फैक्ट्री मालिक की लाश पेड़ से लटकती मिलने से मच गयी सनसनी, छानबीन में जुटी पुलिस


लखनऊ। राजधानी लखनऊ स्‍थि‍त सरोजनीनगर में दारोगा खेड़ा नहर के पास रविवार को लापता फैक्ट्री मालिक अविनाश सिंह का शव मफलर के सहारे पेड़ से लटका मिला। आशंका जताई जा रही है कि अविनाश सिंह की हत्या कर लाश को लटकाया गया था। पुलिस हत्या और आत्महत्या के बीच उलझी हुई है। पीजीआइ थाने में अविनाश की गुमशुदगी दर्ज थी। इंस्पेक्टर पीजीआइ आशीष कुमार द्विवेदी का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। सभी बिंदुओं पर पुलिस छानबीन कर रही है।
पुलिस का गैर जिम्मेदाराना बयान - बोली खुद करो पति की तलाश
यहां बता दे कि मूलरूप से सोनभद्र जिले के ओबरा निवासी अविनाश सिंह यहां परिवार के साथ वृंदावन योजना सेक्टर चार में रहते थे। अविनाश सरोजनीनगर स्थित अमौसी औद्योगिक क्षेत्र में नेक्स्ट जेन फूड प्रोडक्ट के नाम से नमकीन की फैक्ट्री चलाते थे। अविनाश की पत्नी निधि कटियार के मुताबिक, अविनाश रोज की तरह अपनी स्विफ्ट डिजायर कार से शनिवार सुबह करीब आठ बजे घर से फैक्ट्री गए थे। शाम करीब 6:15 बजे अविनाश ने फोन कर फैक्ट्री से घर के लिए निकलने की बात बताई थी। शनिवार रात आठ बजे तक अविनाश घर नहीं पहुंचे। निधि का कहना है कि देर होने पर उन्होंने अविनाश को फोन किया, लेकिन दोनों नंबर बंद जा रहे थे। काफी प्रयास के बावजूद जब संपर्क नहीं हुआ तो निधि को अनहोनी की आशंका हुई और उन्होंने घरवालों को इसकी जानकारी दी। परिवारजन ने अविनाश की खोजबीन शुरू की, लेकिन देर रात कुछ पता नहीं चला। इसके बाद घरवालों ने पीजीआइ थाने में अविनाश की गुमशुदगी दर्ज कराई। आरोप है कि पीजीआइ थाने की पुलिस ने खुद से खोजबीन करने की बात कही और कोई कार्रवाई नहीं की। 
मफलर के सहारे लटकता मिला पति का शव: 
रविवार को दारोगाखेड़ा नहर किनारे से फैक्ट्री के मजदूर काम पर जा रहे थे। तभी उन्होंने जंगल में शीशम के पेड़ से मफलर के सहारे एक युवक का शव लटकता देखा। पेड़ पर शव लटका देख वहां लोगों की भीड़ जुट गई। इसके बाद कुछ मजदूरों ने शव की शिनाख्त फैक्ट्री मालिक अविनाश सिंह के रूप में की। पुलिस ने छानबीन शुरू की तो करीब 50 मीटर दूर अविनाश की कार खड़ी मिली। एडीसीपी पूर्वी सैयद मोहम्मद कासिम व एसीपी कृष्णा नगर हरीश भदौरिया के अलावा पीजीआइ थाने की पुलिस ने डॉग स्क्वाड व फिंगरप्रिंट विशेषज्ञों की मदद से पड़ताल शुरू की। इस दौरान डॉग स्क्वाड 200 मीटर दूर से वापस लौट आया। फॉरेंसिक टीम ने अविनाश की कार, शव और घटनास्थल के आसपास साक्ष्य संकलन किए हैं। गंदे थे कपड़े, शक गहराया: छानबीन में पता चला कि अविनाश के कपड़े गंदे थे। शर्ट पर मिट्टी लगी थी। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि अविनाश का किसी से विवाद हुआ था। हालांकि, पुलिस अभी इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं बता पा रही है। 
कार में मिलीं शराब की बोतलें: 
अविनाश की कार में शराब की कुछ बोतलें भी मिली हैं। इससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि अविनाश के साथ शनिवार रात में कुछ और लोग भी मौजूद थे। पुलिस सर्विलांस की मदद से अविनाश की कॉल डिटेल रिकॉर्ड खंगाल रही है। यह पता लगाया जा रहा है कि अविनाश की आखिरी बार किससे बात हुई थी? 
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उठाए सवाल: 
व्यापारी के लापता होने की जानकारी मिलने पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट कर पुलिस कमिश्नरेट व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए। उन्होंने लिखा कि राजधानी में शनिवार से एक व्यापारी के लापता होने की खबर ने कारोबारियों को भयभीत कर दिया है। यूपी में पुलिस कमिश्नर की नई प्रणाली कानून व्यवस्था के मामले में पूरी तरह फेल है। 
घटना का राजफाश करें, नहीं तो होगा आंदोलन: 
स्मॉल इंडस्ट्री मैन्यूफैक्चर एसोसिएशन ने 52 घंटे के भीतर मामले का राजफाश करने की मांग की है। आरोप है कि अविनाश की हत्या की गई है और पुलिस इसका जल्द राजफाश नहीं करती है तो एसोसिएशन बड़ा आंदोलन करने पर बाध्य होगा। एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि व्यापारियों के साथ इस तरह की घटना से लोगों में खौफ है। इंडस्ट्रीयल एरिया में पुलिस चौकी तो बनी है, लेकिन वहां कोई सिपाही नहीं मौजूद रहता है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज

यूपी के गांव में जमीनी विवाद खत्म करने के सरकार ने बनायी यह योजना,नहीं होगी मुकदमें की नौबत