पीयू में आनलाइन प्रमाणपत्र,माइग्रेशन देने की व्यवस्था बन्द, जानें अब छात्रों की क्या है परेशानी


जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय की ऑनलाइन प्रमाणपत्र और माइग्रेशन उपलब्ध कराने की सुविधा कुछ ही सालों में दम तोड़ दी है। परीक्षा समिति और कार्य परिषद की बैठक के बाद छात्रों के लिए यह व्यवस्था लागू की गई थी। जिसके तहत छात्रों को तीन मिनट के भीतर प्रमाणपत्र मिल जाता था, लेकिन यह व्यवस्था बंद होने से छात्र विश्वविद्यालय का चक्कर काटने को विवश हैं।
छात्रों को डिग्री और माइग्रेशन के लिए विश्वविद्यालय का चक्कर न लगाना पड़े इसके लिए पांच वर्ष पूर्व तत्कालीन कुलपति प्रो. पीयूष रंजन अग्रवाल ने छात्रों को ऑनलाइन डिग्री और माइग्रेशन सुविधा देने का खाका तैयार किया था। इसके लिए परीक्षा समिति एवं कार्य परिषद की बैठक में भी सभी सदस्यों ने सहमति जताई थी। पूर्व कुलपति प्रो. राजाराम यादव ने पांच जून 2017 को इस सुविधा को अंतिम रूप दिया। छात्रों को ऑनलाइन डिग्री व माइग्रेशन सुविधा देने के लिए राज्य मंत्री गिरीश चंद्र यादव के हाथों शुरुआत करा दी। जिससे गैर जनपद व देश विदेश में रहकर इस के लाभ लेने वालों को काफी राहत मिल गई। उन्हें डिग्री व माइग्रेशन के लिए विश्वविद्यालय के दौड़ लगाने से निजात मिल गई थी। लेकिन यह सुविधा पिछले कई महीनों से ठप पड़ी है। जिसके चलते हर दिन सैकड़ों छात्र वश्विविद्यालय का चक्कर काट रहे हैं।
इस संदर्भ में पूर्वांचल विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक वीएन सिंह का कथन है कि एजेंसी बदलने के कारण ऐसी समस्या आ रही है। जल्द ही नई एजेंसी आने के बाद प्रोविजनल और माइग्रेशन की सुविधा ऑनलाइन पुन: शुरू करा दी जाएगी। साथ-साथ सभी छात्रों का डाटा भी उस एजेंसी के पास होगा।

Comments

Popular posts from this blog

पूर्व सांसद धनंजय सिंह के प्राइवेट गनर को गोली मारकर हत्या इलाके में कोहराम पुलिस छानबीन में जुटी

सपा ने जारी किया सात लोकसभा के लिए प्रत्याशियों की सूची,जौनपुर से मौर्य समाज पर दांव,बाबू सिंह कुशवाहा प्रत्याशी घोषित देखे सूची

लोकसभा चुनाव के लिए बसपा की चौथी सूची जारी, जानें किसे कहां से लड़ा रही है पार्टी, देखे सूची