गरीब एवं मजलूमों के मसीहा थे मरहूम अहमद हसन - प्राचार्य डॉ अब्दुल कादिर खान



ईमानदार अधिकारी एवं पूर्व मंत्री मरहूम अहमद हसन को याद किया गया

जौनपुर। मोहम्मद हसन ग्रुप ऑफ़ कॉलेजेज में पूर्व मंत्री के निधन की खबर प्राप्त होते ही शोक संवेदना व्यक्त की गई। मोहम्मद हसन ग्रुप आफ कॉलेजेज के सभी संस्थानों में पठन-पाठन स्थगित कर दिया गया । प्राचार्य डॉ अब्दुल कादिर खाॅन ने उनको याद करते हुए कहा कि पूर्व मंत्री स्वास्थ्य एवं बेसिक शिक्षा मरहूम अहमद हसन साहब एक ईमानदार अधिकारी और सियासतदान थे ग़रीबो एवं मजलूमों के मसीहा कहे जाते थे उनके इंतेक़ाल से हम सबने एक बेहतरीन सरपरस्त खो दिया मरहूम मोहम्मद हसन कालेज से पुराना रिश्ता रहा एवंम हर तरह से हमेशा मदद एवंम सहयोग दिया कालेज हमेशा उनका एहसानमन्द रहेगा अल्लाह उनके दरजात में बुलंदी अता करे और तमाम अहले ए खाना को सब्र जमील अता करे और उनको अल्लाह जन्नत नसीब करें।

                     यादगार फोटो 

उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग डीआईजी गोरखपुर से रिटायर्ड होने के बाद राजनीतिक सफर 1994 से शूरु किया।आज उनके इंतेकाल की खबर आते ही कॉलेज में गम के बादल छा गए और शिक्षण कार्य बन्द कर दिया गया। शोक कार्यक्रम के मौके पर कॉलेज परिवार सभी सदस्य एवं छात्र छात्राएं मौजूद रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

जौनपुर में शादी का झांसा देकर किशोरी से दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज पुलिस जांच में जुटी

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात