पत्नी को नामांकन करते ही पूर्व सांसद एवं बाहूबली नेता धनन्जय सिंह के पुलिस का छापा


जौनपुर। पूर्व सांसद एवं बाहूबली नेता धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला रेड्डी द्वारा  जिला पंचायत सदस्य के लिए विकास खण्ड सिकरारा के वार्ड संख्या 45 से नामाकंन दाखिल करने के पश्चात ही जौनपुर की पुलिस ने एस पी सिटी एवं सीओ सिटी के नेतृत्व में कई थानों की पुलिस ने धनन्जय सिंह के शहर स्थित कालीकुत्ती आवास पर जबर जस्त छापे मारी किया गया है। पुलिस के इस छापा मारी से हड़कंप मच गया है। 
पुलिस सूत्र की माने तो यह छापा मारी लखनऊ स्थित विभूति खण्ड थाना क्षेत्र में जनपद मऊ के पूर्व प्रमुख अजीत सिंह हत्या काण्ड अभियुक्त के रूप में वान्छित होने के कारण पुलिसिया कार्यवाही के दबाव में आ कर आत्मसमर्पण कर  जेल गये पूर्व सांसद धनन्जय सिंह अभी चन्द रोज पहले ही फतेहगढ़ सेन्ट्रल जेल से गुपचुप  रिहा हो कर बाहर आये थे। 
आज जब पत्नी श्रीकला रेड्डी ने जिला पंचायत सदस्य का नामांकन पत्र दाखिल किया तो उसके तत्काल बाद ही पुलिस ने छापा मारी शुरू कर दिया। हलांकि धनन्जय सिंह अपने आवास पर नहीं मिले लेकिन पुलिस वहां उपस्थित उनके लोगों से पूंछताछ करने के बाद खाली हाथ वापस लौट गयी। लेकिन पुलिस की तलाश से एक फिर धनन्जय सिंह के लोगों में खासा हड़कंप मच गया है। 
इस छापा मारी के बाबत पुलिस के अधिकारी कुछ बोलने से परहेज करते हुए केवल इतना कहते हैं कि धनन्जय सिंह अजीत हत्या काण्ड में वान्छित अभियुक्त है। यहां बतादे कि धनन्जय सिंह जब तक फतेहगढ़ की सेन्ट्रल जेल में कैद थे तब तक पुलिस उनके खिलाफ अजीत सिंह हत्या काण्ड के बाबत वारंट बी जेल में नहीं दाखिल किया था जिसका लाभ धनन्जय सिंह ने उठाया और बहुत ही गोपनीय ढंग से जौनपुर के थाना खुटहन की घटना मे अपनी जिस जमानत बान्ड को निरस्त करा कर जेल गये थे उसी में पुनः जमानत बान्ड दाखिल कर बाहर निकल गये और बाहर भूमिगत हो गये है। आज की कार्यवाही से संकेत साफ है कि अब पुलिस फिर उनके गिरफ्तारी के अभियान में लग गयी है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज

यूपी के गांव में जमीनी विवाद खत्म करने के सरकार ने बनायी यह योजना,नहीं होगी मुकदमें की नौबत