आईएएस अधिकारी रेणुका कुमार का वीआरएस सरकार ने किया स्वीकार


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 1987 बैच की आइएएस अधिकारी रेणुका कुमार के भारतीय प्रशासनिक सेवा से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) के आवेदन को मंजूरी दे दी है। केंद्र सरकार से यूपी लौटने के बजाय रेणुका कुमार ने अगस्त महीने में सरकार से वीआरएस मांगा था। रेणुका कुमार का रिटायरमेंट जून 23 में होना था।
उत्तर प्रदेश कैडर की आइएएस अधिकारी रेणुका कुमार केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय में सचिव पद पर तैनात थीं। केंद्र सरकार ने बीती जुलाई में उनकी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति को समाप्त कर उन्हें उनके मूल काडर में वापस करने का आदेश जारी किया था। उत्तर प्रदेश वापस आने की बजाय रेणुका कुमार ने बीते अगस्त माह में आइएएस से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन किया था। मुख्यमंत्री ने उनके वीआरएस के आवेदन को स्वीकृत कर दिया है। 
रेणुका कुमार वर्ष 1987 बैच की आइएएस अफसर हैं। वह केंद्र में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में सचिव के पद पर तैनाती थीं। वह यूपी से 30 जून 2021 को केंद्र गई थीं। 28 जुलाई, 2022 को अचानक उन्हें उत्तर प्रदेश के लिए कार्यमुक्त कर दिया गया था। बताया जा रहा है कि इसके बाद ही उन्होंने वीआरएस के लिए आवेदन किया था। उनकी सेवानिवृत्ति जून 2023 में है। रेणुका कुमार के पति सुनील कुमार भी दिल्ली में तैनात हैं।
आइएएस अफसर रेणुका कुमार की गिनती योगी सरकार के पंसदीदा अफसरों में होती है। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने के बाद रेणुका कुमार अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय जैसे अहम विभाग में सचिव पद पर तैनात थी। जून, 2021 में केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने से पहले रेणुका योगी सरकार में कई अहम पदों पर तैनात थीं। उनके पास बेसिक शिक्षा और राजस्व जैसे अहम विभागों की जिम्मेदारी थी। योगी सरकार में रेणुका ने वन एवं पर्यावरण, महिला कल्याण और खनन जैसे अहम विभागों की भी जिम्मेदारी संभाली। 
2018 में नियामक आयोग का चेयरमैन बनाए जाने के बाद आइएएस आरपी सिंह ने वीआरएस लिया।
सितंबर, 2019 में 1993 बैच के आइएएस अफसर राजीव अग्रवाल ने वीआरएस लिया और कॉरपोरेट जॉइन किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जानिए मुर्गा काटने के दुकान से कैसे मिला गुड्डू की लाश,पुलिस कर रही है जांच

बिजली विभाग बड़े बकायेदारो से बिल की वसूली कराये - डीएम जौनपुर

मंत्री गिरीश चन्द यादव का अखिलेश यादव पर जबरदस्त पलटवार,दे दिया केन्द्रीय मंत्री बनाने का आफर