आम जनमानस को लाभ मिले न मिले सरकारी विभागो में ऐसे चल रहा है कागजी बाजीगरी का खेल



जौनपुर। योजनाओ का लाभ आम जनमानस को मिले न मिले लेकिन अपनी और विभाग की पीठ थपथपाने के लिए सरकारी विभागो द्वारा कागजी बाजीगरी का खेल धड़ल्ले से चल रहा है जिले के आला हुक्मरान जन हितो को दृष्टिगत रखकर कार्य करने के बजाय सरकारी विभागो के साथ हां जी  हां जी कर रहे है। तभी तो सरकार की योजनाये कागज के पन्नो तक सिमट कर रह गई है।
ताजा मामला सिंचाई विभाग का सामने आया है। विभाग के अधिकारियों का दावा है कि सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग, उत्तर प्रदेश के अन्तर्गत नलकूप -वाराणसी परिक्षेत्र के नियन्त्रणाधीन नलकूप मण्डल, वाराणसी/लघु डाल नहर खण्ड, जौनपुर के कुल 14 पम्प कैनालों पर जल शक्ति मन्त्री स्वतंत्र देव सिंह के निर्देश के क्रम में 06 अगस्त 2023 को ‘‘चलो नहर की टेल’’ कार्यक्रम के तहत सभी पम्प कैनालों पर चौपाल का आयोजन किया जा रहा है।
चौपाल के माध्यम से पानी के बचाव एवं उपयोगिता, हेड के कृषकों से माँग के अनुसार पानी मिलने, टेल के कृषकों से जल उपलब्धता के आधार पर फसलों का चयन, पम्प कैनाल की सुरक्षा तथा ओसराबन्दी के अनुसार कृषकों को सिंचाई हेतु जल उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में कृषकों से सीधे संवाद/चर्चा की गयी। हलांकि विभाग के अधिकारी इसके पीछे कागजी बाजीगरी का बृहद खेल कर रहे है। अपनी पीठ थपथपाने के लिए चार छह किसानो के साथ बैठकर फोटोग्राफी कराके मुख्य जिम्मेदारी से मुक्त हो रहे है।
विभाग का खेल समझिए छह किसान पूरे जिले के लाखो किसानो की समस्याओं के निराकरण हेतु बहुमूल्य सुझाव दे रहे है उसे 
प्राप्त कर विभाग सिंचाई प्रबन्धन का दावा कर रहा है। चौपाल कार्यक्रम में अधीक्षण अभियन्ता, नलकूप मण्डल, वाराणसी, अधिशासी अभियन्ता, नलकूप खण्ड, वाराणसी / लघु डाल नहर खण्ड, जौनपुर एवं नलकूप अनुरक्षण खण्ड, वाराणसी तथा अधीनस्थ सहायक अभियन्ता/उपराजस्व अधिकारी/अवर अभियन्ता/ जिलेदार /सींचपर्यवेक्षक एवं सींचपाल आदि के विशेष सहयोग का दावा विभाग के अधिकारी अधिशासी अभियन्ता लघु डाल हरीशचन्द्र तिवारी कर भी रहे है।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?