अत्यंत ही दुःखद स्थिति है। उन्होंने कहा कि लोकार्पण के नाम पर प्रधानमंत्री जी ने जनता की गढ़ी कमायी के 10 से 12 रूपये का नुकसान किया है। लेकिन सच यह है कि इस लोकार्पण से आवम को कोई लाभ नहीं हो सका है। 
एक बात और भी कहा कि जौनपुर के राजकीय मेडिकल कॉलेज में लोकार्पण के बाद न तो ओपीडी शुरू हो सकी है नही छात्रों के प्रवेश आदि की व्यवस्था शुरू होने की कोई स्धिति बन रही है। नही बेड आदि जरूरी उपकरण मशीने आदि यहां पर लगी सकी है। लोकार्पण के लिए भले ही कुछ कमरो का रंग रोगन करा दिया था लेकिन सच यही है कि आज भी जौनपुर का मेडिकल कॉलेज लगभग 50 प्रतिशत अपूर्ण अधूरा है जिसे बनकर तैयार होने में काफी लग सकता है लेकिन चुनाव में उपलब्धियां गिनाने के लिए मानक न पूरा होने के बाद भी लोकार्पित कर दिया गया है। सासंद श्याम सिंह यादव ने यह भी कहा कि लोकसभा का सदन चलने पर इस मुद्दे को जरूर उठाया जायेगा कि अधूरे मेडिकल कॉलेज के लोकार्पण का औचित्य क्या है आवाम को बताया जाना चाहिए। 

टिप्पणियाँ

  1. बात तो शतप्रतिशत सही है। दूसरे यह मेडिकल कॉलेज कोई बीजेपी की उपलब्धि नहीं है बल्कि देखा जाए तो बीजेपी ने इसे पूरा होने से रोक कर के रखा है। पिछली सरकार के समय में शुरू हुआ था और बीजेपी के लोगों को पूर्व की सरकारों में आरंभ कराए गए कामों में कोई रुचि नहीं थी क्योंकि उन्हें लगता था कि यह सब अछूतों द्वारा शुरू किया गया कार्य है।
    इस मानसिकता के लोग जो किसी न किसी स्वार्थ में अंधाधुंध ऐसे काम कर रहे हैं जिनका इन से कोई लेना देना नहीं है यह स्पष्ट तौर पर जाहिर होता है कि भाजपा जन विरोधी सरकार है और जनता के लिए सुविधाएं मुहैया कराना उसका कोई उद्देश्य नहीं है कहीं ऐसा ना हो कि इस अस्पताल को भी अपने किसी पूंजीपति साथी को बेच दिया जाए यह आशंका बनी रहेगी और इस पर नजर रखना चाहिए किसी भी पूंजीपति को यह मेडिकल कॉलेज जो जनता के पैसों से बना है नहीं जाने देना चाहिए अगर इस सत्य को समझते हुए सांसद महोदय इसको रोकने में कामयाब हो पाएंगे तो निश्चित तौर पर जौनपुर के लिए यह मेडिकल कॉलेज सौगात होगा आज नहीं तो कल यह पूरा होगा ही और जनता के उपयोग के लिए अपना महत्त्व दर्ज कराएगा।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ड्रेस के लिए बच्चे को पीटने वाला प्रिन्सिपल अब पहुंचा सलाखों के पीछे

14 और 15 दिसम्बर 21को जौनपुर रहेंगे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव,जानें क्या है कार्यक्रम

ओमिक्रॉन से बढ़ी दहशत,पूर्वांचल के जनपदो में भी मिलने लगे संक्रमित मरीज,प्रशासनिक तैयारी तेजम