आय कर के बाद अब शराब माफिया के गोदाम कार्यालय पर एस आई टी का छापा


जौनपुर। आय कर विभाग के बाद अब शराब माफिया व्यवसायी ओम प्रकाश जायसवाल के शराब गोदाम और कार्यालय पर आज एसआईटी की टीम ने सुबह लगभग 08 बजे से छापामार कर गहन छानबीन कर रही लगभग पूरे दिन शराब गोदाम और कार्यालय एस आई टी के कब्जे में रहा। इस छापामारी के चलते अन्दर फंसे कर्मचारीगण न बाहर जा सके नही बाहर से कोई अन्दर प्रवेश कर सका है ।अधिकारी पूरे दिन अभिलेखों को खंगालते नजर आये है। 
सूत्र की माने तो शराब माफिया ओमप्रकाश जायसवाल के शराब का कारोबार सहारनपुर से जुड़ा हुआ है। सहारनपुर शराब कारोबार में राजस्व घोटाले के बाबत दर्ज मुकदमे मे जौनपुर के शराब व्यवसायी ओम प्रकाश जायसवाल के प्रबंधक संतलाल भी अभियुक्त है और वर्तमान में जिले से फरार चल रहे है। खबर यह भी है कि शराब कारोबार के लिए बना लाईसेंस निरस्त होने के बाद भी अवैध तरीके से जौनपुर शराब लायी गयी थी। इसीलिए सहारनपुर फैक्ट्री के उपर दर्ज मुकदमें में जौनपुर का भी नाम शामिल रहा। वर्तमान में लाईसेंस किसके नाम है लेकिन खबर है कि आबकारी विभाग द्वारा इस शराब माफिया को बचाने का भी जतन किया गया था।
यहां बता दे कि विगत मई 21 में भी एस आई टी ने छापामारी किया था उसी समय शराब माफिया के एस एल टू का गोदाम सील कर दिया गया था। इसके बाद अब फिर छापामारी करते हुए कार्यालय के प्रबंधक को कब्जे में लेकर गहन पूछताछ करते हुए अभिलेखों को देखा जा रहा है। इस संदर्भ में अधिकारी से लेकर शराब व्यवसाय से जुड़े लोग कुछ बोलने से परहेज कर रहे है। लेकिन एस आई टी की टीम द्वारा पूरे दिन की जा रही जांच इतना तो संकेत करती है कि बड़ा घोटला संभावित है। 
सूत्र तो यह बता रहे है कि जनपद के थाना सरायख्वाज क्षेत्र में जिस जहरीली शराब के सेवन से आधा दर्जन लोंगो की मौत हुई थी वह शराब सहारनपुर से जिले के शराब माफिया ओमप्रकाश जायसवाल ने मंगाया था। एस आई टी इसकी भी छानबीन कर रही है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज

यूपी के गांव में जमीनी विवाद खत्म करने के सरकार ने बनायी यह योजना,नहीं होगी मुकदमें की नौबत