पूर्व मंत्री अरविन्द सिंह गोप के भाई का निधन, शुभचिंतकों में शोक की लहर


पूर्व कैबिनेट मंत्री अरविंद कुमार सिंह गोप के बड़े भाई अशोक कुमार सिंह का मंगलवार रात हार्ट अटैक से निधन हो गया। वह 59 वर्ष के थे। अशोक सिंह वर्ष 2015 में निर्विरोध जिला पंचायत अध्यक्ष चुने गए थे। बाराबंकी के सिविल लाइन स्थित आवास पर रात करीब एक बजकर 30 मिनट पर उन्हें दिल का दौरा पड़ा। जब तक उन्हें परिवारजन अस्पताल ले जाते, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। अपने सरल स्वभाव के कारण विपक्षी पार्टियों के नेताओं से भी उनके अच्छे संबंध थे।
अशोक सिंह वर्तमान में सुबेहा के नरौली में एसबीएस इंटर कालेज संचालित करा रहे थे। इनके एक बेटा हर्षित सिंह और एक बेटी सौम्या सिंह हैं। बेटी का विवाह हो चुका है। पूर्व मंत्री अरविंद सिंह गोप बताते हैं कि बहुत बुरा समय है। कुछ दिन पहले गुरु मुलायम सिंह यादव को खोने के बाद बड़े भाई का जाना बेहद कष्टकारी है। वह चुनाव में सुबह से लेकर रात तक गांव-गांव जाकर लोगों को जोड़ते थे। उनकी संवाद शैली सभी को जोड़े रखने वाली थी। लोगों की समस्याओं को दूर कराने के लिए भी वह तत्पर रहते थे। अशोक सिंह का अंतिम संस्कार बुधवार को साढ़े 12 बजे कमरिया भाग स्थित श्मशान घाट पर किया जाएगा।
अरविंद सिंह गोप ने कहा कि भाई अशोक सिंह ने उन्हें हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। वह जीत हार को समान मानकर जनता की सेवा को ही सर्वोच्च स्थान देने की बात कहते थे। हर कदम पर उनका समर्थन मिला। परिवार की जिम्मेदारी भी वह बखूबी निभाते थे।


अशोक सिंह जरूरतमंदों की मदद के लिए हमेशा खड़े रहे। त्रिशूल सेवा संस्थान के जरिए उन्होंने कई निर्धन परिवार की बेटियों का विवाह कराया। गांवों में नेत्र शिविर लगाकर कई लोगों की आंखों का आपरेशन कराया। स्कूल में भी कई बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दे रहे थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जानिए मुर्गा काटने के दुकान से कैसे मिला गुड्डू की लाश,पुलिस कर रही है जांच

बिजली विभाग बड़े बकायेदारो से बिल की वसूली कराये - डीएम जौनपुर

मंत्री गिरीश चन्द यादव का अखिलेश यादव पर जबरदस्त पलटवार,दे दिया केन्द्रीय मंत्री बनाने का आफर