शिक्षा समिति की बैठक में डीएम ने अधिकारियों को दिया यह शख्त निर्देश


जौनपुर। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में जिला शिक्षा समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा बेसिक शिक्षा विभाग के द्वारा कराए जा रहे डाटा फीडिंग एवं कायाकल्प के तहत कराए जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा की और बेसिक शिक्षा अधिकारी डा. गोरखनाथ पटेल को निर्देश दिया कि यू-डायस पर डाटा फीडिंग का कार्य बहुत गंभीरता से किया जाए। आंकड़ों में गड़बड़ी करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी।
जिलाधिकारी द्वारा सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि विद्यालयों के पुरातन छात्रों से संपर्क कर उनसे कायाकल्प के लिए प्रेरित किया जाए। जिलाधिकारी द्वारा कहा गया कि पुरातन छात्रों की मीटिंग कराई जाए जिससे बच्चो को उनसे मिलकर प्रेरणा मिले।
जिलाधिकारी ने कहा कि सभी अधिकारी एक विद्यालय को गोद ले और उसका कायाकल्प कराएं। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हिमांशु नागपाल के द्वारा 10 विद्यालयों में डेस्क-बेंच दिए जाने पर जिलाधिकारी ने प्रशंसा की और कहा कि अन्य अधिकारी भी इस पुनीत कार्य में आगे आए। बेसिक शिक्षा अधिकारी से कहा कि जनपद के व्यापारियों, पेट्रोल पंप एसोसिएशन, गैस एजेंसी, ग्राम प्रधानों को भी इस कार्य में जोड़ा जाए।
उन्होंने कहा कि प्रत्येक न्याय पंचायतों में डिस्कवरी लैब बनाई जाए और ताहिरपुर में बने डिस्कवरी लैब का अवलोकन करने का निर्देश सभी खंड विकास अधिकारियों को दिया।
बच्चों में क्वालिटी एजुकेशन, उनके लर्निंग लेवल में वृद्धि कैसे हो इसके संबंध में विस्तार से चर्चा की और आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि परिषदीय विद्यालयों में भी कार्य योजना बनाकर छात्राओं को ताइक्वांडो का प्रशिक्षण दिया जाए और जो छात्राएं अच्छे से सीखे उन्हें आगे भी भेजने का कार्य किया जाएगा।बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि प्राइवेट स्कूलों और मदरसों की डाटा फीडिंग अवश्य करा लें और जनपद में स्मार्ट क्लासेस जिस विद्यालय में चल रही हैं उसकी फीडिंग हो जाए। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हिमांशु नागपाल सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन