आयुष्मान कार्ड और इलाज में लापरवाही पर डीएम ने लगाई कड़ी फटकार,जन्म मृत्यु पंजीयन पर जोर

 


जौनपुर। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में कलक्ट्रेट सभागार में स्वास्थ्य विभाग की बैठक सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी द्वारा जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र के पंजीकरण पर अत्यधिक जोर दिया गया। उन्होंने कहा कि जिस तरह की सक्रियता की जरूरत है, उतनी सक्रियता इस मामले में नहीं दिख रही है। उन्होंने निर्देशित किया कि कितने बच्चों का जन्म हुआ और कितने लोगों की मृत्यु हुई इसकी जानकारी रखे। जन्म, मृत्यु दर आंकड़े जितने सही होंगे उतना ही योजनाओं का लाभ सही व्यक्ति तक पहुंचाने में सहूलियत मिलेगी। इसलिए इसका शत-प्रतिशत रजिस्ट्रेशन अति आवश्यक है। इस संदर्भ में किसी भी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों को सुचारू रूप से संचालित करने के निर्देश दिये। उन्होंने निर्देशित किया कि जितने भी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों क्रियाशील में है उसकी रंगाई-पोताई कराते हुए समस्त आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराना सुनिश्चित की जाये और उन्हें एक आदर्श स्वास्थ्य सुविधा केंद्र के रूप में स्थापित किया जाये। प्राथमिक उपचार की सुविधाएं यदि अपने या पड़ोस के गांवों में मिलेंगी तो इससे बड़ी सहूलियत होगी। इन सेंटरों पर नियमित टीकाकरण, गर्भवती व बच्चों को जांच-उपचार की सुविधा, किशोर-किशोरियों की स्वास्थ्य समस्याओं का निस्तारण किया जाना चाहिए।


 जिलाधिकारी ने कहा कि हर समय कोविड संक्रमण पर नियंत्रण के लिए सतर्कता जरूरी है। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न करे। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देशित किया कि बाहर से आने वाले यात्रियों का आरटीपीसीआर और एंटीजन जांच अवश्य की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी आयु वर्ग का कोविड टीकाकरण शत-प्रतिशत कराये जाने पर भी जोर दिया जिससे संक्रमण के प्रसार पर प्रभावी नियंत्रण बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि जांच की क्षमता को पूर्व की भाति तीव्र किया जाय और कोरोना प्रोटोकाल का पालन कराना सुनिश्चित करे। 


 जिलाधिकारी ने आयुष्मान योजना में कार्ड और ईलाज में समस्त अधीक्षकों को प्रगति खराब होने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस आयोजित होंगे इसके लिए 27 जून से 10 जुलाई तक दंपति संपर्क पखवाड़ा जिसमे आशा और आगनवाड़ी घर घर जाकर रजिस्ट्रेशन करेगी तथा 11 जुलाई से सभी स्वास्थ केंद्रों तथा जिला अस्पताल पर पुरुष और महिला नशबंदी कैंप आयोजित होंगे। 


इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी भू-राजस्व, मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, जिला सूचना अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सहित समस्त अपर मुख्य चिकित्साधिकारी (एसीएमओ) एवं स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन