सुभासपा के ओमप्रकाश राजभर का एलान भाजपा से हो गया गठबन्धन, राजभर का दावा यूपी से विपक्ष होगा गायब

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी 2024 में लोकसभा चुनाव यूपी में भाजपा के साथ मिलकर लड़ेगी। इसका एलान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने रविवार कर दिया है। उन्होंने इस संबंध में शनिवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से दिल्ली में मुलाकात की थी और रविवार को गठबंधन का एलान कर दिया है। इस निर्णय से यूपी में भाजपा अपने 'मिशन 80' की एक मजबूत सफलता मान रही है।
गठबंधन का एलान करने के साथ राजभर ने कहा कि सामाजिक न्याय देश की रक्षा- सुरक्षा सुशासन वंचितों, शोषितों, पिछड़ों, दलितों, महिलाओं, किसानों, नौजवानों, हर कमजोर वर्ग को सशक्त बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी मिलकर लड़ेगी। सुभासपा और भाजपा का गठबंधन होने से एनडीए को मजबूती मिलेगी और मोदी जी के नेतृत्व में एनडीए द्वारा गरीबों व वंचितों के कल्याण हेतु किए जा रहे प्रयासों को और बल मिलेगा।
उन्होंने कहा कि फिलहाल भाजपा से सुभासपा के गठबंधन का एलान हो चुका है। जो कुछ मुद्दे रह गए है उस पर 18 जुलाई की बैठक में बात होगी। उन्होंने कहा कि धर्म सिंह सैनी बहुत जल्द हमारे साथ दिखेंगे। उन्होंने कहा कि यूपी में अब विपक्ष नहीं रह गया है। लोकसभा चुनाव में एनडीए की लड़ाई अब किसी से नहीं है।
इस मौके पर उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर भी निशाना साधा और कहा कि अखिलेश पिछड़े नेताओ को लोडर बनाकर रखना चाहते हैं और भाजपा लीडर बनाकर रखती है इसलिए हमने दोबारा भाजपा को चुना है। सपा ने लंबे समय तक किसी पिछड़े को नेता नहीं बनने दिया।
उन्होंने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह से दिल्ली में भेंट हुई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन में शामिल होने का निर्णय लिया। ओम प्रकाश राजभर 2022 में सपा के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़े थे। हालांकि, चुनाव पक्ष में न होने पर वह सपा से अलग हो गए थे। इसके बाद से ही उनके भाजपा से हाथ मिलाने के कयास लगाए जा रहे थे।राजभर के भाजपा में शामिल होने पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने खुशी जताई है और ट्वीट कर कहा कि एनडीए में भाजपा के पुराने साथी राजभर का स्वागत है।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?