यूपी पुलिस की आपातकालीन सेवा 112 में पुरानी कंपनी के कर्मियों की होगी छुट्टी, नई कंपनी से एग्रीमेंट


यूपी पुलिस की आपातकालीन सेवा यूपी-112 में अगले सप्ताह तक नई सेवा प्रदाता कंपनी के सारे आउटसोर्स कर्मी तैनात कर दिए जाएंगे। वहीं आंदोलनरत रहे पूर्व कर्मचारियों को भी कंपनी दोबारा काम पर बुला सकती है। पुरानी कंपनी के 673 कर्मियों में से 158 ने नई कंपनी को अपनी सेवाएं देने का फैसला लिया है।
एडीजी यूपी-112 नीरा रावत ने बताया कि बीते दिनों टेक महिंद्रा कंपनी के कर्मचारियों द्वारा आंदोलन करने के बाद विभिन्न जिलों में तैनात रहे करीब 300 पुलिसकर्मियों को बुलाकर आपातकालीन सेवाओं का संचालन जारी रखा गया था। ये सभी पूर्व में यूपी-112 में कार्यरत होने की वजह से प्रशिक्षित थे, जिसकी वजह से सेवाओं में बाधा नहीं आई। नई कंपनी वी-विन की ओर से अब तक 409 कर्मियों को तैनात किया जा चुका है, 100 कर्मी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं।
उन्होंने बताया कि नई कंपनी का चयन जेम पोर्टल के जरिये किया गया है। पुरानी कंपनी अपने कर्मियों को अर्द्ध प्रशिक्षित मानकर 10,303 रुपये प्रतिमाह भुगतान कर रही थी। जबकि नई कंपनी ने उनको प्रशिक्षित कर्मी के रूप में ज्वॉइन करने के लिए ऑफर लेटर दिया। जिसमें उनको 12,661 रुपये प्रतिमाह का भुगतान करने तथा पीएफ समेत कई अन्य सुविधाएं देने का आश्वासन दिया गया है।
एडीजी यूपी-112 नीरा रावत ने बताया कि दीपावली पर तीन दिनों के दौरान यूपी-112 में करीब 66 हजार शिकायतें आई थी, जिनका निस्तारण किया गया। हेल्पलाइन पर होली और दीपावली के दौरान सबसे जयादा शिकायतें आती हैं, जिसकी वजह से जिलों में तैनात पुलिसकर्मियों की ड्यूटी भी यूपी-112 में लगाई गई।
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस बार अपने विक्रमादित्य मार्ग स्थित निवास पर डायल 112 की संघर्षरत बहनों के साथ दीपावली मनाई। सपा अध्यक्ष ने उन्हें आश्वस्त किया कि समाजवादी पार्टी डायल 112 की बहनों के संघर्ष की आवाज बनेगी। साथ ही इस संवेदनात्मक संकल्प के दीप भी जलाए कि उनके साथ, बिना किसी दुर्भावना के सच्चा न्याय सुनिश्चित हो। उन्होंने कहा कि कैसी विडंबना है कि दीप पर्व पर जब हर घर में लक्ष्मी जी का आवाह्न किया जाता है, भाजपा ने हमारी बहन, बेटी स्वरूपा लक्ष्मी को घरों से बाहर बारिश और ठंड में बैठने के लिए मजबूर कर दिया। भाजपा सरकार ने अपनी हृदयहीनता का क्रूर प्रदर्शन किया है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद