माता पिता की सेवा न करने वाला आखरत में गुनाह का है हकदार - मौ. शेख हसन जाफर



जौनपुर । क़दम रसूल छोटी लाइन इमामबाड़े भंडारी रेलवे स्टेशन पर रविवार की शाम  राष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी  मरहूम सै.इकबाल क़मर  की प्रथम पुण्यतिथि पर आयोजित मजलिस को खिताब करते  मौलाना शेख हसन जाफर ने कहा कि वाल्दैन की खिदमत करने से बड़ा पुण्य कुछ भी नही है । जिस इंसान ने अपने माता पिता की सेवा नहीं की वो दुनियां मे भी ठोकरे खायेगा और आखरत में भी गुनाह का हकदार होगा । 

मौलाना ने कहा कि हज़रत मोहम्मद साहब ने अपनी बेटी फातिमा ज़हरा को अपने जिगर का टुकड़ा करार दिया  था,हजरत फातिमा को तकलीफ देना रसूल को कष्ट देने जैसा है,बावजूद इसके हुकूमत ने उनपर ज़ुल्म ढाया यहाँ तक की उनके घर के दरवाजे को जला दिया गया फ़ातिमा बीबी ने अपने इस्लाम को ज़िंदा रखने के लिये सारी तकलीफ सही पर उफ़ तक नही किया। मजहब-ए-इस्लाम को हम तक लाने वाले का नाम हजरत मोहम्मद है। वहीं दीन-ए-मोहम्मदी को परवान चढ़ाने वाले का नाम हजरत अली है और दीन- ए -इस्लाम को बचाने वाली हैं  बीबी फातिमा। जनाबे  फातिमा ने समाजी जिंदगी के पहलू को जमाने पर इतना उजागर किया कि औरतें सीरते फातिमा पर चलने लगीं। अगर आज भी उनके बताए रास्ते पर चला जाए, तो किसी घर में आपसी मनमुटाव नहीं हो सकता। इस मौके पर शाहिद मेंहदी, नेहाल हैदर आज़म ज़ैदी,कैफ़ी रिज़वी,ऐजाज हुसैन,सै.गौहर अली ज़ैदी,डॉ सज्जाद मेंहदी,फरमान हैदर,आज़मी मेंहदी,कुमैल मेहंदी,मोहम्मद,महताब हुसैन, सोनी, सहित अन्य लोग मौजूद थे। सै.हसनैन कमर ,अफ़रोज़ कमर ने आभार प्रकट किया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

मनीष हत्याकांड का आरोपी 01लाख रुपए का इनामी, जौनपुर निवासी दरोगा विजय यादव हुआ गिरफ्तार, एसआईटी की पूंछताछ जारी