अग्निपथ योजना के विरोध की आंच पहुंची जौनपुर, छात्रो द्वारा तोड़फोड़ चक्का जाम, घन्टो रूकी ट्रेने


जौनपुर।  भारतीय सेना में चार साल की भर्ती प्रक्रिया के तहत केन्द्र सरकार की अग्निपथ योजना को लेकर देश के युवा देश भर में हंगामा मचाये हुए है। योजना के विरोध की आंच आज जौनपुर पहुंच गयी। सेना में भर्ती के लिए दिन रात एक करने वाले बेरोजगार छात्र युवाओ ने सुबह से लाइन बाजार चौराहा पर वाराणसी -लखनऊ राजमार्ग पर चक्का जाम और तोड़फोड़ करते हुए आगजनी किया यहां तक कि सिटी स्टेशन पहुंच कर ट्रेन रोकने का भी प्रयास किया।युवाओ के आन्दोलन को देख कर प्रशासन भी सक्रिय हुआ और भारी मशक्कत के बाद छात्र युवाओ से उनकी मांगो का ज्ञापन लेकर सरकार को भेजने के वादे के साथ आन्दोलन को शान्त कराया है।


खबर है कि आज अचानक जौनपुर स्थित वाजिदपुर तिराहे पर 250 से अधिक युवा इकट्ठा होकर चक्का जाम कर दिए और सरकार विरोधी नारे बाजी करते हुए अग्निपथ योजना वापस करने की मांग करने लगे। युवाओ की बढ़ती भीड़ देखकर प्रशासन एक बार तो सकते में आ गया छात्र उपद्रव शुरू कर दिये पथराव करते हुए अपने विरोध प्रदर्शन के तेज करने लगे थे। छात्रो को रोकने के लिए सुरक्षा बल को तत्काल लगाया गया। इतना ही नहीं लाइन बाजार के बाद विरोधी युवाओ का एक बड़ा ग्रुप सिटी स्टेशन पर पहुंच कर रेल की पटरी पर बैठ गया था।
छात्रो के इस आन्दोलन से कुछ देर के लिए वाराणसी-जौनपुर मार्ग पर वाहनों की लगी लंबी लाइन लग गई थी। कंट्रोल रूम की सूचना पर सुरक्षा की दृष्टिकोण से जगह-जगह ट्रेनें रोक दी गई हैं। श्रीकृष्ण नगर रेलवे स्टेशन पर बेगमपुरा एक्सप्रेस को रोक दी गई है। इसके अलावा इंदौर से कामाख्या जाने वाली कामाख्या एक्सप्रेस ट्रेन को सवा नौ बजे से रोक दिया गया है। इससे यात्री गण खासे परेशान नजर आये।
छात्रो के विरोध प्रदर्शन के बीच ज्वाइंट मजिस्ट्रेट/एसडीएम सदर हिमांशु नागपाल और एसपी सिटी संजय कुमार पुलिस बल के साथ प्रदर्शन स्थल पर पहुंचे और बड़ी कोशिश के बाद प्रदर्शन कारी युवा छात्रो को समझाने में कामयाब रहे और अश्वस्त किया कि छात्र अपनी लिखित मांग दें उचित फोरम तक पहुंचा दिया जायेगा। इसके बाद आन्दोलित युवा छात्रो से ज्ञापन लिया और छात्र वापस लौट गये। यहां बता दे कि सिटी स्टेशन पर ट्रेन रोकने गये छात्रो ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सरकार सांसद विधायक निधि को बन्द करे और देश की रक्षा के लिए पुरानी व्यवस्था से सेना में भर्ती कराये। हमें टीओडी सिस्टम नहीं चाहिए इसे वापस लिया जाये। प्रशासन के अधिकारी किसी भी क्षति से इनकार करते हुए कहते है छात्र अपनी मांग को लेकर सड़क पर आये जरूर लेकिन कोई सरकारी क्षति नहीं हुई है। छात्रो की मांग सरकार तक पहुंचा दी जायेगी।ला एण्ड आर्डर की कोई समस्या अब जनपद में नहीं सब कुछ ठीक कर लिया गया है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी