कोरोना काल में आम मरीजों का उपचार करने के बजाय जबानी जमा खर्च से लोकप्रिय हो रहे प्राइवेट चिकित्सक




जौनपुर। कोरोना संक्रमण काल में प्राइवेट चिकित्सक जिला प्रशासन के साथ बैठके करके भले ही जन सेवा का ताल ठोंकते है लेकिन सच ठीक इसके विपरीत नजर आता है। कोरोना काल में इन दिनों आम जनता पीड़ित मरीज को लेकर प्राइवेट अस्पताल के दरवाजे पर एड़िया रगड़ती नजर तो आ रही है लेकिन उनका उपचार करने से प्राइवेट चिकित्सक करने के बजाय घरों में कैद हो गये हैं। यहां तक कि लगभग सभी चिकित्सकों ने अपने मोबाइल  को भी स्वीच आफ कर लिया है ताकि किसी से सम्पर्क न हो सके अन्यथा मदद् करनी पड़ सकती है ।
हाँ एक काम  जरूर नजर आ रहा है कि सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का उपक्रम करने के साथ ही आपदा में अवसर तलाशते हुए प्राइवेट चिकित्सक धनोपार्जन का नया तरीका इजाद जरूर कर लिया है। जो इन दिनों समाज में खासा चर्चा का बिषय बना हुआ है। कोविड 19 के लिये अधिकृत अस्पतालों के चिकित्सक तो वेड तक बेंचने का खेल बड़े ही शातिराना अंदाज में करते नजर आ रहे है। जबकि आम जनता के लिए इनके पास वेड खाली ही नहीं रहता है ।
यहां बतादे कि जहां तक सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का सवाल है तो इन दिनों देखा जा रहा है कि लगभग प्रतिदिन प्राइवेट चिकित्सकों की विज्ञप्तियां सरकारी नेटवर्क के जरिए मीडिया तक पहुंचाया जा रहा है। जिसमें कोरोना संक्रमण से बचने के उपाय बताये  जा रहे हैं। सर्जन से लेकर एमडी तक सभी डाक्टर लगभग थोड़ा परिवर्तन करके अपने संदेश जनता तक मीडिया के जरिये पहुंचा कर अपनी लोकप्रियता और चर्चा तो करा ले रहे हैं प्रशासन की नजर में खुद को स्थापित कर ले रहे हैं। लेकिन भौतिक धरातल पर जो स्थिति इनकी मरीजों के उपचार को लेकर है वह अत्यंत ही दुःखद एवं  निराशाजनक स्थिति है। मरीज अपने उपचार के लिए फोन मिलता है तो स्वीच आफ की मिलता है। 
अभी चन्द दिवस से इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन के बैनर तले चिकित्सक गण कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरूकता अभियान के तहत लगभग प्रतिदिन कई प्राइवेट चिकित्सकों ने कोरोना संक्रमण से बचाव के तरीके बताये और ताल भी ठोंका कि कोरोना हारेगा हम जीतेगे जनता को डट कर सामना करने की जरूरत है। इस तरह के संदेश प्रसारित करने वाले चिकित्सकों में अभी तक नेत्र सर्जन डाॅ एन के सिंह, डाॅ बी एस उपाध्याय, डाॅ अरूण कुमार मिश्रा, डाॅ एच डी सिंह  ,सर्जन डाॅ ए ए जाफरी का नाम शामिल है। संदेश दे कर अपनी लोकप्रियता और चर्चा तो करा रहे हैं लेकिन मरीजों का उपचार नहीं कर रहे हैं। 
खबर यह भी मिली है कि जनपद जौनपुर में कोविड 19 के लिए अधिकृत आधा दर्जन प्राईवेट अस्पतालों में आम सामान्य मरीज को वेड नहीं दिया जा रहा है नहीं उनको आक्सीजन दी जा रही है जबकि प्रशासन खास कर स्वास्थ्य विभाग के शीर्ष अधिकारी दावा करते हैं कि आक्सीजन सभी अस्पतालों में उपलब्ध है। यहां आपदा में अवसर के फार्मूले को अख्तियार करते हुए अस्पताल के वेड पर अपने खास कार्यकर्ता को आई डी प्रमाण पत्र के साथ कोरोना पाजिटिव कराके वेड पर लिटा कर प्रशासन को वेड फुल होने की रिपोर्ट दे देते है। लेकिन जैसे ही कोई मोटा असामी मोटी धनराशि देने वाला मरीज आ जाता है तो चिकित्सक जी अपने कार्यकर्ता को निगेटिव की रिपोर्ट लेकर डिस्चार्ज करते हुए मोटे असामी को भर्ती ले लेते है। इस तरह चिकित्सक को खासी आमदनी भी हो जा रही है और सरकारी स्तर पर आल इज ओके बना हुआ है। 
प्राइवेट चिकित्सकों के इस चेहरे की चर्चा अब आम जनता के बीच में होने लगी है। मरीज अब इन बड़े डिग्री धारी चिकित्सकों के पास जाने के बजाय नीम हकीम खतरे जान जैसे डाक्टरों से सम्पर्क कर अपना इलाज कराने को मजबूर हो गये है। इस तरह कोरोना संक्रमण काल में नामी गिरामी चिकित्सकों की आम जनता के प्रति कितनी जबाब देही है सहज अनुमान लगाया जा सकता है। 

Comments

  1. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने बैठक करके कुछ दिनों पहले अखबारों में विज्ञापन देने से मना कर दिया था आज सस्ती लोकप्रियता covid-19 के बैनर के नाम पर free of cost कमाने के चक्कर में लगे हैं कोरोना मरीजों के के नाम पर महामारी जैसी आपदा बताकर जिला प्रशासन एवं अन्य विभागों के लोग विज्ञापन और समाचार विज्ञप्ति में अंतर भूल गए हैं पत्रकार न टॉप फ्रंटलाइन कोरोना fighter ही हैं सरकारी आंकड़ों में और ना ही कोविड संक्रमित होने पर कोई सरकारी सुविधा मिलेगी अपनी जान जोखिम में डालकर दिन रात पत्रकार सड़क पर जूझ रहा है ऐसे समय में स्वाभिमानी पत्रकार बंधु अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा करें

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष ने खुद को गोली मार कर की आत्महत्या, घर में मच गया कोहराम कार्यकर्ता हैरान

जानिए जौनपुर की दोनो लोकसभा क्षेत्र से भाजपा का सूपड़ा साफ होने के लिए जिम्मेदार कौन थे

भीषण दुर्घटना एक परिवार के आठ सदस्यो की दर्दनाक मौत, पुलिस ने किया विधिक कार्यवाई, इलाके में कोहराम